ताप्ती का जलस्तर बढ़ा: 3 साल के बाद नदी ने मंदिर में किया प्रवेश, मुलताई के लोगों के चेहरे खिले

बैतूल में मुलताई के निवासियों को उस वक्त खुशी का ठिकाना नहीं रहा जब 3 साल बाद के बाद तेज बारिश के ताप्ती सरोवर ओवरफ्लो हो गया और लोग ओवरफ्लो के बावजूद ताप्ती मंदिर पर बड़ी संख्या में पूजन करने वहां पहुंचे.

News18 Madhya Pradesh
Updated: August 8, 2019, 1:15 PM IST
News18 Madhya Pradesh
Updated: August 8, 2019, 1:15 PM IST
बैतूल में मुलताई के निवासियों को उस वक्त खुशी का ठिकाना नहीं रहा जब 3 साल बाद के बाद तेज बारिश के ताप्ती सरोवर ओवरफ्लो हो गया और लोग ओवरफ्लो के बावजूद ताप्ती मंदिर पर बड़ी संख्या में  पूजन करने वहां पहुंचे. इस दौरान पूजन पाठ सहित धार्मिक आयोजन भी ताप्ती तट पर किए गया. सरोवर के ओवरफ्लो की खबर मिलते ही आधी रात को ही ताप्ती तट पर लोगों की भीड़ उमड़ने लगी और लोगों ने भीगते-थिरकते हुए ओवरफ्लो का जश्न मनाना शुरू कर दिया.

ताप्ती मंदिर में हुआ ओवरफ्लो
ताप्ती मंदिर में हुआ ओवरफ्लो


दरअसल मंगलवार को तेज बारिश के कारण 3 साल बाद सरोवर ओवरफ्लो हो गया, जिसके सुनते ही मुलताई के लोगों ने खुशी में तापती मंदिर में पहुंचना शुरू कर दिया. लोगों ने साल बाद ताप्ती सरोवर में हुए ओवरफ्लो का जश्न मनाते हुए मंदिर में पहुंचना शुरू किया. गाजे-बाजे के साथ बड़ी संख्या में लोग मां ताप्ती का पूजन करने ताप्ती तट पहुंचे. इस दौरान पूजन पाठ सहित धार्मिक आयोजन भी ताप्ती तट पर किए गए.

3 साल बाद हुए ओवरफ्लो में लोगों ने की पूजा
3 साल बाद हुए ओवरफ्लो में लोगों ने की पूजा


3 साल बाद हुए ओवरफ्लो  में लोगों ने मनाया जश्न

सरोवर ओवरफ्लो होने के पहले ताप्ती का मंदिर गर्भगृह तक भर गया और सरोवर का जल प्रतिमा के पांव तक पहुंचा, जिसके बाद इधर ताप्ती सरोवर ओवरफ्लो हो गया. बताया जाता है कि पहले सरोवर का जल मां के पांव पखारता है, जिसके बाद ही पानी आगे की तरफ बढ़ता है.

यह भी पढ़ें- खरगोन में भारी बारिश से नदी-नाले उफान पर, प्रशासन ने जारी किया अलर्ट
First published: August 8, 2019, 1:15 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...