MP में पंचायत चुनाव के लिए जरूरी है 10वीं पास होना! DEO के नाम का फर्जी पत्र वायरल होने से मचा हड़कंप

पत्र में सरपंच व मेम्बर के चुनाव में 10वीं पास होना बताया जरूरी.
पत्र में सरपंच व मेम्बर के चुनाव में 10वीं पास होना बताया जरूरी.

आगर मालवा (Agar Malwa) में जिला शिक्षा अधिकारी (District Education Officer) के नाम से कलेक्टर के आदेश का हवाला देते हुए सोशल मीडिया (Social Media) में एक फर्जी पत्र वायरल हुआ है. इसमें पंचायत चुनाव 2020 (Panchayat Election 2020) में सरपंच प्रत्याशी के लिए 10वीं पास होना जरूरी बताया गया है.

  • Share this:
आगर मालवा. मध्‍य प्रदेश के आगर मालवा (Agar Malwa) में जिला शिक्षा अधिकारी (District Education Officer) के नाम से कलेक्टर के आदेश का हवाला देते हुए सोशल मीडिया (Social Media) में एक एडिट किया हुआ फर्जी पत्र वायरल हुआ है. इस पत्र में लिखा है कि पंचायत चुनाव 2020 (Panchayat Election 2020) में सरपंच प्रत्याशी के लिए 10वीं पास होना जरूरी है. अगर 10वीं पास नहीं की होगी तो पंचायत के चुनाव नहीं लड़ सकते. यही नहीं, मेंबर के चुनाव में भी दसवीं पास का होना जरूरी है. इस फर्जी पत्र का खंडन जारी करते हुए डीईओ आगर ने शरारती तत्वों के विरुद्ध कार्रवाई के लिए एसपी को पत्र लिखा है.

फर्जी पत्र से मची खलबली
आपको बता दें कि सितंबर महीने में भी ऐसा ही एक एडिट किया हुआ फर्जी पत्र डीईओ के नाम से वायरल हुआ था, जिसकी जांच अभी चल ही रही थी कि यह एक और पत्र वायरल हो गया. पूर्व में वायरल हुए फर्जी पत्र में शरारती तत्वों ने कलेक्टर का हवाला देते हुए बारिश के चलते बच्चों की छुट्टी के बारे में लिखा था, जिसके कारण स्कूल संचालकों और अभिभावकों में गफलत की स्थति बन गई थी. हालांकि बाद में इसका खंडन किया गया था. जबकि एक बार फिर उसी पत्र में कांट छांट कर शरारती तत्वों ने फर्जी पत्र वायरल कर दिया. जिला जनसंपर्क अधिकारी के नाम से जारी इस पत्र में कलेक्टर आगर मालवा का हवाला भी दिया गया है. इसमें डीईओ के हस्ताक्षर भी हैं. इस पत्र के बाद ग्रामीणों में भ्रम की स्थिति पैदा हो गई है.

जिला शिक्षा अधिकारी के नाम फर्जी पत्र वायरल.

जिला शिक्षा अधिकारी ने किया खंडन


पत्र की जानकारी लगने पर जिला शिक्षा अधिकारी ने फर्जी पत्र का खंडन जारी कर बताया कि उनके कार्यालय से ऐसा कोई पत्र जारी नहीं किया गया है. शरारती तत्वों द्वारा कार्यालय के पूर्व पत्र में कांट-छांट कर इस प्रकार की भ्रामक जानकारी सोशल मीडिया में प्रसारित की गई है. ऐसे शरारती तत्वों के विरूद्ध कड़ी कार्रवाई हेतु पुलिस अधीक्षक को भी पत्र लिखा है.

ये भी पढ़ें-

सोशल मीडिया को दिग्‍विजय ने बताया 'खतरा', बोले- यह देश और हमारे साम्प्रदायिक सद्भाव के लिए ठीक नहीं

CMIE की रिपोर्ट के बाद बिफरी भाजपा, MLA आकाश विजयवर्गीय ने कमलनाथ सरकार को याद दिलाया 'वचनपत्र'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज