Home /News /madhya-pradesh /

Betul : 90 साल की मां को बेटों ने घर से निकाला, 65 साल की विधवा बेटी फूल बेचकर कर रही है देखभाल

Betul : 90 साल की मां को बेटों ने घर से निकाला, 65 साल की विधवा बेटी फूल बेचकर कर रही है देखभाल

Betul : मां की देखभाल करने वाली 65 साल की बेटी प्रमिला बाई गरीब और विधवा हैं.

Betul : मां की देखभाल करने वाली 65 साल की बेटी प्रमिला बाई गरीब और विधवा हैं.

Betul : प्रमिला बाई (Pramila Bai) की तीन बेटियां हैं जो अपने ससुराल में रहती हैं. वो खुद भी गरीब हैं इसलिए मां और नानी की मदद करने में असमर्थ हैं. लेकिन प्रमिला बाई को इसका कोई मलाल नहीं और किसी से कोई उम्मीद भी नहीं. मां (Maa) की सेवा का मौका मिला वो तो इसे अपनी खुशनसीबी मानती हैं.

अधिक पढ़ें ...

बैतूल. आज अंतर्राष्ट्रीय वृद्ध दिवस (international elders day) है. ये कहानी है बेसहारा रह रहे कई बुजुर्ग माता पिता में से एक ऐसी ही मां की जो बैतूल (Betul) में रहती है. भरे पूरे परिवार में बेटे-बहू और पोते सब हैं लेकिन 90 साल की इस मां को सहारा मिला तो गरीब विधवा बेटी का जो खुद भी अब उम्र की ढलान पर है. बेटी फूल माला बेचकर दो पैसे कमाती है और उसी से अपने और मां के लिए दो वक्त की रोटी जुटाती है.

अंतर्राष्ट्रीय वृद्धजन दिवस पर बैतूल की प्रमिला बाई पवार की जिंदगी की कहानी सबको पढ़ना चाहिए. उन्होंने खुद 65 साल की उम्र और बेहद गरीब होने के बाद भी मां को सहारा दिया. 18 साल पहले प्रमिला के पति की मौत हो गयी थी. तब से वो अकेली थीं. प्रमिला की 90 साल की मां राधाबाई हैं. तकरीबन 5 साल पहले दोनों भाइयों ने मां को घर से निकाल दिया. बस सब से मां की देखभाल प्रमिला ही कर रही हैं.

सुबह 4 बजे उठकर चुनती हैं फूल
उम्र के इस पड़ाव में जब खुद ही किसी सहारे की ज़रूरत होती है. वो एक वयोवृद्ध मां की देखभाल कर रही हैं. गरीबी के कारण प्रमिला के पास कोई साधन नहीं है. इसलिए उन्होंने फूल माला बेचकर अपना और अपनी मां का पेट पालना शुरू किया. प्रमिला सुबह 4 बजे उठ जाती हैं और सड़क किनारे लगे पेड़ों से फूल तोड़ती हैं. घर पहुंचकर फूलों की मालाएं बनाती हैं और फिर दुकानों और मंदिरों में बेचने जाती हैं. मालाएं बेचकर जो कुछ कमाई होती है उससे अपना और अपनी 90 साल की बुजुर्ग मां के लिए दो वक्त की रोटी जुटा पाती हैं.

ये भी पढ़ें-  MP by Election : खंडवा पर फंसा पेंच…BJP की कमरा बंद बैठक में मान मनौव्वल, कांग्रेस में भी घमासान

ऐसी बेटी भगवान सब को दे…
प्रमिला बाई की तीन बेटियां हैं जो अपने ससुराल में रहती हैं. वो खुद भी गरीब हैं इसलिए मां और नानी की मदद करने में असमर्थ हैं. लेकिन प्रमिला बाई को इसका कोई मलाल नहीं और किसी से कोई उम्मीद भी नहीं. मां की सेवा का मौका मिला वो तो इसे अपनी खुशनसीबी मानती हैं. बुजुर्ग राधाबाई भी बेटी का स्नेह पाकर भावुक हो जाती हैं. वो कहती हैं -भगवान ऐसे बेटों के बजाए प्रमिला जैसी बेटी हर मां-बाप को दे.

Tags: Betul news, Elderly story, Madhya pradesh news, Old Peoples, Society

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर