इलाज के बहाने बूढ़ी मां को अस्पताल में छोड़ गया बेटा, स्टाफ कर रहा देखभाल
Agar-Malwa News in Hindi

इलाज के बहाने बूढ़ी मां को अस्पताल में छोड़ गया बेटा, स्टाफ कर रहा देखभाल
अस्पताल का स्टाफ महिला का पूरा ख्याल रखता है.

जिला अस्पताल में एक कलयुगी बेटा अपनी बूढ़ी मां को इलाज के बहाने भर्ती करा कर छोड़ गया. अब बूढ़ी मां पथराई आंखों से बेटे का इंतजार कर रही है कि कब उसका बेटा आए और उसे घर ले जाए.

  • Share this:
दुनिया मे एक शख्स ऐसा है जिसे भगवान से भी बड़ा दर्जा दिया जाता है, जी हां वो मां ही है जिसकी ममता के किस्से जितने कहे जाएं कम हैं. लेकिन उस मां पर क्या बीतती होगी जिसका बेटा बुढ़ापे में उसे मरने के लिए लावारिस छोड़ जाए. खबर आगर मालवा से है. जहां जिला अस्पताल में एक कलयुगी बेटा अपनी बूढ़ी मां को इलाज के बहाने भर्ती करा कर छोड़ गया. अब बूढ़ी मां पथराई आंखों से बेटे का इंतजार कर रही है कि कब उसका बेटा आए और उसे घर ले जाए.

चेहरे पर सदियों की दास्तान सुनाती सलवटे और सफेद बालों को साड़ी के पल्लू से छुपाती अस्सी साल उम्र की रेशम बाई अपनी कोख से पैदा की हुई संतान का इंतेजार कर रही है. बेटा एक महीने पहले मां की ममता को भूलकर इलाज के बहाने जिला अस्पताल में भर्ती करवा कर जो गया तो अब तक नही लौटा. अस्पताल के वार्ड के बाहर यह बरामदा इसका ठिकाना बना हुआ है और स्टाफ परिवार.

रेशम बाई के साथ एक महीने में स्टाफ का रिश्ता दिल से जुड़ गया है. उसको नहलाने से ले कर खाना खाने और दवाई वक्त पर देने की सारी जिम्मेदारी स्टाफ के लोग ही पूरी करते हैं. बताया जाता है कि यह बेटा आगर में ही रहता है. मगर अस्पताल प्रबंधन की लाख कोशिश के बावजूद निर्दयी और नकारा बेटा मां को घर नही ले जा रहा है. अब तो उसके घर भी ताला लगा हुआ है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading