लाइव टीवी

कभी इस डाकू पर था दो करोड़ का इनाम, अब सिस्टम के सामने बेबस

ETV MP/Chhattisgarh
Updated: August 30, 2017, 12:54 PM IST
कभी इस डाकू पर था दो करोड़ का इनाम, अब सिस्टम के सामने बेबस
एक डकैत जिसके नाम से 60-70 के दशक में चंबल थर-थर कांपता था

एक डकैत जिसके नाम से 60-70 के दशक में चंबल थर-थर कांपता था

  • Share this:
एक डकैत जिसके नाम से 60-70 के दशक में चंबल थर-थर कांपता था. जिसके नाम से लोग तो क्या पुलिस तक सिहर जाती थी. जब उस डकैत ने बंदूक छोड़ी तो साधु बना. अब सिस्टम उसके साथ मज़ाक करने लगा.

पूर्व दस्यु पंचम सिंह आज अपनी ज़मीन के लिए सिस्टम से दो दो हाथ कर रहे हैं. नगर परिषद और बिजली विभाग से उनकी लड़ाई जारी है. उनका आरोप है कि कोर्ट के ऑर्डर के बावजूद स्थानीय प्रशासन उनकी ज़मीन पर कब्ज़ा कर रहा है.

पंचम का कहना है सरेंडर के वक्त उन्हें सरकार ने 30 बीघा ज़मीन दी थी. उन्होंने सारी ज़मीन बेच दी  और लहार में 50 लाख की लागत से अपनी 6 बीघा ज़मीन पर हज़ारों पेड़ लगाए.

पंचम का आरोप है कि उनकी ज़मीन से स्थानीय विधायक और नगर परिषद ने मिलकर 1 हजार पेड़ काट डाले और दुकानें बना ली. आरोप ये भी है कि कोर्ट के स्टे के बावजूद स्थानीय प्रशासन ने उनकी करीब एक बीघा ज़मीन से नाला निकाल दिया और बिजली के पोल भी लगवा दिए. जब उनके बेटे ने विरोध किया तो उस पर फर्ज़ी मुकदमे लगा दिए. उनका कहना है कि सरकार उन्हें इंसाफ दिलाए. अगर सरकार ऐसा नहीं करती तो वो अनशन करेंगे. सरकार फिर भी नहीं मानी तो आत्महत्या करेंगे.

हालांकि उन्होंने ये भी कहा है कि वो अपने बेटे को लेकर ज़्यादा फिक्रमंद हैं कि कहीं ज़्यादा परेशान होकर वो डकैत न बन जाए.

पंचम सिंह भिंड जिले के सिंहपुरा गांव के रहने वाले हैं. 1970 में पंचम के पास 550 डकैतों का बड़ा गिरोह था. पंचम ने अपने गिरोह के साथ मिलकर करीब 200 से ज़्यादा वारदातों को अंजाम दिया.

पंचम का कहना है कि उन्होंने उस वक्त 100 से ज़्यादा कत्ल किए थे. पंचम की दहशत का अंदाज़ा इस बात से लगाया जा सकता है कि उस ज़माने में पंचम के सिर पर 2 करोड़ का इनाम रखा गया था.
Loading...

1972 में जय प्रकाश नारायण के कहने पर पंचम सिंह ने सरेंडर किया था. कोर्ट ने पंचम को फांसी की सज़ा सुनाई थी लेकिन बाद में सज़ा को उम्रक़ैद में बदल दिया गया. करीब 8 साल के बाद अच्छे चाल-चलन के चलते पंचम की बाकी की सज़ा माफ़ हो गई थी.

पंचम जेल में रहने के दौरान ही ब्रह्म कुमारी मिशन से जुड़े और अच्छे कामों में लग गए फ़िलहाल पंचम सिंह अहिंसा और धर्म का संदेश देते हैं.

बीते 35 सालों में 25 राज्यों की 400 जेलों में प्रवचन कर चुके हैं. लेकिन डाकू से साधु बने पंचम सिंह को सिस्टम ने फिर परेशान करना शुरू कर दिया है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भिंड से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 30, 2017, 12:54 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...