Home /News /madhya-pradesh /

Madhya Pradesh News: डीएनए टेस्ट से सामने आई गैंगरेप की झूठी कहानी, महिला को 10 साल की सजा

Madhya Pradesh News: डीएनए टेस्ट से सामने आई गैंगरेप की झूठी कहानी, महिला को 10 साल की सजा

अशोकनगर की अदालत ने गैंगरेप का झूठा आरोप लगाने वाली महिला को दस साल की सजा सुनाई. (सांकेतिक तस्वीर)

अशोकनगर की अदालत ने गैंगरेप का झूठा आरोप लगाने वाली महिला को दस साल की सजा सुनाई. (सांकेतिक तस्वीर)

Ashoknagar Crime: 2014 में एक महिला ने कुछ लोगों पर गैंगरेप का आरोप लगाया था. पुलिस ने मामले की जांच की और आरोपियों का डीएनए टेस्ट कराया. इस डीएनए टेस्ट ने सारा रोज खोल दिया. इस मामले में कोर्ट ने अब महिला और उसके साथियों को दस-दस साल की सजा सुनाई है.

अधिक पढ़ें ...

    अशोकनगर. जिला अदालत ने सामूहिक बलात्कार की झूठी रिपोर्ट दर्ज कराने वाली 45 साल की महिला और उसके साथी को 10 साल की सजा दी है. आरोपियों पर अदालत ने 2-2 हजार का अर्थदंड भी लगाया है. कोर्ट ने ये सजा डीएनट टेस्ट के आधार पर दी.

    पुलिस ने बताया कि महिला ने अगस्त 2014 में पुलिस में रिपोर्ट दर्ज कराई थी. पुलिस ने उस वक्त आरोपियों के खिलाफ 376 (2) की धारा में मामला कायम कर लिया. पुलिस ने जांच पड़ताल की और जिन पर आरोप लगे थे उनसे पूछताछ की गई. आरोपियों ने पुलिस को डीएनए टेस्ट के लिए आवेदन दिया था. इसके बाद पुलिस अधीक्षक ने उन्हें डिएनए टेस्ट की अनुमति दी.

    रिपोर्ट में सामने आया कि महिला से आरोपियों का डीएनए मैच नहीं हो रहा. दूसरी ओर, पुलिस को गोपाल नाम के शख्स पर संदेह हुआ. पुलिस ने गोपाल और एक अन्य व्यक्ति का डीएनए टेस्ट करवाया. ये टेस्ट महिला से मैच हो गया. इसके बाद महिला और आरोपी के खिलाफ धारा 376 (2) के तहत मामला दर्ज कर लिया गया था. बुधवार को कोर्ट ने दोनों आरोपियों को 10 साल की सजा दी और दो हजार का अर्थदंड लगा दिया.

    शर्मनाक: 14 साल की लड़की से मौसेरे भाई ने दोस्तों के साथ किया गैंगरेप

    अशोकनगर जिले से शर्मनाक खबर सामने आई है. यहां एक युवक ने अपने दोस्तों के साथ मिलकर अपनी 14 साल की मौसेरी लड़की का महीनों तक गैंगरेप किया. इससे पीड़िता गर्भवती हो गई. नाबालिग लड़की ने जब प्रसव के बाद नवजात बच्ची को कुएं में फेंका तब मामले का खुलासा हुआ. पुलिस ने गैंगरेप के मामले में 5 आरोपियों को गिरफ्तार किया है. इनमें दो नाबालिग हैं. नवजात की हत्या के मामले में नाबालिग लड़की को बाल संप्रेक्षण गृह भेज दिया गया है.

    इस तरह खुला मामला

    पुलिस को 20 सितंबर को सूचना मिली थी कि जिले के एक गांव में हनुमान मंदिर के पास कुएं में नवजात का शव दिखा है. पुलिस ने शव निकालकर उसका पोस्टमार्टम कराया. इसकी रिपोर्ट में पता चला कि बच्ची की मौत डूबने की वजह से हुई है. यानी कि, उसे जिंदा कुएं में फेंका गया था. इस पर पुलिस ने जांच तेज कर दी. जांच में सामने आया कि गांव की 14 साल की लड़की ने बच्ची को जन्म दिया था. पुलिस ने लड़की को हिरासत में लेकर कड़ाई से पूछताछ की तो मामले का पर्दाफाश हो गया. लड़की ने पुलिस को पूरी कहानी बता दी. इसके बाद पुलिस ने उसे बाल संप्रेक्षण गृह भेज दिया.

    पुलिस को सुनाई ये आपबीती

    पीड़ित नाबालिग लड़की ने पुलिस को बताया कि मां के चले जाने के बाद वह पिता के साथ गांव में रहने लगी. पिछले साल अक्टूबर में पिता के खेत पर जाने के बाद वह अकेली थी. इस बीच गांव का ही रहने वाला उसका मौसेरा भाई घर पर आ धमका. उसने उससे रेप किया और जान से मारने की धमकी दी. इसके बाद डरा-धमकाकर वह उसे अपने दोस्तों के पास ले गया. यहां उसने फिर एक दोस्त के साथ उसका रेप किया. इसके बाद और उसके और दोस्तों ने भी उससे दुष्कर्म किया. पिछले 11 महीनों से सभी आरोपी उसका लगातार रेप करते रहे. इस वजह से वह गर्भवती हो गई.

    Tags: Ashoknagar news, Gang Rape, Mp news

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर