शासन की योजनाओं का सहयोग लेकर विकास का नया आयाम तय किया अनिता ने
Agar-Malwa News in Hindi

शासन की योजनाओं का सहयोग लेकर विकास का नया आयाम तय किया अनिता ने
अपने कियोस्‍क सेंटर में अनिता ग्राहकों की सेवा करती हुई

शासन द्वारा महिला सशक्तिकरण के लिए किए जा रहे प्रयास अब फलीभूत होकर सामने आने लगे हैं.ग्रामीण महिलाएं गृह कार्य करने के साथ ही स्वयं का स्वःरोजगार स्थापित कर परिवार का भरण-पोषण कर रही है और नए आत्म विश्वास के साथ विकास के नए आयाम तय कर रही हैं.

  • Share this:
शासन द्वारा महिला सशक्तिकरण के लिए किए जा रहे प्रयास अब फलीभूत होकर सामने आने लगे हैं.ग्रामीण महिलाएं गृह कार्य करने के साथ ही स्वयं का स्वःरोजगार स्थापित कर परिवार का भरण-पोषण कर रही है और नए आत्म विश्वास के साथ विकास के नए आयाम तय कर रही हैं.आगर मालवा जिले की ग्राम पंचायत तनोडिया में रहने वाली एक महिला अनिता ने शासन की योजनाओ का सहयोग लेकर विकास का एक नया आयाम तय किया है.गांव सुठेली निवासी आर्थिक रूप से कमजोर अनिता शुरू से अपनी अलग पहचान बनाने की इच्छा रखती थी. इसके लिए राज्य आजीविका मिशन एक जरिया मिला.

पहले ग्राम की महिलाओं के साथ अनिता ने स्वःसहायता समूह का गठन किया. समूह के माध्यम से उसे आगे बढ़ने का रास्ता नजर आया.वह शिक्षित तो थी ही उसने बैंक सखी बनने का ठाना और उज्जैन में प्रशिक्षण लेकर काम शुरू किया.बैंक सखी के कार्य के लिए उसने मुख्यमंत्री आर्थिक कल्याण योजना से एक लाख रुपये का ऋण प्राप्त कर लैपटाप खरीदा.अब अनिता लैपटाप से बैंक खाते खोलने व लेन-देन का काम कर रही है. ग्रामीणों के बैंक संबंधी छोटे-छोटे लेन देन का काम करती है जिससे हर ट्रांजेक्शन पर बैंक की तरफ से कमीशन मिल जाता है एवं ग्रामीणों को घर बैठे बैंक की सुविधा.पहले घर में इतनी आय नहीं हो पाती थी.भरण पोषण की समस्या के साथ कभी-कभी तो बच्चों के स्कूल की फीस भरने का संकट भी पैदा हो जाता था.परन्‍तु अब परिवार के आर्थिक हालात भी सुधर गए हैं. यहां तक कि उसके परिवार ने एक नई कार भी खरीद ली है.

अनिता ने अपने पति के साथ मिलकर तनोडिया में अपना कियोस्‍क सेंटर स्‍थापित कर लिया है जिसमें वह अपने पति के साथ मिलकर लोगों को बेहतर बैंकिग सुविधाएं उपलब्‍ध करा रही हैं. अनिता के अनुसार गांव के वृद्धजनो को पेंशन देकर उंनका आशीर्वाद एवं उनकी मदद कर ख़ुशी मिलती है.अनिता बताती है राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन के हमारे गांव में आने से हमारे परिवार की महिलाएं स्वःसहायता समूह से जुड़ी हैं जिससे हमें शासन की नई योजनाओं की जानकारी के साथ प्रशिक्षण भी मिला और परिवार के पुरुष वर्ग को भी हम पर विश्वास हो चला है.



 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading