लाइव टीवी

MP में मिलावटी पाए गए 35 प्रतिशत से अधिक नमूने, कड़ी कार्रवाई के निर्देश

Pooja Mathur | News18 Madhya Pradesh
Updated: January 13, 2020, 8:40 PM IST
MP में मिलावटी पाए गए 35 प्रतिशत से अधिक नमूने, कड़ी कार्रवाई के निर्देश
मंत्री तुलसी सिलावट ने बताया कि विभाग जन जागरुकता रैलियों का आयोजन करेगा

मंत्री तुलसी सिलावट (Tulsi Silavat) ने सोमवार को खाद्य सुरक्षा विभाग की समीक्षा बैठक ली. बैठक में बताया गया कि मिलावट (Adulteration) के खिलाफ कार्रवाई जारी है. मंत्री सिलावट ने बताया कि 'शुद्ध के लिये युद्ध अभियान' में अभी तक लिये गए नमूनों में से 35 प्रतिशत से अधिक अमानक स्तर के पाये गये हैं

  • Share this:
भोपाल. लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री तुलसी सिलावट ने बताया कि अमानक नमूनों (Adulterated samples) को लेकर संबंधित दुकानदारों के खिलाफ कार्रवाई के निर्देश दिए गए हैं. अब तक 41 मिलावटखोरों के खिलाफ रासुका (NSA) की कार्रवाई की गई है. अधिकारियों को सिलावट ने अभियान को जारी रखने के निर्देश देते हुए कहा कि अभियान (Campaign) में लापरवाही बरतने वाले अधिकारियों के विरूद्ध निलंबन तक की कार्यवाही की जाएगी. मंत्री सिलावट ने निर्देश दिये कि मिलावटखोरों के विरूद्ध प्रत्येक महीने की गतिविधियों का कैलेण्डर बनाकर अधिकारी कार्यवाही करें और अमानक पाए गये खाद्य पदार्थों के नमूनों में की गई दण्डात्मक कार्यवाही की जानकारी आम जनता को भी टाइम टू टाइम दें.

31 को ग्वालियर, 2 फरवरी को जबलपुर में जन-जागरूकता रैली
मंत्री सिलावट ने संभाग एवं जिला स्तर पर शुद्ध के लिये युद्ध अभियान में जन-जागरूकता रैलियों के आयोजन का भी निर्देश दिया. उन्होंने कहा कि इस रैली में संबंधित जिले के प्रभारी मंत्री के साथ-साथ गणमान्य नागरिकों और आमजनों की अधिक से अधिक भागीदारी सुनिश्चित की जाए. उन्होंने कहा कि पहले संभाग स्तर पर रैली का आयोजन किया जाए, उसके बाद जिला स्तर पर रैली निकाली जाए. मंत्री सिलावट ने समीक्षा के दौरान ग्वालियर में 31 जनवरी, जबलपुर में 2 फरवरी और रीवा में 3 फरवरी को जन-जागरूकता रैली आयोजित करने के निर्देश दिए हैं.

भोपाल में पहली माइक्रो बायोलॉजी लैब जल्द

बैठक में संयुक्त नियंत्रक खाद्य सुरक्षा डी के नागेन्द्र ने बताया कि प्रदेश की पहली माइक्रो बायोलॉजी लैब इसी महीने भोपाल में शुरू की जाएगी. उन्होंने बताया कि प्रदेश के 5 संभागों में एक साल के अंदर सरकारी परीक्षण लैब भी शुरू कर दी जाएगी. बैठक में बताया गया कि शुद्ध खाद्य पदार्थों को लेकर जागरूकता बढ़ाने के लिये जिला स्तर पर स्कूलों-कॉलेजों में निबंध, भाषण और नाटक प्रतियोगिताओं का आयोजन कराया जा रहा है.

ये भी पढ़ें -
MPPSC में भील समाज पर आपत्तिजनक सवाल: CM कमलनाथ ने दिया जांच का आदेश

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 13, 2020, 8:38 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर