लाइव टीवी
Elec-widget

जानिए आखिर क्यों कराटे चैंपियन प्रियंका CM कमलनाथ को लौटाएंगी अपना गोल्ड मेडल

Rishu Naidu | News18 Madhya Pradesh
Updated: November 17, 2019, 2:31 PM IST
जानिए आखिर क्यों कराटे चैंपियन प्रियंका CM कमलनाथ को लौटाएंगी अपना गोल्ड मेडल
गोल्ड जीतने के दो साल बाद भी प्रमाण पत्र नहीं मिलने पर कराटे खिलाड़ी प्रियंका ने अपना मेडल CM को वापस करने का फैसला लिया है.

प्रियंका चोपड़े ने वर्ष 2017 में आगरा में इंटरनेशनल स्कूल स्पोर्ट्स फेडरेशन द्वारा आयोजित कराटे प्रतियोगिता में गोल्ड मेडल जीता था. इसका प्रमाण पत्र अभी तक प्रियंका को नहीं मिला है.

  • Share this:
बैतूल. मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के बैतूल (Betul) जिले में एक मजदूर की बेटी प्रियंका को कराटे (Karate) में अंतरराष्ट्रीय स्तर (International Level) पर गोल्ड मेडल (Gold Medal) जीतने के बावजूद पिछले दो वर्षों से प्रमाण पत्र देने के लिए इंतजार कराया जा रहा है. प्रमाण पत्र नहीं मिलने के कारण प्रियंका ने जिला अधिकारियों से लेकर केंद्रीय खेल मंत्री तक से गुहार लगाई, लेकिन जब कोई मदद नहीं मिली तो उसने अब सीएम कमलनाथ (CM Kamal Nath) को अपना गोल्ड मेडल लौटाने का फैसला किया है.

पूरा मामला

प्रियंका चोपड़े ने वर्ष 2017 में आगरा में इंटरनेशनल स्कूल स्पोर्ट्स फेडरेशन द्वारा आयोजित कराटे प्रतियोगिता में गोल्ड मेडल जीता था. प्रियंका ने इस प्रतियोगिता की 56 किलो भार में वर्ग चीन और ब्राज़ील की खिलाड़ियों को हराकर गोल्ड अपने नाम किया था. प्रियंका इस गोल्ड मेडल को अपने पास रखना नहीं चाहती और वो सीएम कमलनाथ को अपना गोल्ड मेडल लौटाने जा रही हैं. दरअसल, गोल्ड जीतने के दो साल बाद भी उसे अब तक इसका प्रमाण पत्र नहीं दिया गया है, जिसकी वजह से उसने अपना मेडल CM को वापस करने का फैसला लिया है.

2017 के बाद एक भी प्रतियोगिता में नहीं हुई शामिल

प्रियंका ने बताया कि प्रमाण पत्र नहीं मिलने की वजह से उसे भोपाल की खेल अकादमी में एडमिशन नहीं मिल सका. इसकी वजह से उसकी 2 करोड़ की स्कॉलरशिप भी रुक गई. इतना ही नहीं प्रियंका वर्ष 2017 के बाद से किसी भी अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिता में शामिल नहीं हो सकी.

प्रियंका के पिता ने प्रियंका के प्रमाण पत्र के लिए स्थानीय प्रशासन से लेकर केंद्रीय खेल मंत्री रह चुके राज्यवर्धन सिंह राठौर तक को पत्र भेजे, लेकिन कहीं कोई सुनवाई नहीं हुई. अपनी होनहार बेटी का भविष्य यूं बर्बाद होते देख वे बेहद दुखी हैं.

वहीं बैतूल जिले के शिक्षा विभाग और खेल एवं युवक कल्याण विभाग ने इस मामले से पल्ला झाड़ लिया है. उनके मुताबिक ये उनके स्तर का मामला नहीं है.
Loading...

ये भी पढ़ें:- पूर्व लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन से उनके घर पर मिलने पहुंचे खेल मंत्री जीतू पटवारी

ये भी पढ़ें:- जज के घर चोरी : न्यायाधीश के बंगले से चंदन के 4 पेड़ काटकर ले गए चोर

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए बैतूल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 17, 2019, 2:19 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com