मरते दम तक लड़ते रहेंगे लड़ाई: मेधा पाटकर

Pankaj Shukla | ETV MP/Chhattisgarh
Updated: September 17, 2017, 7:59 PM IST
मरते दम तक लड़ते रहेंगे लड़ाई: मेधा पाटकर
पानी में बैठे सत्याग्रहियों के लगातार पानी में बैठे रहने से उनके हाथों और पैरों पर अब पानी का खासा असर देखने को मिल रहा है
Pankaj Shukla | ETV MP/Chhattisgarh
Updated: September 17, 2017, 7:59 PM IST
बड़वानी में मेधा पाटकर ने डूब प्रभावितों के साथ ग्राम बड़दा से जल सत्याग्रह शुरू किया है जिसका आज तीसरा दिन है.

पानी में बैठे सत्याग्रहियों के लगातार पानी में बैठे रहने से उनके हाथों और पैरों पर अब पानी का खासा असर देखने को मिल रहा है. लेकिन अपने अधिकार नहीं मिलने तक यह लड़ाई जारी रहेगी भले ही उनकी जान चली जाए वही मेधा ने आगे की रणनीति को लेकर बयान देते हुए कहा कि जलस्तर अगर इसी तरह बढ़ता रहेगा तो हम जल समाधि ले लेंगे.

मेधा पाटकर ने कहा कि पूर्ण पुनर्वास के बगैर डूब लाना और बाँध में पानी भरना अनुचित और अन्याय पूर्ण है. जल सत्याग्रह में कांग्रेस के क्षेत्रीय विधायक व उप नेता प्रतिपक्ष भी अपने कार्यकर्ताओं के साथ आंदोलन को समर्थन देने पहुंचे. अब देखना यह है की जल स्तर में इजाफा होगा या फिर यह स्थिर हो जाएगा.

सरदार सरोवर बांध: डूब प्रभावितों ने फिर शुरू किया जल सत्याग्रह


इससे पहले नर्मदा का जलस्तर लगातार बढने से धार के सरदार सरोवर डूब प्रभावित गाँव धीरे धीरे जलमग्न होने लगी थी. लोग यहाँ से अन्य स्थानो पर शिफ्ट हो रहे हैं. कुछ लोग अभी भी यहाँ डटे हुए है और वे सरकार पर मुआवजा न देने के आरोप लगा रहे हैं. लोगों का यह भी कहना है कि पुर्नवास स्थलों पर सडक, पानी, बिजली जैसी बुनियादी सुविधाओ की स्थिति ठीक नही है.
First published: September 17, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर