होम /न्यूज /मध्य प्रदेश /

अशोकनगर में मां की दरिंदगी: मासूम को पहले सड़क पर लिटाया, फिर कुल्हाड़ी से काट दिया गला

अशोकनगर में मां की दरिंदगी: मासूम को पहले सड़क पर लिटाया, फिर कुल्हाड़ी से काट दिया गला

ईंटें निकालकर ट्रॉली में भरते समय पांच बच्चे दबे, एक की मौत, चार घायल.

ईंटें निकालकर ट्रॉली में भरते समय पांच बच्चे दबे, एक की मौत, चार घायल.

मृतक की नानी उसे कपड़े में लपेटकर चंदेरी अस्पताल लेकर पहुंची थी, जहां डॉक्टर से बच्चे के छत से गिर जाने की कहकर जांच कराई. डॉक्टर ने उसे मृत घोषित कर दिया था.

    अशोकनगर. जिले में दर्दनाक हत्या का एक रौंगटे खड़े कर देने वाला मामला सामने आया है. ग्राम चुरारी में एक मां ने दरिंदगी की सारी हदें पार कर दीं. उसने 8 महीने के मासूम इकलौते बेटे की कुल्हाड़ी मारकर हत्या कर दी. महिला मासूम को घर से करीब 70 फीट दूर मुख्य सड़क पर ले गई और लेटा दिया. इसके बाद उसने कुल्हाड़ी से बच्चे की गर्दन अलग कर दी.  शनिवार सुबह 11 बजे हुई घटना की जानकारी न तो पुलिस को लगी न ही इसकी जानकारी परिवार ने पुलिस को दी.

    जानकारी के मुताबिक, बच्चे की नानी उसे कपड़े में लपेटकर चंदेरी अस्पताल पहुंची. उसने डॉक्टरों से कहा कि बच्चा छत से गिर गया है. बच्चे की नब्ज देखकर डॉक्टर ने उसे मृत घोषित कर दिया. परिवार ने रातभर कपड़े में लपेटकर शव को घर पर रखा. पुलिस का कहना है कि मां की मानसिक हालत ठीक नहीं है. बताया जाता है कि महिला एक संत से प्रभावित थी और उनके यू-ट्यूब पर प्रवचन सुनती रहती थी.

    मायके आ गई थी महिला

    पुलिस ने बताया कि रश्मि पत्नी लक्ष्मण लोधी की शादी 2 साल पहले हुई थी. शादी के बाद वह अपने पति के साथ इंदौर में रहती थी. लेकिन, ढाई महीने पहले बेटे यशराज के साथ मायके चुरारी आई थी, जहां अपनी मां और बहनों के साथ रह रही थी. शनिवार को उसकी बहन बच्चे को खिला रही थी. अचानक महिला ने उससे अपना बेटा लिया और सड़क पर ले जाकर गला काट दिया. मृतक के नाना जानकी प्रसाद ने गांव के लोगों के साथ अगले दिन रविवार को थाने पहुंचकर घटना की जानकारी दी. एसडीओपी लक्ष्मी सिंह सहित टीआई मौके पर पहुंचे. इसके बाद एसपी रघुवंश सिंह भदौरिया भी जानकारी लगते ही चंदेरी पहुंचे. इसके बाद आरोपी महिला को गिरफ्तार कर चंदेरी अस्पताल में मानसिक इलाज के लिए भर्ती कराया गया.

    बहन से बोली बकरा काट दिया

    रश्मि की छोटी बहन रोशनी ने बताया कि शनिवार सुबह 11 बजे यशराज को गोद में लेकर खिला रही थी. रश्मि मुझसे लेकर उसे खिलाते हुए बाहर चली गई. कुछ देर बाद चिल्लाते हुए घर के अंदर आई और कहने लगी बकरा काट दिया. जब मैं बाहर गई तो यशराज खून से लथपथ था. उसे उठाकर अंदर लाई और उससे पूछा ये क्या किया तो कहने लगी जिसका बकरा था उसने ले लिया. इसके बाद मैंने मां लाडकुंवर को इसकी जानकारी दी. मां दोपहर को उसे चंदेरी अस्पताल ले गई.

    Tags: MP crime

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर