होम /न्यूज /मध्य प्रदेश /Balaghat : पहले खुद ब्लैक बेल्ट हासिल किया, अब अपनी छत को बना दिया बच्चियों का ट्रेनिंग सेंटर

Balaghat : पहले खुद ब्लैक बेल्ट हासिल किया, अब अपनी छत को बना दिया बच्चियों का ट्रेनिंग सेंटर

महिलाओं के खिलाफ अपराध बढ़ रहे हैं तो अब महिलाएं खुद भी सजग हो रही हैं. सेल्फ डिफेंस के लिए न केवल जागरूकता बल्कि प्राॅप ...अधिक पढ़ें

रिपोर्ट – चितरंजन नेरकर

बालाघाट. एक घर की छत पर लड़कियां व महिलाएं जुटती हैं और मुक्के व किक चलाती हुई नज़र आती हैं. हफ्ते भर जो लड़कियां यूनिफाॅर्म पहनकर स्कूल जाती हैं या जो महिलाएं पारंपरिक परिधानों में रोज़मर्रा के काम करती दिखती हैं, अचानक रविवार को ‘हे-हो’ की आवाज़ें निकालते हुए फाइट की प्रैक्टिस करती हैं, तो एक पल के लिए लोग चौंक जाते हैं. यह असल में जयश्री सोनवाने की कराते का नज़ारा होता है, जो वह अपने घर की छत पर हर रविवार को लगाती हैं. आसपास की बच्चियों और युवतियों को अपनी रक्षा खुद करने लायक बना देना ही उनका मकसद है.

जयश्री सोनवाने ने जब खुद की सुरक्षा करने के बारे में सोचा तो उन्हें ऐसी ट्रेनिंग की ज़रूरत महसूस हुई, जिससे वह किसी अप्रिय स्थिति में असामाजिक तत्वों को सबक सिखा सकें. इसके लिए उन्होंने कराते की ट्रेनिंग ली और अपनी लगन व जुनून के दम पर ब्लैक बेल्ट हासिल किया. जब जयश्री को लगा कि वह इस कला में पारंगत हो चुकी हैं, तो उन्होंने दूसरी युवतियों को भी आत्मरक्षा के लिए तैयार करने का बीड़ा उठा लिया.

असल में बालाघाट छत्तीसगढ़ की सीमा से लगा मध्य प्रदेश का एक छोटा कस्बा है. कुछ उद्योगों और नक्सली गतिविधियों से इस ज़िले की पहचान होती है. जंगलों से घिरे इस ज़िले में अक्सर महिलाओं को बाज़ार जाने और एकांत रास्तों से अच्छी खासी दूरी तय करने की नौबत पेश आती है. ऐसे में महिलाएं खुद को काफी असुरक्षित महसूस करती हैं इसलिए असामाजिक तत्वों से निपटने के लिए एक बेसिक ट्रेनिंग देना जयश्री ने अपना मकसद बना लिया है.

निशुल्क क्लास में आ रही कई बच्चियां

जयश्री हर रविवार को अपने घर की छत पर बालिकाओं, युवतियों और महिलाओं को निशुल्क कराते प्रशिक्षण देती हैं. उन्होंने 2017 में कराते का प्रशिक्षण लेकर ब्लैक बेल्ट तक योग्यता हासिल की थी. बड़ी संख्या में युवतियां और महिलाएं जयश्री से कराते के दाव-पेंच सीखने आती हैं इसलिए क्लास एक से ज़्यादा बैचों में चलती है. ट्रेनिंग लेने वाली लड़कियां व महिलाएं कहती हैं कि उनका आत्मविश्वास बढ़ रहा है, तो जयश्री का कहना है कि महिला सशक्तिकरण और सुरक्षा की दिशा में यह उनकी एक छोटी सी कोशिश है.

Tags: Coaching class, Mp news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें