MP News: ईमानदारी की ऐसी मिसाल जिसे आपने ना तो देखा होगा ना सुना होगा, पढ़ें पूरी खबर

मध्‍य प्रदेश के आगर मालवा के सुसनेर में रहने वाले किराना व्यापारी ने पेश की है.

मध्‍य प्रदेश के आगर मालवा के सुसनेर में रहने वाले किराना व्यापारी ने पेश की है.

Madhya Pradesh News: मध्‍य प्रदेश के आगर मालवा में किसान की मौत के बाद आत्म शांति के लिए ग्राम में आयोजित कार्यक्रम के दौरान परिवार एवं रिश्तेदारों के सामने व्यापारी अनिल जैन ने सोने की चेन की रकम किसान की पत्नि को सौंपी, ज‍िसके बारे में पर‍िवार को कोई जानकारी नहीं थी.

  • Share this:

जो लोग कहते हैं कि दुनिया मे ईमानदार लोग नहीं बचे हैं, ऐसे लोगों की सोच को बदल देने वाली मिसाल मध्‍य प्रदेश के आगर के सुसनेर में रहने वाले किराना व्यापारी ने पेश की है. व्यापारी ने ईमानदारी की वो मिसाल पेश की है, जिसके बारे में न तो आज तक आपने देखा होगा और न ही उसके बारे में कभी सुना होगा. इस सुनकर हर कोई व्‍यापारी की प्रशंसा कर रहा है.

दरअसल, सुसनेर नगर के किराना व्यापारी अनिल जैन की दुकान पर किराना सामान की खरीदी करने के लिए आने वाले ग्राम बायरा निवासी किसान कालुसिंह अपने दादा हिन्दू सिंह की 18 तोला यानि 180 ग्राम वजन की सोने की कंठी जिसे ग्रामीण क्षैत्रों में पुरूष गले में पहनते हैं अमानत के तौर पर 3 माह पूर्व व्यापारी के पास रखकर गए थे. इस रकम की कीमत करीब 10 लाख रुपये है. इस रकम की जानकारी किसान के परिवार के किसी सदस्य को नहीं थी.

गत दिनों अचानक किसान की मौत के बाद आत्म शांति के लिए ग्राम में आयोजित कार्यक्रम के दौरान परिवार एवं रिश्तेदारों के सामने व्यापारी अनिल जैन ने सोने की रकम किसान की पत्नि को सौप कर ईमानदारी का परिचय दिया. क्षेत्र में अक्सर किसान और व्यापारी के बीच मधुर संबंध सामने आते रहते हैं. इसी तरह का संबध में व्यापारी अनिल जैन एवं किसान के बीच भी था. अनिल जैन बताते है कि किसान से उनका बहुत पुराना सामान लेन देन का व्यवहार था. इसी के चलते फरवरी 2021 में बैक में रखी इस सोने की रकम को बैक से निकलवा कर उन्हे अमानत के रूप में देकर गए थे, जिसकी जानकारी उन्हें और किसान कालुसिंह को ही थी. ना तो उनके परिवार और ना ही किसान के परिवार के किसी सदस्य को इसकी जानकारी थी.

किसान कालुसिंह की मौत होने के बाद से वे विचलित हो गए थे. किन्तु अब किस तरह सोने की रकम वह लौटाएंगे. अनिल जैन गत दिनों ग्राम बायरा में किसान के घर पहुंचे तथा उनके परिवार एवं रिश्तेदारों के सामने जब इस रकम का खुलासा किया तो सभी चकित रह गए. अनिल जैन ने बताया कि किसान ने मुझे रकम वाली बात किसी को ना बताने की कसम दी थी किन्तु अब उनकी मौत के बाद वे रकम परिवार को लौटाना चाहते थे. इसी के चलते वह आज आत्म शांति के लिए आयोजित कार्यक्रम में सबके सामने सोने की रकम लौटा रहे हैं.
कोरोना संकटकाल में एक युवक ने ईमानदारी की मिसाल पेश की

बुरहानपुर शहर के अजय राठौर नामक युवक राजपुरा के पास इंदौर इच्छापुर स्थित बैंक ऑफ बडौदा के एटीएम में रुपये निकालने गए तो पहले ही एटीएम काउंटर पर कुछ नोट पड़े थे. स्थानीय पार्षद को सूचना देकर मौके पर पुलिस को बुलाया और पुलिस ने साढे़ सात हजार रुपए अपने कब्जे में लिए. इसके बाद पुलिस ने बैंक से संपर्क करके असल मालिक की तलाश की तो पता चला आजाद नगर निवासी मोहम्मद हसन ने इस एटीएम से 25 हजार रुपए की राशी निकाली थी, लेकिन गफलत में उनके साढे़ सात हजार एटीएम काउंटर पर भूल गए.

उन्होंने इसकी सूचना बैंक को दे दी थी जैसे ही बैंक के पास पुलिस ने संपर्क किया. बैंक ने वह रकम असल मलिक मोहम्मद हसन को शिकापुरा थाने भेजा पुलिस ने न्यूनतम खानापूर्ति करके असल मालिक को वह रकम वापस दे दी. अपने रुपये वापस मिलने पर मलिक ने पुलिस की तत्परता से रुपये वापस करने और अजय राठौर की ईमानदारी की तारिफ की.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज