लाइव टीवी

MP के इस ज़िले में डिफॉल्टरों से ऐसे वसूली करेगी बिजली कंपनी, बकायादारों में मचा हड़कंप
Sehore News in Hindi

Pradeep Singh Chouhan | News18 Madhya Pradesh
Updated: January 10, 2020, 7:00 PM IST
MP के इस ज़िले में डिफॉल्टरों से ऐसे वसूली करेगी बिजली कंपनी, बकायादारों में मचा हड़कंप
डिफाल्टरों में बिजली कंपनी के इस फैसले को लेकर भारी नाराज़गी है

मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कम्पनी ने सीहोर जिला प्रशासन से एक अजीबो गरीब मांग करके लाइसेंसी शस्त्रधारियों में खलबली पैदा कर दी है. दरअसल विद्युत वितरण कम्पनी ऐसे उपभोक्ताओं के शस्त्र लाइसेंस निरस्त करवाने जा रही है जो डिफॉल्टर हैं, और अपना बिजली का बिल लम्बे समय से जमा नहीं किया है

  • Share this:
सीहोर. मध्य प्रदेश के सीहोर (Sehore) ज़िले में विद्युत वितरण कम्पनी के शस्त्र लाइसेंस (Arms License) निरस्त कराने की इस मांग से ज़िले भर में हड़कंप मच गया है. बिजली कंपनी के इस तुगलकी आदेश का लाइसेंसी शस्त्रधारियों ने विरोध करना शुरु कर दिया है. अब विद्युत वितरण कंपनी को इस मामले में जिला प्रशासन (District Administration) की स्वीकृति का इन्तजार है. ज़िला प्रशासन की हरी झंडी मिलते ही हथियारों के लाइसेंस निरस्त कराने की कार्रवाई शुरू कर दी जाएगी.

सीहोर में बिजली कंपनी का बकाया करोड़ों में है
सीहोर जिले में मध्य प्रदेश मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कम्पनी को सीहोर संभाग में 79 करोड़ रूपये अभी वसूलने हैं, बिजली कंपनी के अफसरों के मुताबिक ये वो बकायादार हैं जिनके सामने कंपनी के सारे हथकंड़े फेल हो चुके हैं. ऐसे में विद्युत कम्पनी पिछले लंबे समय से इस मामले को लेकर दुविधा में थी. अब कंपनी ने ये नायाब तरीका तलाश किया है और कंपनी को लगता है कि इससे वसूली को ज़रूर गति मिलेगी. इसी के चलते कम्पनी ने जिला प्रशासन ये अजीबो गरीब मांग की है.

निरस्त होंगे डिफाल्टर उपभोक्ताओं के लाइसेंस



नियम से अपना बिजली का बिल पटाने वाले बिजली उपभोक्ता कंपनी की इस मांग को एक अच्छा कदम बता रहे हैं. बिजली विभाग ने ज़िले के शस्त्र लाइसेंस की पूरी लिस्ट निकलवा ली है. अब ज़िला प्रशासन की मंजूरी मिलते ही डिफॉल्टर उपभोक्ताओं के लाइसेंस निरस्त करने की कार्रवाई शुरू कर दी जाएगी.



ये भी पढ़ें -
भोपाल में फिल्मी-सियासतः NSUI ने 'छपाक' और बीजेपी ने 'तान्हाजी' की फ्री-टिकटें बांटी
'छपाक' पर विवाद : CM कमलनाथ ने कहा पिछले कुछ साल में शुरू हुई ये ग़लत परंपरा...
First published: January 10, 2020, 6:56 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading