नर्मदा जयंती पर नदी को पवित्र-शुद्ध व सुंदर बनाए रखने का लिया गया संकल्प

अमरकंटक से निकलने के बाद मध्यप्रदेश में नर्मदा का अंतिम जिला अलीराजपुर होता है. अलीराजपुर के ककराना गांव आते-आते नर्मदा मध्यप्रदेश में अपनी 1077 किमी की यात्रा पूरी कर गुजरात में प्रवेश कर जाती है.

News18 Madhya Pradesh
Updated: February 12, 2019, 9:48 PM IST
नर्मदा जयंती पर नदी को पवित्र-शुद्ध व सुंदर बनाए रखने का लिया गया संकल्प
जयंती पर की गई मां नर्मदा की पूजा अर्चना
News18 Madhya Pradesh
Updated: February 12, 2019, 9:48 PM IST
नर्मदा नदी को मध्यप्रदेश की जीवन रेखा कहा जाता है. नर्मदा की कुल लंबाई 1312 किलोमीटर है और इसमें से 1077 किलोमीटर की लंबाई नर्मदा मध्यप्रदेश में तय करती है. जाहिर सी बात है , इसीलिए नर्मदा को मध्यप्रदेश की जीवन रेखा कहते हैं. लेकिन, आज नर्मदा जयंती पर हर कोई से यही सवाल है कि क्या वाकइ नर्मदा के विकास के लिए सकारात्मक दोहन जितना मध्यप्रदेश को करना था, क्या वह कर पाया है? क्या मां नर्मदा के नाम पर राजनीतिक रोटियां सेंकी गई? नर्मदा के किनारों में कोई सुधार नहीं हुआ, न ही पेड़ पौधे और न ही हरियाली देखने को मिलती है. वहीं गुजरात में नर्मदा अपनी लंबाई का सिर्फ 10 फीसदी सफर तय करती है, लेकिन उसका 90 फिसदी लाभ गुजरात को मिल रहा है. ऐसे में सवाल उठता है कि मध्यप्रदेष पीछे क्यों है?

अमरकंटक से निकलने के बाद मध्यप्रदेश में नर्मदा का अंतिम जिला अलीराजपुर होता है. अलीराजपुर के ककराना गांव आते-आते नर्मदा मध्यप्रदेश में अपनी 1077 किमी की यात्रा पूरी कर गुजरात में प्रवेश कर जाती है. आज नर्मदा जयंती पर ककराना में हजारों लोग जुटे. नर्मदा को चुनरी चढ़ाई गई और नर्मदा को पवित्र-शुद्ध और सुंदर बनाए रखने का संकल्प भी लिया गया. मां नर्मदा का पूजा-अनुष्ठान भी हुआ और साथ ही संकल्पों की भी बाढ़ आ गई.

लेकिन सबसे बड़ा सवाल यही है कि नदियां जिनके किनारे सभ्यताएं विकसित हुई, उन्हीं नदियों में एक महत्वपूर्ण नदी नर्मदा भी है. हम नर्मदा को मां नर्मदा के नाम से जानते हैं. मप्र में नर्मदा को जीवनदायनी नर्मदा तो माना जाता है, लेकिन अभी तक सरकारों ने इसे वास्तविक जीवन और रोजगार दायनी बनाने में कंजूसी बरती है. वहीं राजनीतिक पार्टियों ने मां नर्मदा के नाम पर अपनी राजनीतिक रोटियां भी सेंकी है. ये सब नर्मदा के किनारे बने घाटों को देख लेने मात्र से बहुत कुछ उजागर हो जाता है.



(अलीराजपुर से वसीम मकरानी की रिपोर्ट)

ये भी पढ़ें - नर्मदा परिक्रमा : तीन महीने से 25 किमी रोज पैदल चल रही 7 साल की स्वरा, साथ में कुत्‍ता भी

ये भी देखें - नर्मदा जयंती: तस्वीरों में देखें, संस्कारधानी में नर्मदा पूजन

ये भी पढ़ें - मध्यप्रदेश में बेरोजगारों की संख्या हुई 30 लाख से पार, कैसे मिलेगा रोजगार ?
Loading...

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...