Home /News /madhya-pradesh /

बैंक-सोसायटी के कर्ज से परेशान किसान ने की आत्महत्या

बैंक-सोसायटी के कर्ज से परेशान किसान ने की आत्महत्या

मध्य प्रदेश में कर्ज में डूबे एक किसान ने फांसी लगा कर आत्महत्या कर ली है. मृतक के पुत्र के मुताबिक उसका पिता कर्ज को लेकर परेशान था. पिछले कुछ से समय बिजली विभाग में बकाया पैसों को नहीं भर पाने की वजह से उसे कोर्ट से जमानत करके छुड़वाया था, तब से बहुत अधिक परेशान रहने लगे थे.

अधिक पढ़ें ...
मध्य प्रदेश में कर्ज में डूबे एक किसान ने फांसी लगा कर आत्महत्या कर ली है. मृतक के पुत्र के मुताबिक उसका पिता कर्ज को लेकर परेशान था. पिछले कुछ से समय बिजली विभाग में बकाया पैसों को नहीं भर पाने की वजह से उसे कोर्ट से जमानत करके छुड़वाया था, तब से बहुत अधिक परेशान रहने लगे थे.

कर्ज के चलते उन्होंने खेत तक गिरवी रखा हुआ है. वहीं, पुलिस इस मामले में जांच की बात कर रही है. जिला प्रशासन ने मामले को लेकर प्रेस नोट जारी कर किसान की मौत पर संदेह जारी किया है.

मामला बड़वानी के जिले के मालवन का है, जहां किसान रूपसिंह ने फासी के फंदे पर लटक कर आत्महत्या कर ली. गुरुवार की दोपहर को उसकी लाश अपने घर के पास स्थित खेत में पीपल के पेड़ पर लटकी मिली. इस पूरे मामले पर मृतक किसान के पुत्र सुनील का कहना है उसके पिता ने कर्ज से परेशान होकर आत्महत्या कर ली.

किसान के बेटे ने बताया कि उसके पिता पर पर बैंक और सोसायटी का कर्जा था. पिछले महीने ही लंबे समय से बिजली बिल न भर पाने के कारण पुलिसवाले उन्हें पकड़कर साथ ले गए थे. इसके बाद 11,000 रुपए जमा कर कोर्ट से जमानत करवाई गई थी.

घर आने के बाद से ही किसान बहुत परेशान था. वह खाना भी ढंग से नहीं खा रहा था. किसान के बेटे ने बताया कि उसने खेत भी 90 हजार रुपए में गिरवी रखा था. उसके पिताजी पर 80 हजार का आदिम जाति सोसायटी का कर्ज था और उसे स्टेट बैंक ऑफ इंडिया का एकमुश्त समझौता योजना- बैंक अदालत का पत्र मिला था, जिसमें उसकी बकाया राशि 2 लाख 20 हजार जमा रुपए इस योजना में जमा करने का उल्लेख किया गया था.

इस मामले में वरला थाना प्रभारी का कहना है कि प्राथमिक तौर पर ऐसा कुछ सामने नहीं आया है. इसकी जांच की जा रही है. अभी तो सिर्फ ये ज्ञात हुआ है कि मृतक किसान खेत पर काम करने आया था. उसके बाद पेड़ पर उसकी लाश मिली. अगर कर्ज का कुछ सामने आता है तो इसकी जांच की जाएगी.

वहीं, जिला प्रशासन ने पीआरओ के माध्यम से प्रेस नोट जारी कर मामले को कुछ और ही होने की बात कहते हुए जांच की बात कही है. फिलहाल, बैंक के पत्र और सोसायटी के रजिस्टर से यह बात तो स्पष्ट हो गई है कि मृतक किसान कर्ज के बोझ के तले दबा था, जिसके चलते उसने अपनी जीवन लीला समाप्त कर ली.

प्रशासन ने भी हर बार की तरह जांच करने कि बात कर मामले से पल्ला झाड़ लिया, लेकिन मृतक के पुत्र के आरोप कागजों में सही साबित होते नजर आ रहे हैं.

(Report : Pankaj Shukla)

Tags: Madhya pradesh news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर