होम /न्यूज /मध्य प्रदेश /MP में ड्राइविंग लाइसेंस बनवाना होगा आसान, टेस्ट देने के झंझट से मिलेगी निजात, बस यह काम करें

MP में ड्राइविंग लाइसेंस बनवाना होगा आसान, टेस्ट देने के झंझट से मिलेगी निजात, बस यह काम करें

Bhopal News: ड्राइविंग सेंटर से ट्रेनिंग लेने वालों को ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने के लिए ड्राइविंग टेस्ट नहीं देना होगा.

Bhopal News: ड्राइविंग सेंटर से ट्रेनिंग लेने वालों को ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने के लिए ड्राइविंग टेस्ट नहीं देना होगा.

Driving Training School: मध्य प्रदेश में सड़क हादसों में कमी लाने के लिए राज्य सरकार का परिवहन विभाग प्रदेश के 6 शहरों ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

केंद्र सरकार सेंटर खोलने के लिए फर्मों को 19.50 करोड़ रुपए की आर्थिक मदद देगी.
केंद्रीय परिवहन मंत्रालय ने 6 फर्मों के आवेदन स्वीकार कर लिए हैं.
ये सेंटर भोपाल, छतरपुर, सिंगरौली, धार, बैतूल और सतना में खोले जाएंगे.

भोपाल. मध्य प्रदेश में सड़क हादसों की बढ़ती तादाद के पीछे अन-ट्रेंड लोगों की ड्राइविंग बड़ी वजह है. अधिकतर वाहन चालक ड्राइविंग में प्रशिक्षित नहीं होते हैं, जिसकी वजह से हादसों की संख्या बढ़ती है. अन-ट्रेंड लोगों के वाहन चलाने से सड़क पर हादसों की आशंका रहती है. सरकार ने इसके मद्देनजर ही प्रदेश में एडवांस ड्राइविंग सेंटर खोलने की योजना बनाई है. प्रदेश के छह शहरों में ऐसे सेंटर खोले जाएंगे. इनमें भोपाल, छतरपुर, सिंगरौली, धार, बैतूल और सतना शामिल हैं. ड्राइविंग सेंटर से ट्रेनिंग लेने वालों को ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने के लिए ड्राइविंग टेस्ट नहीं देना होगा. इन सेंटरों में ड्राइविंग का प्रशिक्षण लेने से लोगों को DL बनवाने में होने वाली परेशानियों से भी निजात मिल सकेगी.

मध्यप्रदेश के परिवहन विभाग ने 81 ड्राइविंग सेंटर खोलने के प्रस्ताव केंद्र सरकार को भेजे थे. इनमें से केंद्रीय परिवहन मंत्रालय ने 6 फर्मों के आवेदन स्वीकार कर लिए हैं. अपर परिवहन आयुक्त अरविंद सक्सेना ने बताया कि कुल प्रस्तावों में से 3 रीजनल ड्राइविंग ट्रेनिंग सेंटर (आरडीटीसी) और 3 ड्राइविंग ट्रेनिंग सेंटर (डीटीसी) की मंजूरी मिली है. सेंटर खोलने के लिए केंद्र से 19.50 करोड़ रुपए की आर्थिक मदद मिलेगी. इसके पीछे केंद्र की मंशा सड़क हादसों में कमी लाना है. सेंटर पर दुर्घटनाओं के कारणों का अध्ययन भी किया जाएगा और इसकी जानकारी ड्राइविंग सीखने वाले लोगों को दी जाएगी.

यहां खुलेंगे सेंटर
मध्यप्रदेश में मैसर्स वक्रतुंड क्रियेटिव सोशल वेलफेयर सोसायटी छतरपुर, तपस्या साईं बाबा जन कल्याण शिक्षा प्रसार समिति भोपाल, बैतूल मल्टी ट्रेड कंपनी बैतूल को 3 रीजनल ड्राइविंग ट्रेनिंग सेंटर (आरडीटीसी) खोलने की मंजूरी दी गई है. साथ ही 3 ड्राइविंग ट्रेनिंग सेंटर (डीटीसी) सार्थक वेलफेयर सोसायटी सतना, आर्यन मोटर्स सिंगरौली, मालवा ड्राइविंग सेंटर धार में खोले जाएंगे।

" isDesktop="true" id="5388113" >

हर जिले में खुलेंगे ड्राइविंग सेंटर
इंस्टीट्यूट ऑफ ड्राइविंग ट्रेनिंग एंड रिसर्च 5 करोड़ की आबादी पर एक सेंटर खुलेगा. इस वजह से मध्यप्रदेश में परिवहन विभाग ने प्रदेश में सिर्फ एक इंदौर में इंस्टीट्यूट ऑफ ड्राइविंग ट्रेनिंग सेंटर खोलने की अनुशंसा की है. इसके लिए प्रत्येक फर्म/कंपनी को 17.25 करोड़ रुपए केंद्र सरकार से मिलेंगे, जो कि चार चरणों 20, 30, 35 और 15 फीसदी के रूप में मिलेंगे. वहीं, रीजनल ड्राइविंग ट्रेनिंग सेंटर 2.5 करोड़ की आबादी में खुलेगा. केंद्र सरकार द्वारा प्रत्येक सेंटर खोलने के लिए 5.50 करोड़ रुपए तीन चरणों में 40, 50, 10 फीसदी दिए जाएंगे. जबकि ड्राइविंग ट्रेनिंग सेंटर 20 लाख की आबादी पर यानि प्रदेश के हर जिले में खुलेगा. इसके लिए केंद्र द्वारा 1 करोड़ रुपए तीन चरणों 40, 50 और 10 फीसदी दिए जाएंगे.

Tags: Madhya Pradesh government, Road and Transport Ministry

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें