लाइव टीवी

हादसा : बड़वानी में अवैध रेत खदान धसने से 5 मजदूरों की मौत

News18 Madhya Pradesh
Updated: June 22, 2019, 5:05 PM IST
हादसा : बड़वानी में अवैध रेत खदान धसने से 5 मजदूरों की मौत
बड़वानी में अवैध रेत खदान धसने से 5 मजदूरों की मौत

रेत के एक अवैध खदान धंसने से कई मजदूर दब गए और दम घुटने से पांच की मौत हो गई. घटना की सूचना मिलते ही मौके पर जिला एसपी और कलेक्टर भी पहुंचे.

  • Share this:
मध्य प्रदेश के बड़वानी जिले में एक दर्दनाक हादसा हुआ है. यहां रेत के एक अवैध खदान धंसने से कई मजदूर दब गए और दम घुटने से पांच की मौत हो गई. घटना की सूचना मिलते ही मौके पर जिला एसपी और कलेक्टर भी पहुंचे. आला अधिकारियों ने पूरे घटना की जानकारी ली. वहीं, स्थानीय लोगों में घटना को लेकर काफी नाराजगी देखने को मिल रही है. मृतकों की पहचान प्रभु रामदास कोली, लल्लू बाबू कोली, परसराम मायाराम कोली, राकेश रमेश मानकर और लखन धुरजी मानकर के रूप में हुई है.

जानकारी के मुताबिक घटना जिले के अंजड़ थाना क्षेत्र में स्थित बड़दा गांव की है. यह दर्दनाक हादसा शनिवार सुबह करीब 11 बजे की है. पुलिस के मुताबिक मजदूरों की शिनाख्त की जा रही है. शनिवार को तेज आवाज के साथ खदान घंस गई. जिसकी वजह से खदान में काम कर रहे मजदूर दब गए. स्थानीय लोगों ने तुरंत रेस्क्यू शुरू कर दिया और पुलिस के साथ मिलकर सभी को बाहर निकाला.

अवैध थी खदान-

वहीं, घटना स्थल पर पहंचे जिला कलेक्टर ने बताया कि खदान अवैध रूप से चल रही थी. खनन के लिए शासकीय जमीन किसी को जारी नहीं किया गया था. जांच की जा रही है. मामले में दोषियों पर कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाएगी.

परिजनों का हंगामा-

इस दर्दनाक हादसे के बाद स्थानीय लोगों में रोष देखा जा रहा है. मृत मजदूरों के परिजन शव को उठाने नहीं दे रहे हैं. परिजनों का कहना है कि खदान संचालक और ट्रैक्टर मालिक को पहले मौके पर बुलाया जाए. उसके बाद ही वे शव को पोस्टमार्टम के लिए ले जाने देंगें.

ये भी पढे़ं- ताई ने अपने राजनीतिक सफर में संघर्ष का दौर नहीं देखा : कैलाश विजयवर्गीय
Loading...

ये भी पढ़ें:- जीतू पटवारी ने ग्रामीण के घर खाया खाना, किया रात्रि विश्राम 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए बड़वानी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: June 22, 2019, 4:44 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...