भिंड में ऑक्सीजन की कमी से नहीं होगी कोरोना मरीज़ों की मौत, इसकी ये है वजह

भिंड में दो ऑक्सीजन प्लांट लगाए जा रहे हैं.

भिंड में दो ऑक्सीजन प्लांट लगाए जा रहे हैं.

  • Share this:
भिंड. कोरोना संकट काल में ऑक्सीजन की कमी से निपटने के लिए ज़िला प्रशासन ने बड़ा फैसला किया है. यहां भिंड ज़िला अस्पताल में ऑक्सीजन प्लांट (Oxygen plant) लगाने का फैसला किया है. एक साथ दो प्लांट बनाए जा रहे हैं जो 21 दिन में बनाकर तैयार कर दिये जाएंगे.

भिंड जिला अस्पताल में अगर सब कुछ ठीक ठाक रहा तो यहां ऑक्सीजन जनरेशन की कमी से कोरोना पीड़ितो की मौत नहीं होगी. जिला प्रशासन की मदद से अस्पताल परिसर में दो ऑक्सीजन जनरेशन प्लांट लगाए जा रहे हैं. यह प्लांट 21 दिन में बनकर तैयार हो जाएंगे.

जगह तय

कलेक्टर सतीश कुमार एस और एसपी मनोज सिंह ने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के साथ बैठक की. प्लांट के लिए जगह तय कर ली गयी है और जल्द काम शुरू करने के निर्देश दिए हैं. इस दौरान राज्य मंत्री और कोविड प्रभारी ओपीएस भदौरिया ने भी ऑक्सीजन प्लांट की जगह देखी.
ये है प्लान

कोरोना महामारी के बढ़ती मार के कारण पूरे प्रदेश में ऑक्सीजन की कमी से मौतों का आंकड़ा बढ़ता जा रहा है. इससे ऑक्सीजन की मांग भी बढ़ गई है. ऑक्सीजन की कमी दूर करने के लिए प्रदेश सरकार ने 34 जिलो में ऑक्सीजन प्लांट लगाने के निर्देश दिए हैं. हालांकि अभी तक भिंड जिला अस्पताल में ऑक्सीजन की किल्लत नहीं हुई है. फिर भी भविष्य की संभावना को देखते हुए अब जिला अस्पताल परिसर में ऑक्सीजन जनरेशन प्लांट लगाने की तैयारी है. यह प्लांट हवा में से ऑक्सीजन खींचकर उसे सुरक्षित करेगा. जो सीधे अस्पताल में भर्ती मरीजों के पलंग तक पहुंचाई जाएगी. प्लांट तैयार होने के बाद जिला अस्पताल की दूसरे शहरों पर निर्भरता भी खत्म हो जाएगी.





21 दिन में दो प्लांट तैयार

कलेक्टर सतीश कुमार एस ने दूसरा प्लांट लगाने की रूप रेखा भी तैयार कर ली है. दूसरा प्लांट लगाने के लिए कलेक्टर ने मालनपुर स्थित ऑक्सीजन प्लांट का निरीक्षण किया. ये प्लांट नाइट्रोक्स इंडस्ट्री और टेवा इंडस्ट्री के सीएमआर फंड से लगेगा. राज्य मंत्री कोविड प्रभारी ओपीएस भदौरिया ने भी कलेक्टर एसपी के साथ ऑक्सीजन प्लांट का निरीक्षण किया. फिलहाल दोनों प्लांट बनाने का काम तेजी से शुरू हो गया है. जो कोरोना महामारी के बढ़ते मरीजो को देखते हुए 21 दिन में तैयार होगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज