स्कूल की नई अधूरी बिल्डिंग में बंध रहे मवेशी, छात्र पढ़ रहे पुराने जर्जर भवन में
Agar-Malwa News in Hindi

स्कूल की नई अधूरी बिल्डिंग में बंध रहे मवेशी, छात्र पढ़ रहे पुराने जर्जर भवन में
स्कूल के अधूरे भवन में बंधे पशु

आगर मालवा जिले के ग्राम निपानिया में शिक्षा के मंदिर की दुर्दशा की हकीकत सामने आई है. यहां 2011 से लाखों रुपये की लागत से बनाई जा रही एक स्कूल बिल्डिंग अब तक अधूरी है.इसमें गांव के दबंगों के मवेशियों को बांधा जा रहा है, साथ ही किसी ने टेंट का सामान रखा गया है.

  • Share this:
जिला आगर मालवा के ग्राम निपानिया में शिक्षा के मंदिर की दुर्दशा की हकीकत सामने आई है. यहां 2011 से लाखों रुपये की लागत से बनाई जा रही एक स्कूल बिल्डिंग अब तक अधूरी है.इसमें गांव के दबंगों के मवेशियों को बांधा जा रहा है, साथ ही किसी ने टेंट का सामान रखा गया है. जबकि जिन बच्चों के लिए यह भवन बनाया गया है वो नौनिहाल1963 में बनी पुरानी स्कूल बिल्डिंग के दो छोटे-छोटे जर्जर कमरों में बैठकर शिक्षा पा रहे हैं. यहां बारिश में तो हालात और भी बदतर हो जाते है जगह-जगह छत से यहां पानी टपकता रहता है.बद-इंतजामी यहीं ख़त्म नहीं होती. वर्ष 2015-16 में निपानिया में साढ़े चार लाख की लागत से खेल मैदान भी बनाया गया है किंतु यहां पर मौके पर पड़े पत्थरों से साफ जाहिर होता है कि इसका निर्माण भी कागजों में ही किया गया है.

ग्राम पंचायत खजूरी के ग्राम निपानिया की प्राइमरी स्कूल की बिल्डिंग वर्षों पुरानी हो जाने के कारण 2011 में नई बिल्डिंग का निर्माण कार्य ग्राम पंचायत के माध्यम से शुरु किया गया था. परंतु ग्राम पंचायत और जिम्मेदारों की लापरवाही के कारण इस भवन का फर्श और प्लास्टर का काम अब तक अधूरा है. यह अधूरा भवन असामाजिक तत्वों सहित मवेशियों का अड्डा बना हुआ है. कमरों में शराब की खाली बोतलें, मवेशी और टेंट-तिरपाल देखे जा सकते हैं. अधूरे निर्माण के चलते ग्राम पंचायत ने आज तक स्कूल प्रबंधन को यह लाखों रुपये की बिल्डिंग हैंड ओवर नहीं की है.इस मामले के जिम्मेदार अधिकारी अब एक दूसरे विभाग की जिम्मेदारी बताकर इसका ठीकरा एक दूसरे के सर फोड़ रहे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading