बीजेपी प्रत्याशी और पूर्व न्यायाधीश महेंद्र सोलंकी के बयान पर बवाल, कांग्रेस ने बनाया मुद्दा

'मध्य प्रदेश में अपनी सरकार क्यों नहीं बन सकी' वाले बयान पर कांग्रेसियों ने आपत्ति जताई है. कांग्रेस ने विरोध जताते हुए सोलंकी के कार्यकाल में दिए गए निर्णयों की जांच की मांग की है.

  • Share this:
मध्य प्रदेश में न्यायाधीश पद से इस्तीफा देकर राजनीति में आए देवास लोकसभा क्षेत्र से बीजेपी प्रत्याशी महेंद्र सोलंकी अपने ही बयान पर फंस गए हैं. 'मध्य प्रदेश में अपनी सरकार क्यों नहीं बन सकी' वाले बयान पर कांग्रेसियों ने आपत्ति जताई है. कांग्रेस ने विरोध जताते हुए सोलंकी के कार्यकाल में दिए गए निर्णयों की जांच की मांग की है.

बीजेपी प्रत्याशी सोलंकी ने आगर में एक सभा को संबोधित करते हुए कहा ‘साल 2018 में मैंने भाजपा के एक बड़े पदाधिकारी से फोन करके पूछा था कि मध्य प्रदेश में अपनी सरकार क्यों नहीं बन सकी. इस पर उन्होंने कहा कि तुम्हारे जैसा युवा जिसे जमीन पर कार्य करना चाहिए वो एसी में बैठे हुए हैं. तुम जमीन पर आओ तो अपने आप सरकार बनेगी. बाद में उन्हीं भाई साहब का फोन आया कि चुनाव लड़ने की इच्छा है ?  मैंने सहर्ष स्वीकार किया और अब बीजेपी ने मुझे देवास लोकसभा से प्रत्यशी बनाया है''.

गौरतलब है कि महेंद्र सोलंकी 2018 में हुए विधानसभा चुनाव के दौरान न्यायधीश पद पर आसीन थे. ऐसे में भाजपा के पदाधिकारी से संपर्क कर, अपनी सरकार नहीं बनने पर पूछना, कई सवाल खड़े करता हैं.



वहीं प्रदेश कांग्रेस सचिव गुड्डू लाला ने सोलंकी के बयान को शर्मनाक बताया है. कांग्रेस सचिव ने जबलपुर हाइकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश और प्रदेश के कानून मंत्री से मांग की है कि सोलंकी के कार्यकाल में दिए गए निर्णयों की जांच हो. साथ ही चुनाव आयोग को भी इस मामले में संज्ञान लेने की बात कही है. गुड्डू लाला ने कहा कि सोलंकी की तरह और भी ऐसे कितने जज होंगे जो भाजपा के लिए काम कर रहे हैं.
ये भी पढ़ें- इस केंद्रीय मंत्री की 5 साल में घट गई संपत्ति, पत्नी की आय में हुआ इजाफा

ये भी पढ़ें- "डोर बेल खराब है, कृपया दरवाजा खुलवाने के लिए मोदी-मोदी चिल्लाएं”
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज