लाइव टीवी

क्या अनिता नर्रे याद हैं आपको? इन्हीं पर बनी थी फिल्म-टॉयलेट एक प्रेमकथा

Rishu Naidu | News18 Madhya Pradesh
Updated: November 20, 2019, 1:47 PM IST
क्या अनिता नर्रे याद हैं आपको? इन्हीं पर बनी थी फिल्म-टॉयलेट एक प्रेमकथा
क्या अनिता नर्रे याद हैं आपको? इन्हीं पर बनी थी फिल्म-टॉयलेट एक प्रेमकथा

फ़िल्म टॉयलेट एक प्रेमकथा () में भूमि पेडनेकर ने जो किरदार निभाया था, दरअसल वो अनिता नर्रे की जिंदगी से ही प्रेरित था. बाद में राष्ट्रपति ने पुरस्कार से उन्हें नवाज़ा था.

  • Share this:
बैतूल.अनिता नर्रे (anita narre) शायद ही किसी को याद हों. लेकिन अक्षय कुमार (akshya kumar) की फिल्म-टॉयलेट एक प्रेमकथा (Toilet ek prem katha) बहुत लोगों ने देखी होगी. ये वही अनिता हैं जो शौचालय ना होने पर ससुराल छोड़ गयीं थी. इन्हीं की कहानी पर बाद में फिल्म बनी थी. अनिता के ससुराल बैतूल के जीतूढाना में शौचालय बना और अब वो अपने पति के साथ खुशहाल ज़िंदगी जी रही हैं.

फ़िल्म टॉयलेट एक प्रेमकथा में भूमि पेडनेकर ने जो किरदार निभाया था, दरअसल वो अनिता नर्रे की जिंदगी से ही प्रेरित था. बाद में राष्ट्रपति ने पुरस्कार से उन्हें नवाज़ा.अनिता नर्रे बैतूल के चिचोली की रहने वाली हैं. साल 2011 में वो रोज़मर्रा की ज़िंदगी के एक वाकये के कारण अचानक सुर्खि़यों में छा गयी थीं.

मैं ससुराल नहीं जाऊंगी
शादी के सिर्फ तीन दिन बाद अनिता अपना ससुराल केवल इसलिए छोड़ आई थीं क्योंकि वहां शौचालय नहीं था. वो लौटकर तभी वापस आयीं जब उनके पति ने घर मे शौचालय बनवा लिया. अनिता के इस कदम की पहले तो ससुराल और समाज ने काफी आलोचना की. लेकिन बाद में अनिता की ये पहल एक अभियान बन गई और उन्हें राष्ट्रपति ने पुरस्कार से नवाज़ा. बाद में उनसे प्रेरित होकर बॉलीवुड स्टार अक्षय कुमार ने एक फिल्म बनायी, नाम रखा-टॉयलेट एक प्रेमकथा. अनिता उस समय फिर सुर्खियों में छायीं जब टॉयलेट एक प्रेमकथा की लीड अभिनेत्री भूमि पेडनेकर उनसे मिलने पूरी यूनिट के साथ उसके ससुराल जीटूढाना आयी थीं.

राष्ट्रपति ने दिया था सम्मान
घर में शौचालय होने की अनिता की पहल ने समाज और सरकार का ध्यान खींचा.वो पहल आज पूरे देश में अभियान बन चुकी है. साल 2012 में तत्कालीन राष्ट्रपति प्रतिभा देवी पाटिल ने उन्हें सम्मानित किया. मध्यप्रदेश सरकार ने भी अनिता को अपना स्वच्छता ब्रांड एम्बेसडर बनाया था. अनिता बेहद खुश हैं. उनके एक कदम ने लाखों-लाख महिलाओं का भला हुआ.

पति को नाज़
Loading...

अनिता के पति शिवराम याद करते हैं कि जब घर में शौचालय ना होने के कारण अनिता घर छोड़कर गयीं तब पूरे परिवार ने एक महिला की परेशानी को महसूस किया. उन्होंने अनिता की परेशानी और इच्छा का सम्मान किया और फौरन घर में शौचालय बनवाया. शिवराम नर्रे को अपनी पत्नी पर नाज़ है कि उनके एक कदम से देश की लाखों महिलाओं को शौचालय की ज़रूरत जैसे मुद्दे पर खुलकर बोलने का हौसला मिला.

ये भी पढ़ें-प्रह्लाद लोधी को राहत नहीं ! विधानसभा सचिवालय ने ब्लॉक किया अकाउंट

मंत्री ने साफ किया सरकारी दफ्तर का टॉयलेट, अफसर से कहा शर्म करो!

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए बैतूल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 20, 2019, 1:38 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...