Home /News /madhya-pradesh /

Video: भक्त सोते रह गए और बाबा बैजनाथ दर्शन देने आ गए, आनन-फानन में सुबह ही निकाल दी शाही सवारी

Video: भक्त सोते रह गए और बाबा बैजनाथ दर्शन देने आ गए, आनन-फानन में सुबह ही निकाल दी शाही सवारी

बाबा बैजनाथ की शाही सवारी इतनी जल्दबाज़ी में निकाली गयी कि पुलिस कर्मी और पुजारी भी दौड़ लगा रहे थे.

बाबा बैजनाथ की शाही सवारी इतनी जल्दबाज़ी में निकाली गयी कि पुलिस कर्मी और पुजारी भी दौड़ लगा रहे थे.

Agar Malwa News: हर साल सावन सोमवार को दोपहर 1 बजे से आरती के बाद शाही सवारी की शुरुआत की जाती थी. इसमें सैकड़ों श्रद्धालु शामिल होते थे, लेकिन इस बार रातों-रात तैयारी कर अचानक सुबह आरती के बाद जिला प्रशासन ने सवारी शुरू कर दी. इससे लोगों में नाराजगी है.

अधिक पढ़ें ...

आगर मालवा. आगर मालवा (Agar Malwa) में आज भक्तों को खबर भी नहीं लग पाई और सुबह सुबह ही बाबा बैजनाथ की शाही सवारी (Royal Ride Of Baba Baijnath)निकल गयी. वैसे सवारी का ठाठ-बाट हमेशा की तरह ही था, लेकिन अचानक वक्त बदल दिया गया था. इसकी भनक भी भक्तों को नहीं लग पायी.

वजह सिर्फ यही रही कि कोरोना प्रोटोकॉल. कोरोना गाइडलाइन का पालन करने हुए भीड़ से बचने के लिए प्रशासन द्वारा शाही सवारी का समय बदल दिया गया था. इसकी जानकारी सिर्फ सरकारी अफसरों को थी, जनता को खबर ही नहीं लग पायी. जनता को खबर लग जाती तो भीड़ जमा होने का डर था.

अचानक नगर में निकल पड़े बाबा बैजनाथ को दर्शन देने
आगर मालवा में आनन-फानन में बाबा बैजनाथ महादेव की धूमधाम से शाही सवारी निकली गई. सुबह-सुबह अचानक से परंपरागत मार्ग से बाबा बैजनाथ अपने भक्तों को दर्शन देने नगर में पहुंचे तो भक्तगण भी अचरज में पड़ गए, क्योंकि सावन सोमवार के दिन हमेशा बाबा की सवारी दोपहर बाद निकाली जाती है. सुबह-सुबह अचानक सावन के सोमवार के दिन बाबा को अपने सामने पाकर भक्त भी अभिभूत हो गए.

जेल के सामने गार्ड ऑफ ऑनर
नगर के परंपरागत प्रमुख मार्गों से निकाली गई सवारी में बाबा को जेल के सामने प्रतिवर्ष अनुसार गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया. जेल प्रशासन ने बकायदा सलामी देकर बाबा की आरती भी की. कोरोना गाइडलाइन के कारण भीड़ इक्कठी न हो इसलिए जल्दीबाजी करते हुए दौड़ भाग कर प्रशासन ने सवारी निकालकर परंपरा पूरी की.

हर साल दोपहर में आरती के बाद निकलती थी सवारी
इससे पहले प्रतिवर्ष दोपहर 1 बजे से आरती के बाद शाही सवारी की शुरुआत की जाती थी. इसमें सैकड़ों श्रद्धालु शामिल होते थे. लेकिन इस बार रातोंरात तैयारी कर अचानक सुबह आरती के बाद जिला प्रशासन ने सवारी शुरू कर दी. हालांकि जैसे जैसे भक्तों को जानकारी लगी वे सवारी में नाचते गाते शामिल होते गए. सवारी के दौरान सुरक्षा के लिए भारी पुलिस बल भी तैनात रहा.

इस बार पालकी को ट्रैक्टर में रखा गया
इससे पहले पालकी को हाथों से उठाकर सवारी मार्ग पर बाबा का भ्रमण कराया जाता था, लेकिन इस बार जल्दी के चक्कर में पालकी को ट्रैक्टर में रखा गया और दौड़ते भागते सवारी को निकाला गया. अंतिम समय तक प्रशासन के अधिकारियों के अलावा किसी को भी सवारी निकाले जाने की जानकारी नहीं थी. इससे लोगों में नाराजगी भी है.

Tags: Agar malwa news, Sawan 2021, Sawan somvar

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर