लाइव टीवी

बाढ़ पर सियासत: रिकॉर्ड पर पहुंचा चम्‍बल नदी का जल स्‍तर, शिवराज ने ठहराया कमलनाथ सरकार को दोषी

Anil Sharma | News18 Madhya Pradesh
Updated: September 19, 2019, 1:48 PM IST
बाढ़ पर सियासत: रिकॉर्ड पर पहुंचा चम्‍बल नदी का जल स्‍तर, शिवराज ने ठहराया कमलनाथ सरकार को दोषी
कमलनाथ सरकार की वजह से चम्‍बल नदी में आई बाढ़-शिवराज सिंह चौहान

चम्बल नदी (Chambal River) में आई बाढ़ के बाद नेताओं की बयानबाजी से प्रदेश में सियासत का सैलाब देखने को मिल रहा है. पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Former Chief Minister Shivraj Singh Chauhan) ने बाढ़ को लेकर मुख्‍यमंत्री कमलनाथ (Chief Minister Kamal Nath) पर जमकर निशाना साधा है. जबकि कोटा बैराज डैम से लगातार पानी छोड़े जाने के चलते श्योपुर, मुरैना और भिंड जिलों में बाढ़ की गंभीर स्थिति पैदा हो गई है.

  • Share this:
भिंड. मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) की चम्बल नदी (Chambal River) में आई बाढ़ के बाद नेताओं की बयानबाजी से प्रदेश में सियासत का सैलाब देखने को मिल रहा है. भिंड जिले में बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का दौरा करने के लिए पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Former Chief Minister Shivraj Singh Chauhan) चोम्हो गांव पहुंचकर टोर्च की रोशनी में बाढ़ पीड़ितों से मिले. इस दौरान उन्होंने कांग्रेस सरकार को जमकर कोसा. उन्होंने कहा कि कांग्रेस सरकार का कोई भी मंत्री और मुख्यमंत्री कमलनाथ (Chief Minister Kamal Nath) खुद बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का दौरा करने के लिए समय नहीं निकाल पा रहे हैं. जबकि इस दौरान शिवराज ने कहा कि सरकार को डूब प्रभावित क्षेत्रों में 40 हजार प्रति हेक्टेयर के हिसाब से त्वरित सहायता राशि देनी चाहिए और मूल्यांकन के बाद अलग से राशि जारी करनी चाहिए.

शिवराज ने कमलनाथ सरकार लगाया ये आरोप
इससे पहले बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का दौरा करने पहुंचे मध्‍य प्रदेश के कैबिनेट मंत्री डॉ. गोविंद सिंह ने केंद्र सरकार से मदद की बात कही थी. जबकि भिंड में बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों के भ्रमण के दौरान पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि केवल भारी वर्षा के कारण यह आपदा नहीं आई है. सरकार की कुम्भकर्णी नींद एवं लापरवाही के कारण यह महाप्रलय की स्थिति बनी है.

दरअसल, कोटा बैराज डैम से लगातार पानी छोड़े जाने के चलते मध्य प्रदेश के श्योपुर, मुरैना और भिंड जिलों में बाढ़ की गंभीर स्थिति पैदा हो गई है. चंबल का जल स्तर उदी मोड़ पर अपने रिकॉर्ड स्तर 128.36 को पार कर 128.53 तक पहुंच गया था, जिसके बाद मंगलवार को प्रदेश के कैबिनेट मंत्री लहार विधायक डॉ. गोविंद सिंह क्षेत्र का दौरा करने पहुंचे. इस दौरान उन्होंने केंद्र सरकार से मदद की मांग की. जबकि बुधवार को प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का दौरा करने पहुंचे. इस दौरान उन्होंने प्रदेश की कांग्रेस सरकार को जमकर कोसा.

चंबल का जल स्तर उदी मोड़ पर अपने रिकॉर्ड स्तर 128.36 को पार कर 128.53 तक पहुंच गया.


मंत्री अपने घरों में बैठकर बयान फटकार रहे हैं-शिवराज सिंह चौहान
दरअसल, शिवराज सिंह चौहान अपने तय कार्यक्रम से 3 घंटे लेट भिंड पहुंचे. इस दौरान उन्होंने दिन ढलने के बाद भी बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का दौरा किया और कांग्रेस सरकार को जमकर कोसा. उन्‍होंने कहा कि प्रदेश सरकार को जिन लोगों के घर उजड़ गए हैं उन्हें पक्के मकान बना कर देना चाहिए, जिनकी फसल बर्बाद हुई है उन्हें मुआवजा देना चाहिए और नुकसान का आकलन पर किसान और गरीबों के नुकसान की भरपाई करना चाहिए.
Loading...

केंद्र सरकार द्वारा सहायता दिए जाने के सवाल पर बोलते हुए शिवराज सिंह ने कांग्रेस की कमलनाथ सरकार को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि कांग्रेस को सरकार चलाना नहीं आता. उन्होंने कहा कि केंद्र से पैसा लेने की एक प्रक्रिया है. आप नुकसान का आकलन कर नहीं रहे. मुख्यमंत्री भोपाल से निकलकर बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का दौरा करने नहीं आए. मंत्री अपने घरों में बैठकर बयान फटकार रहे हैं. और अगर हम जाते हैं तो बयान देते हैं कि शिवराज सिंह नाटक नौटंकी कर रहे हैं. जबकि हम रात रात भर दिन दिन भर जनता में घूम रहे हैं और उन्हें आने की फुर्सत नहीं. वह बैठे-बैठे कहते हैं कि पैसा दे जाओ, पैसा दे जाओ. ऐसे पैसा मिलता है कहीं? उसकी प्रक्रिया पूरी करके नुकसान का आकलन करके भेजा जाता है.

सरकार को दी नसीहत
शिवराज सिंह चौहान ने आगे कहा कि एसडीआरएफ का 863 करोड़ रुपया रखा हुआ है वह बांटो, उसमें 75% हिस्सा केंद्र का है. शिवराज सिंह तो कभी नहीं कहता था कि केंद्र से पैसा नहीं आया, तो मैं नहीं दूंगा. हम तो जनता के लिए खजाना खोल देते थे.

कांग्रेस बनाम भाजपा
भिंड में चम्बल में आई बाढ़ को लेकर आरोप प्रत्यारोप का दौर शुरू हो गया है. जहां पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बाढ़ का जिम्मेदार कांग्रेस सरकार को ठहराया है, तो वहीं कांग्रेस के सहकारिता मंत्री डॉ. गोविंद सिंह ने इसका पलटवार किया. मंत्री का कहना है कि जब शिवराज सिंह मुख्यमंत्री थे तब गुजरात में सरदार सरोवर बांध की ऊंचाई बढाई जा रही थी, लेकिन उन्होंने अपनी कुर्सी बचाने के लिए विरोध नहीं किया, जिससे मध्य प्रदेश के 236 गांव डूब में आ गए. इसलिए बाढ़ के हालातों के जिम्मेदार पूर्व सीएम शिवराज सिंह हैं.

ये भी पढ़ें- हनी ट्रैप रैकेट : ATS-भोपाल पुलिस ने की कार्रवाई, चार महिलाएं हिरासत में

BJP सांसद प्रज्ञा ठाकुर ने मीडिया को बताया 'बेईमान', कमलनाथ के मंत्री ने किया पलटवार

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भिंड से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 19, 2019, 1:33 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...