महाराष्ट्र से UP जा रही महिला को अचानक हुई प्रसव पीड़ा, ट्रक रोक कर सड़क किनारे हुई डिलिवरी
Barwani News in Hindi

महाराष्ट्र से UP जा रही महिला को अचानक हुई प्रसव पीड़ा, ट्रक रोक कर सड़क किनारे हुई डिलिवरी
महिला ने सड़क में दिया बच्चे को जन्म (फाइल फोटो)

एक स्थानीय अधिकारी के मुताबिक प्रसव पीड़ा से जूझ रही दीपा नाम की इस गर्भवती महिला ने बालसमुंद बैरियर के पास 10 और 11 मई की दरम्यानी रात को ट्रक रुकवाकर सड़क किनारे एक बच्चे को जन्म दिया

  • Share this:
बड़वानी. मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के बड़वानी जिले से गुजरने वाले मुंबई-आगरा राष्ट्रीय राजमार्ग (Mumbai-Agra Highway) पर ट्रक से यात्रा कर रही एक गर्भवती महिला ने सड़क किनारे बच्चे को जन्म (Child Birth) दिया है. एक स्थानीय अधिकारी ने बताया कि प्रसव पीड़ा से जूझ रही दीपा नाम की इस महिला ने बालसमुंद बैरियर के पास 10 और 11 मई की दरम्यानी रात को ट्रक रुकवाकर सड़क किनारे एक बच्चे को जन्म दिया. लॉकडाउन (Lockdown) के कारण यह श्रमिक परिवार महाराष्ट्र से उत्तर प्रदेश के बहराइच के सफर पर था.

ओझर गांव के चिकित्सक डॉ. फैजल अली ने कहा कि सूचना मिलने पर वो मौके पर पहुंचे. लेकिन उनके आने से पहले महिला को प्रसव हो चुका था. उन्होंने बताया कि बाद में महिला को एंबुलेंस से ओझर के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र लाया गया. डॉ. अली ने बताया कि मां और बच्चा दोनों स्वस्थ हैं. नवजात का वजन लगभग 3.4 किलोग्राम है. महिला के पति अच्छेवर लाल ने बताया कि मार्ग के अंतिम हफ्ते में लॉकडाउन लागू होने के बाद वो बेरोजगार हो गया था इसलिए उसने परिवार सहित मुंबई छोड़ने का फैसला किया.

ट्रक में मौजूद किसी भी महिला ने नहीं की मदद
लाल ने बताया कि यात्रा के दौरान उसकी पत्नी को असहनीय दर्द होने पर उन्होंने ड्राइवर से ट्रक रोकने के लिए कहा और पत्नी का सड़क किनारे प्रसव कराया. उन्होंने बताया कि ट्रक में मौजूद अन्य महिलाओं ने इसमें कोई मदद नहीं की. हालांकि, प्रसव के कारण श्रमिकों के जत्थे ने अपनी यात्रा कुछ समय के लिए रोक दी. डॉ. अली ने कहा कि महिला और बच्चे को सोमवार सुबह अस्पताल से छुट्टी दे दी गई क्योंकि ट्रक में यात्रा कर रहे अन्य लोगों ने सफर जारी रखने की इच्छा जताई.
एक अन्य महिला ने भी रास्ते में दिया बच्चे को जन्म


बता दें कि इससे पहले भी 30 साल की महिला मजदूर ने सड़क किनारे बच्ची को जन्म दिया था. ये महिला भी महाराष्ट्र से मध्य प्रदेश के सतना जिले स्थित अपने गांव के लिए पैदल निकल पड़ी थी. लेकिन रास्ते में प्रसव पीड़ा होने पर उसने सड़क किनारे एक बच्ची को जन्म दिया. प्रसव के मात्र दो घंटे बाद ही महिला वापस अपने गांव की तरफ चल पड़ी थी. गांव जा रहे मजदूरों के साथ दो महिलाएं गर्भवती थीं, जिसमें से शकुंतला नौ महीने की गर्भवती थी. ये लोग नासिक से 30 किलोमीटर पहले से पैदल चलकर आ रहे थे. सफर के दौरान नासिक और धूलिया के बीच ग्राम पिपरी में शकुंतला को प्रसव पीड़ा होने लगी. आसपास कोई अस्पताल न होने के कारण साथ चल रही महिलाओं ने सड़क किनारे साड़ियों की आड़ कर शकुंतला को प्रसव कराया. शकुंतला ने एक बच्ची को जन्म दिया था.

ये भी पढ़ें: पैदल गांव जा रही मजदूर ने सड़क पर ही दिया बच्ची को जन्म, दो घंटे बाद फिर शुरू कर दिया सफर
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज