होम /न्यूज /मध्य प्रदेश /भिंड में डॉक्टर हनुमान के अस्पताल में ठीक होते हैं सारे रोग, मरीजों की लगती है लंबी कतार

भिंड में डॉक्टर हनुमान के अस्पताल में ठीक होते हैं सारे रोग, मरीजों की लगती है लंबी कतार

भिंड में एक ऐसा मंदिर है जहां मान्यता है कि हनुमान जी डॉक्टर बनकर मरीजों का इलाज करते हैं. अस्पताल रूपी मंदिर में सभी ब ...अधिक पढ़ें

रिपोर्ट- अरविंद शर्मा

भिंड. एमपी के भिंड जिले में एक ऐसा मंदिर है, जहां मान्यता है कि हनुमान जी खुद डॉक्टर बनकर मरीजों का इलाज करते हैं. अस्पताल रूपी मंदिर में सभी बीमारी का इलाज यहाँ डॉक्टर हनुमान जी के द्वारा किया जाता है, कहा जाता है कि मंदिर पर फेरी लगाने से बड़ी से बड़ी बीमारी ठीक हो जाती है. भिंड जिले में स्थित ददरौआ सरकार पूरे प्रदेशभर में विख्यात हैं. यहां हनुमान जी को डॉ. हनुमान के नाम से पहचाना जाता है. कई राज्यों से लोग हनुमान जी के अस्पताल रूपी इस मंदिर में रोगों को ठीक कराने के लिये आते हैं.

मान्यता है कि मंदिर में मरीजों की बीमारी ठीक करने डॉक्टर हनुमान जी खुद इलाज करते है, लेकिन यहां मरीज को भर्ती करने की जगह 5 मंगलवार फेरी लगानी होती है, दवा के रूप में भभूति दी जाती है, जिसे रोगी को खानी होती है.

300 साल पहले तालाब से निकली थी दर्द हरउआ हनुमान की मूर्ति
महंत रामदास जी महाराज बताते हैं 300 साल पूर्व यहां के एक तालाब था, इसी तालाब से हनुमानजी की मूर्ति निकली थी, उस समय एक संत मिते बाबा नाम ने यहां मंदिर में स्थापित करवाया. तब से मूर्ति की पूजा-अर्चना शुरू की गई. पूजा अर्चना के बाद यहां हनुमान जी के ऐसे चमत्कार होने लगे कि यदि किसी को कोई पीड़ा होती थी तो हनुमानजी की फेरी लगाने से वे ठीक होने लगे, जिसके बाद इन्हेंदर्द हरउआ हनुमान जी बोला जाने लगा, जोकि आज पूरे प्रदेश में दंदरौआ के नाम से विख्यात है.

डॉक्टर बनकर आए, हनुमान ने दिए थे रोगी को दर्शन
मंदिर के महंत रामदास जी बताते हैं कि शिवकुमार दास जी नाम के एक साधुओं चोट लगने के कारण उन्हें गांठ पड़ गई जिसने कैंसर का रूप ले लिया, काफी इलाज कराने के बाद वे ददरौआ आकर रुके. जब इलाज में आराम नहीं लगा तो उन्हें वापस जाने का मन हुआ. उसके बाद उन्हें हनुमान जी खुद डॉक्टर का रूप धारण किए हुए दिखाई दिए. वे महात्मा से बोले कि तुझे बहुत जल्दी है क्या? डॉक्टर से ऑपरेशन करा लें, जा ठीक हो जाएगा. उसके बाद उस महात्मा ने ग्वालियर जाकर ऑपरेशन कराया.

ऑपरेशन सफल हो गया जिसके बाद आज वह पूरी तरह ठीक हैं और बाराबंकी में गायों की सेवा कर रहे हैं, ऐसे ही कई और उदाहरण भी सुनने को मिलते हैं.

Tags: Bhind news, Mp news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें