लाइव टीवी

भू-अभिलेख में पूरे गांव को बता दिया ‘सरकारी जमीन’, तीन साल से भटक रहे हैं लोग
Alirajpur News in Hindi

Wasim Raja | News18 Madhya Pradesh
Updated: March 4, 2019, 11:50 AM IST
भू-अभिलेख में पूरे गांव को बता दिया ‘सरकारी जमीन’, तीन साल से भटक रहे हैं लोग
बोरी गांव

भू-अभिलेख प्रक्रिया में पूरे गांव की जमीन को शासकीय भूमि बता दिया गया है. इसकी वजह से बोरी गांव के लोग न तो अपकी जमीन बेंच सकते हैं और न ही किसी की जमीन को खरीद सकते हैं.

  • Share this:
मध्य प्रदेश में अलीराजपुर जिले के बोरी गांव के लोगों के लिए आनॅलाइन प्रक्रिया परेशानी का सबब बन गई है. यहां भू-अभिलेख प्रक्रिया में पूरे गांव की जमीन को शासकीय भूमि बता दिया गया है. इसकी वजह से बोरी गांव के लोग न तो अपकी जमीन बेंच सकते हैं और न ही किसी की जमीन को खरीद सकते हैं. गलती को अधिकारीयों ने स्वीकार कर लिया है, गलती को सुधारने के लिए कागज भी दौड़े. लेकिन अभी भी भू-अभिलेख के साफटवेयर में सुधार नहीं हो पाया है. गांव के लोगों की परेशानी जस की तस बनी हुई है.

पटवारी हल्का नंगर 39, सर्वे नबंर 170/1 वर्ष 1956 से 2016 तक आबादी भूमि थी, इस पर बोरी गांव बसा है. पुरानी रजिस्ट्री के आधार पर गांव में जमीन मकान की खरीदी-बिक्री के सौदे आसानी से हो जाते थे. लेकिन तीन साल पहले ऑनलाइन भू-अभिलेख प्रक्रिया के दौरान अधिकारियों की लापरवाही कहें या चूक से आबादी भूमि को शासकीय भूमि नाम से दर्ज कर दिया. तब से बोरी गांव में न तो कोई जमीन खरीदी जा सकती है न बेंची. साथ ही शासन को भी रजिस्ट्री से होने वाले राजस्व का भी नुकसान हो रहा है.

गांव के लोगों का कहना है कि वे 3 साल से दफ्तरों का चक्कर लगा-लगा कर परेशान हो चुके हैं. उन्होंने शिकायतें भी की, लेकिन अभी भी हल नहीं निकल पा रहा है. वहीं कुछ लोगों का कहना है कि उनको रूपयों की आवश्यकता थी और अपनी जमीन बेंच दी लेकिन रजिस्ट्री नहीं होने से उनके रूपये ही फंस गए.



एक युवा ने बताया की वह बैंक में होम लोन लेने के लिए गया तो बैंक वालों ने साफ मना कर दिया. बैंककर्मी ने कहा कि आपकी रजिस्ट्री किसी काम की नहीं है, क्योंकि भू-अभिलेख में आपका गांव शासकीय भूमि दर्शा रहा हैं.



गांव के सरपंच का कहना है कि रोजाना उनके पास गांव वाले शिकायतें लेकर आते हैं, लेकिन वो क्या करे. सरपंच का कहना है कि कई बार शिकायते लेकर हम वरिष्ठ अधिकारीयों के पास गए, लेकिन अभी भी समस्या वैसी की वैसी है.

ये भी पढ़ें- MP: विश्व का एक मात्र स्पटिक शिवलिंग, दर्शन मात्र से पूरी होती है मनोकामना

ये भी पढ़ें- शिवराज ने सीएम कमल नाथ को लिखा पत्र, पूछा- सवर्णों को क्यों नहीं दे रहे आरक्षण

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अलीराजपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 4, 2019, 11:36 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading