Corona से बचने को बैतूल में थाने में बनाया मंदिर, नाम रखा कोरोना महादेव
Betul News in Hindi

Corona से बचने को बैतूल में थाने में बनाया मंदिर, नाम रखा कोरोना महादेव
बैतूल के चिचौली थाने में बैठे कोरोना महादेव

कोरोना महादेव की स्थापना बैतूल के चिचोली थाना में की गई है. गांव वाले (villagers) इतनी श्रद्धा में डूबे हैं कि वो कहते हैं- महादेव ही इस महामारी से हमारी रक्षा कर रहे हैं.

  • Share this:
बैतूल.पूरी दुनिया कोरोना वायरस (coronavirus) से बचने के लिए वैक्सीन (vaccine) खोजने में जुटी है लेकिन कहते हैं ना कि दवा के साथ दुआ की ज़रूरत भी पड़ती है. बस इसी बात को देखते हुए बैतूल (Betul) के चिचौली कस्बे के लोग मानते हैं कि उन्हें तो भोलेनाथ कोरोना से बचा रहे हैं. यहां थाने में थानेदार ने महादेव (Lord Shiva) की मूर्ति स्थापित करा दी है. गांव वालों ने नाम रख दिया है कोरोना महादेव.

COVID-19 से कस्बे को सुरक्षित रखने एक थानेदार ने थाना परिसर में कोरोना महादेव की प्राण प्रतिष्ठा कर डाली. यह बात विज्ञान के इस दौर में अजीब लगती है, लेकिन यह देखना और समझना हो तो बैतूल जिला मुख्यालय से 35 किलोमीटर की दूरी पर बसे चिचोली कस्बे के थाने आना होगा.

थाने में महादेव
चिचोली के इस थाना परिसर में एक पुराना मंदिर था, जिसमें भगवान महादेव की छोटी से प्रतिमा हुआ करती थी. यहां एक विशालकाय पीपल का वृक्ष था. बीते साल इस पीपल के पेड़ की एक टहनी टूटकर मंदिर पर गिरी. इससे भगवान महादेव की मूर्ति खंडित हो गई थी. 2018 में थाने की कमान टीआई आरडी शर्मा ने संभाली. मंदिर में महादेव की खंडित मूर्ति देख उन्हें बहुत पीड़ा हुई. बस तभी से उन्होंने मंदिर में दोबारा मूर्ति स्थापना का मन बना लिया था. वक्त गुज़रता गया और उनकी खुद की  विदाई का समय आ गया.







एक भी कोरोना पॉजिटिव नहीं

आरडी शर्मा के मुताबिक अपनी सेवानिवृत्ति के पूर्व जब उन्होंने महादेव की प्राण प्रतिष्ठा का प्लान बनाया उसी वक्त देश में कोरोना महामारी का तांडव शुरू हो गया. लॉकडाउन की घोषणा हो गई. 31 मई रिटायरमेंट की तारीख नज़दीक आने के पहले टीआई ने सोशल डिस्टेंस का पालन करते हुए 2 पंडितों से भगवान महादेव की प्राण प्रतिष्ठा करवा दी. इसी बीच कोरोना फैलता हुआ बैतूल जिले तक आ पहुंचा. लेकिन चिचोली ब्लॉक में एक भी व्यक्ति कोरोना ग्रसित नहीं मिला.

कोरोना महादेव

अब यहां के लोग इसे महादेव का करिश्मा मान बैठे हैं. उनका मानना है कि भोले बाबा उन्हें बचा रहे हैं. लोगों की सलाह पर थानेदार ने मंदिर का नाम कोरोना वाले महादेव रख दिया है. लोगों को पूरी उम्मीद है कि आगे भी कोरोना वाले महादेव उनकी रक्षा करेंगे.स्थानीय लोग बताते हैं कि यह इलाका आदिवासी बाहुल्य है और आदिवासी महादेव के उपासक हैं. इसलिए शायद अब तक भगवान महादेव ने ही उनकी रक्षा की और इस महामारी से बचाए रखा.

ये भी पढ़ें-

किसानों को कोरोना से बचाने के लिए सरकार का बड़ा फैसला,जानिए कैसे मिलेगा लाभ

जुड़वा बच्चों के जन्म के दौरान मां को Corona संक्रमण, फिर हुआ ये...
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading