मुंगावली/मेहगांव : मंच पर रोई 'भांजी' तो 'मामा' अफसरों से बोले-तुरंत करो मदद
Ashoknagar News in Hindi

मुंगावली/मेहगांव : मंच पर रोई 'भांजी' तो 'मामा' अफसरों से बोले-तुरंत करो मदद
युवती को आंख में ट्यूमर है और वो इलाज में मदद चाहती है.

मुंगावली में हुए कार्यक्रम में क्षेत्रीय सांसद के पी यादव (KP Yadav) शामिल नहीं हुए. जबकि आमंत्रण पत्र पर उनका नाम था. यादव का आज के इस कार्यक्रम में न आना चर्चा का विषय बना रहा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 14, 2020, 7:52 PM IST
  • Share this:
अशोक नगर/भिंड. मुख्य मंत्री शिवराज सिंह चौहान (CM Shivarj) आज अशोक नगर और भिंड के दौरे पर थे. उनकी यहां मुंगावली और मेहगांव में सभाएं हुईं. उनके साथ पूर्व सीएम उमा भारती (Uma bharti) भी थीं. मुंगावली में सभा के दौरान अपने इलाज के लिए परेशान युवती शिवराज सिंह के पैरों पर गिर पड़ी. सीएम ने तुरंत उसकी बात सुनी और इलाज की व्यवस्था करने के लिए अफसरों को निर्देश दिया. अपनी दोनों चुनावी सभाओं में उमा और शिवराज ने करोड़ों के विकास कार्यों का लोकार्पण और भूमि पूजन किया.

अशोकनगर के मुंगावली में शिवराज की चुनावी सभी चल ही रही थी कि तभी दीपा केवट नाम की एक युवती मंच पर पहुंच गयी. युवती को आंख की कोई परेशानी है. वो सीएम शिवराज से अपनी आंखों के इलाज के लिए मदद मांगने पहुंची थी.युवती काफी देर से पुलिस अधीक्षक के सामने रो रही थी और शिवराज से मिलने के लिए गिड़गिड़ा रही थी. सुरक्षा और कोरोना कारणों से पुलिस उसे इजाज़त नहीं दे रही थी. मुख्यमंत्री ने उसे मंच पर बुलाकर दिलासा दी.

दादी-पोते का ज़िक्र
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मुंगावली में अपनी पहली चुनावी सभा की. उनके साथ प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती भी थीं. दोनों ने जनता से मुलाकात की और फिर करोड़ों के विकास कार्यों का भूमि पूजन किया. उमा भारती ने अपने भाषण में कहा-कांग्रेस की अकाल मौत मरने का समय आ गया.स्व इंदिरा का नाम लिए बिना उन्होंने कहा-जो काम दादी ने किया वही काम पोते ने किया.ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कांग्रेस को ध्वस्त करने की शुरुआत की.बाकी विधायक मजबूरी में कांग्रेस से अलग हुए और भजपा में आए.
कांग्रेस ने दूल्हा बदल दिया


शिवराज सिंह चौहान ने अपनी बात कुछ इस तरह शुरू की. प्रदेश में भाजपा की सरकर बनाने वाली और अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण में जी जान लगाने वाली उमा भारती की, बहुत दिनों से मुंगावली वालों को याद आ रही थी. मैं भी यहां आने की सोच रहा था.उन्होंने कहा-कमलनाथ सरकार से उम्मीद थी कि 15 साल बाद सरकर बनी है तो तरीके से चलाएंगे. लेकिन वो तो 15 महीने भी नहीं चल पाए.अब हम आ गए हैं. किसानों को उनकी फसल का मुआवजा दिलवाएंगे. गरीब की थाली अब खाली नहीं रहेगी. हम गरीबों का कल्याण करने सत्ता में आए हैं. कमलनाथ सरकार ने बेटियों ,माताओं को धोखा दिया. ग्वालियर - चंबल में कमलनाथ को देखकर किसने वोट दिया,यहां वोट सिंधिया जी को देखकर दिया दया.लेकिन कांग्रेस सरकार ने तो दूल्हा ही बदल दिया. चेहरा दिखाया किसी का,बारात निकाली किसी की,लेकिन अंत में दूल्हा कोई और निकला.

सांसद के पी यादव ने बनायी दूरी
मुंगावली में हुए इस कार्यक्रम में क्षेत्रीय सांसज के पी यादव शामिल नहीं हुए. जबकि आमंत्रण पत्र पर उनका नाम था. यादव का आज के इस कार्यक्रम में न आना चर्चा का विषय बना रहा.

एक घंटा लेट पहुंचे मेहंगाव
मुंगावली के बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का अगला पड़ाव भिंड का मेहंगांव था. यहां भी उमा भारती साथ थीं. यहां लगभग 20 करोड़ की योजनाओं का भूमिपूजन और लोकार्पण दोनों नेताओं ने किया. साथ ही हितग्राहियों को विभिन्न योजनाओं के लाभ पत्र बांटे.

नरवरिया बीजेपी में शामिल
यहां हुए कार्यक्रम में अटेर के जनपद अध्यक्ष सोमराज सिंह नरवरिया शिवराज सिंह की मौजूदरी में भाजपा में शामिल हो गए. नरवरिया अटेर से पूर्व विधायक हेमन्त कटारे के विश्वनीय कार्यकर्ताओ में से एक थे. उन्होंने कैबिनेट मंत्री अरविंद भदौरिया के सामने भाजपा की सदस्यता ली.

उमा भारती ने कान पकड़कर माफी मांगी
यहां कार्यक्रम के दौरान पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती ने मंचासीन अतिथियों में पूर्व मंत्री राकेश चौधरी का नाम ले लिया. लेकिन गलती समझ आते ही फौरन कान पकड़कर माफी मांग ली. कांग्रेस से बीजेपी में आए पूर्व मंत्री चौधरी राकेश सिंह चतुर्वेदी बीजेपी छोड़ फिर से कांग्रेस में जा चुके हैं. उमा भारती ने आगे बोला शिवराज सिंह और मेरा स्वभाव एक जैसा है. हम मुख्यमंत्री रहते हुए भी गांव में मांग कर रोटी खा लेते थे. उमा भारती ने ओपीएस भदौरिया को हनुमान बताया, कहा जैसे हनुमान ने रावण की लंका जलाई वैसे ही ओपीएस ने किया.मैंने तिरंगे की शान के लिए छोड़ा था मुख्यमंत्री का पद. मुझसे अच्छी सरकार चला रहे हैं शिवराज सिंह.शिवराज सिंह की जीवन शैली तपस्वी की तरह है. इनके स्वभाव में धैर्य एवं सहनशीलता है.

दीदी ने गिरायी बंटाधार सरकार
सीएम शिवराज सिंह बोले- मैंने सपने में भी नहीं सोचा था कि मैं 15 महीने में फिर से मुख्यमंत्री बन जाऊंगा.उमा दीदी ने पहली बार बंटाधार सरकार गिरायी थी. कांग्रेस ने अमायन को तहसील बनाने की फ़ाइल ही बंद कर दी थी। अमायन को तहसील बनाने की अधिसूचना जारी करके ही यहां आया हूँ. कलेक्टर को कल से ही तहसील शुरू करने का निर्देश उन्होंने दिया. कमलनाथ दिग्विजय सिंह के साथ ही डॉ गोविंद सिंह पर हमला करते हुए कहा-जब खुद मंत्री थे तब नदी खोद खाई,अब नदी बचाने की याद आई. सौ सौ चूहे कहकर बिल्ली हज को चली. (भिंड से अनिल शर्मा)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज