उच्च शिक्षा की बदहाल तस्‍वीरें, बिना प्रयोगशाला के ग्रेजुएट हो रहे छात्र
Agar-Malwa News in Hindi

उच्च शिक्षा की बदहाल तस्‍वीरें, बिना प्रयोगशाला के ग्रेजुएट हो रहे छात्र
मध्‍यप्रदेश में शिक्षा की बदहाली की तस्‍वीरें लगातार सामने आती रहती है. और अब उच्‍च शिक्षा के क्षेत्र में इससे भी आगे निकलते हुए एक बड़ा मामला सामने आया है

मध्‍यप्रदेश में शिक्षा की बदहाली की तस्‍वीरें लगातार सामने आती रहती है. और अब उच्‍च शिक्षा के क्षेत्र में इससे भी आगे निकलते हुए एक बड़ा मामला सामने आया है

  • Share this:
मध्‍यप्रदेश में शिक्षा की बदहाली की तस्‍वीरें लगातार सामने आती रहती है. और अब उच्‍च शिक्षा के क्षेत्र में इससे भी आगे निकलते हुए एक बड़ा मामला सामने आया है.

आगर मालवा जिले के सुसनेर शासकीय महाविद्यालय में विज्ञान संकाय के करीब 300 छात्र पिछले तीन सालों में बगैर लेबोरेटरी के प्रायोगिक परीक्षाओं में शामिल होकर पास होते रहे हैं. 45 छात्र तो इस कॉलेज से विज्ञान स्‍नातक की डिग्री लेकर बाहर भी हो चुके हहैं.

यहां कीवर्तमान छात्रा अदिती शर्मा का कहना है कि, अभी तक एक भी प्रेक्टिकल नहीं हुए क्‍योंकि यहां पर लैब में कोई सामान ही नहीं है, अलग अलग सब्‍जैक्‍ट की तीन अलमारीयां हैं, लेकिन इनमें कुछ सामान नहीं है. उन्होंने कहा कि इस कॉलेज में तीन साल हो गए पढ़ते-पढ़ते पर कभी प्रैक्टिकल नहीं कराया गया



आगर मालवा जिला मुख्‍यालय से महज 30 किलोमीटर की दूरी पर ग्रामीण इलाकों के छात्र-छात्राओं के लिए यह सरकारी कॉलेज इस नियत से बनाया गया था कि बच्‍चे यहां पर पढ़कर कुछ बन जाएंगे, कालेज का नाम भी स्‍वामी विवेकानंद के नाम पर रखा गया, जो युवाओ को राष्‍ट्र निर्माण का प्रणेता बताते थे, लेकिन हकीकत कुछ और ही बयां हो रही है.
1984 में इस कालेज की स्‍थापना हुई 2005 में इसको नया भवन मिल गया और 2013 में विज्ञान संकाय की कक्षाएं शुरू हुई लेकिन तब से लेकर आज तक इस कालेज के विद्यार्थियों ने प्रयोग करने हेतु प्रयोगशाला ही नहीं देखी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading