लाइव टीवी

सीएम का आदेश और अधिकारियों का झूठा आश्वासन, धरने पर बैठे किसान

Pankaj Shukla | ETV MP/Chhattisgarh
Updated: September 13, 2016, 11:34 AM IST
सीएम का आदेश और अधिकारियों का झूठा आश्वासन, धरने पर बैठे किसान
मध्य प्रदेश के बड़वानी जिले में किसानों ने प्रशासन के खिलाफ अपना प्रदर्शन फिर शुरू कर दिया है. किसानों का आरोप है कि अधिकारियों ने उन्हें झूठा आश्वासन देकर धरना खत्म करवाया था, लेकिन अब मांग पूरी होने तक वो धरने पर बैठे रहेंगे.

मध्य प्रदेश के बड़वानी जिले में किसानों ने प्रशासन के खिलाफ अपना प्रदर्शन फिर शुरू कर दिया है. किसानों का आरोप है कि अधिकारियों ने उन्हें झूठा आश्वासन देकर धरना खत्म करवाया था, लेकिन अब मांग पूरी होने तक वो धरने पर बैठे रहेंगे.

  • Share this:
मध्य प्रदेश के बड़वानी जिले में किसानों ने प्रशासन के खिलाफ अपना प्रदर्शन फिर शुरू कर दिया है. किसानों का आरोप है कि अधिकारियों ने उन्हें झूठा आश्वासन देकर धरना खत्म करवाया था, लेकिन अब मांग पूरी होने तक वो धरने पर बैठे रहेंगे.

दरअसल, बड़वानी जिला अल्प वर्षा कि मार झेल रहा है, जिससे खेत में खड़ी फसल सूखने की कगार पर हैं. जिले में इंदिरा सागर परियोजना और लोअर गोई परियोजना की नहरें कुछ हिस्सों तक पहुंच चुकी हैं. राजपुर तहसील के किसान भी इन नहरों का पानी चाहते हैं ताकि वो अपनी फसल बचा सकें.

इसी मांग को लेकर किसान गांव की नहर के मुख्य गेट पर चार दिनों से धरने पर बैठे हुए थे. इसकी खबर जब मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को मिली तो उन्होंने तुरंत नहर में पानी छोड़ने के आदेश जारी कर दिए. इसके बाद किसानों का धरना खत्म करवा दिया गया. लेकिन अधिकारियों ने 24 घंटे बाद भी समुचित व्यवस्था नहीं की.

इस बात से नाराज किसान अब एक बार फिर धरने पर बैठ गए हैं. उनका कहना है कि अब जब तक नहर में पानी नहीं आ जाता तब तक वो अपना प्रदर्शन खत्म नहीं करेंगे. वहीं मामले में अधिकारियों का कहना है कि बांध में रोका गया पानी नहर के गेट में कुछ रुकावटों के चलते नहीं पहुंच पाया है जिसे हटाने के आदेश दे दिए गए हैं. उनकी मानें तो एक दिन बाद नहरों में पानी आ जाएगा, जिसका किसान उपयोग कर सकेंगे.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए बड़वानी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 13, 2016, 11:34 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...