MP के इस स्कूल में वंदे मातरम् पर लगी रोक..!
Agar-Malwa News in Hindi

MP के इस स्कूल में वंदे मातरम् पर लगी रोक..!
आगर मालवा जिले के पिलवास ग्राम में स्थित सरकारी स्कूल का है, जहां मिडिल स्कूल के शिक्षकों ने हाईस्कूल के प्रभारी प्राचार्य पर स्कूल में रोजाना होने वाली प्रार्थना में वंदेमातरम् गाने से रोक लगाने का आरोप लगाया है.

आगर मालवा जिले के पिलवास ग्राम में स्थित सरकारी स्कूल का है, जहां मिडिल स्कूल के शिक्षकों ने हाईस्कूल के प्रभारी प्राचार्य पर स्कूल में रोजाना होने वाली प्रार्थना में वंदेमातरम् गाने से रोक लगाने का आरोप लगाया है.

  • Share this:
अब तक तो राष्‍ट्रीय गीत वंदे मातरम् और राष्‍ट्रीय गान सियासी मुद्दा हुआ करते थे. परन्‍तु अब यही मुद्दा सरकारी स्कूलों में भी पंहुच चुका है. ताजा मामला आगर मालवा जिले के पिलवास ग्राम में स्थित सरकारी स्कूल का है, जहां मिडिल स्कूल के शिक्षकों ने हाईस्कूल के प्रभारी प्राचार्य पर स्कूल में रोजाना होने वाली प्रार्थना में वंदेमातरम गाने से रोक लगाने का आरोप लगाया है.

एक तरफ इंदौर में प्रदेश के मुखिया शिवराज सिंह चौहान ने हजारों बच्चों के साथ मिलकर एकसाथ वंदे मातरम का गान किया. वहीं दूसरी ओर आगर मालवा जिले के ग्राम पिलवास में मिडिल स्कूल के शिक्षक द्वारा स्कूल परिसर में स्थित हाईस्कूल के प्रभारी प्राचार्य पर स्कूल में रोजना होने वाली प्रार्थना में वर्षों से होते आ रहे राष्‍ट्रीय गीत वंदेमातरम् के गायन पर रोक लगाने और राष्‍ट्रीय गान को शुरू कराने का आदेश देने का आरोप लगाया है.

शिक्षकों में तनातनी का यह मामला इतना बढ़ा कि अध्यापक अशोक जायसवाल एवं अन्य शिक्षकों ने इस आदेश को मानने से इनकार करते हुए इसकी शिकायत वरिष्ठ अधिकारियों से की और अपने माध्यमिक और कन्या प्राथमिक विद्यालय की प्रार्थना अलग से करवाना शुरू कर दिया.



शिक्षक ने पूरे मामले में की गई शिकायत को सोशल मीडिया पर भी वायरल किया है, जिससे यह मामला सुर्खियो में बना हुआ है.
शिक्षक अशोक जायसवाल के अनुसार स्‍कुल परिसर में प्राथमिक, मिडिल और हाईस्कूल एक साथ संचालित होते हैं, तीनो ही स्कूलों के बच्‍चो की वर्षों से एक साथ प्रार्थना होती आ रही है, जिसमें वंदेमातरम् का गायन भी रोजाना होता है, परन्‍तु विगत सोमवार से प्रभारी प्राचार्य के एल चौहान द्वारा प्रार्थना में बच्‍चो से वंदेमातरम् गाने से मना किया और केवल राष्‍ट्रगान जन-गण-मण को ही गाने के लिए कहा गया.

जबकि मामले में प्रभारी प्राचार्य द्वारा ऐसे सभी आरोपो से इंकार किया है. उनके अनुसार उन्‍होने केवल राष्‍ट्रगान को सस्‍वर गाने का आदेश निकाला है.

इस पूरे मामले में जब बच्चों से बात की गई तो उन्होंने बताया कि स्कूल में रोजाना केवल वंदेमातरम् का गायन होता था परन्‍तु पिछले दिनो हमारे स्कूलों की अलग-अलग हुई प्रार्थना में हाईस्कूल के बच्चों ने केवल जन-गण-मण गाया, जबकि मिडिल और प्राइमरी के बच्चों ने वंदेमातरम का गायन किया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading