खाद्य विभाग की टीम ने फैक्ट्री में छापेमारी कर मिलावटी घी और कैमिकल किया जब्त

फैक्ट्री में कार्रवाई करती खाद्य विभाग की टीम
फैक्ट्री में कार्रवाई करती खाद्य विभाग की टीम

भिंड-ग्वालियर की सीमा में स्थित दीनदयाल फूड्स प्राइवेट लिमिटेड पर खाद्य विभाग की टीम ने बड़ी कार्रवाई को अंजाम दिया. टीम ने कार्रवाई करते हुए मौके से लाखों का मिलावटी घी और मानव शरीर के लिए घातक कैमिकल जब्त किया.

  • Share this:
भिंड. मध्य प्रदेश के भिंड-ग्वालियर की सीमा में स्थित दीनदयाल फूड्स प्राइवेट लिमिटेड(Deendayal Foods Pvt Ltd) पर खाद्य विभाग की टीम (Food Department's team)  ने बड़ी कार्रवाई को अंजाम दिया. टीम ने कार्रवाई करते हुए मौके से लाखों का मिलावटी घी (adulterated ghee)और मानव शरीर के लिए घातक कैमिकल (Chemical) भी जब्त किया. वहीं टीम द्वारा लिए गए सैंपल भोपाल लैब में जांच के लिए भेज दिए गए हैं. फैक्ट्री प्रबंधन का आरोप है कि साजिश के चलते यह कार्रवाई की गई है.

भोपाल लैब में जांच के लिए भेजे गए खाद्य पदार्थों के सैंपल 

दरअसल भिंड कलेक्टर छोटे सिंह के निर्देश पर भिंड जिला खाद्य विभाग की टीम शनिवार को दीनदयाल फूड्स प्राइवेट लिमिटेड कंपनी में कार्रवाई के लिए पहुंची थी. टीम को देखकर कंपनी प्रबंधन द्वारा सीमा का हवाला देते हुए टीम को कार्रवाई से रोका गया, इसलिए ग्वालियर से फूड एवं प्रशासन की टीम को मौके पर बुलाया गया, तब जाकर टीम ने इस कार्रवाई को अंजाम दिया. कार्रवाई के दौरान फैक्ट्री में बड़ी मात्रा में खराब मिल्क पाउडर (Milk powder) पाया. साथ ही 1 से लेकर 20 लीटर तक के घी के डिब्बे भी बिना मैन्युफैक्चरिंग डेट (Manufacturing date) के रखे पाए गए. दूध की लाइफ बढ़ाने के लिए 100 किलो हाइड्रोजन हाइड्रोजन पेरोक्साइड 175 किलो कास्टिक सोडा भी रखा मिला, जो लीवर के लिए धीमा जहर होता है. टीम ने मौके से सभी  खाद्य पदार्थों के सैंपल लेकर भोपाल लैब में जांच के लिए भेज दिए हैं.



कार्रवाई के दौरान फैक्ट्री में 100 किलो हाइड्रोजन हाइड्रोजन पेरोक्साइड, 175 किलो कास्टिक सोडा भी रखा मिला
कार्रवाई के दौरान फैक्ट्री में 100 किलो हाइड्रोजन हाइड्रोजन पेरोक्साइड, 175 किलो कास्टिक सोडा भी रखा मिला

 फैक्ट्री मैनेजर ने कहा साजिश के तहत की गई कार्रवाई

वहीं खाद्य विभाग की टीम के द्वारा की गई कार्रवाई को फैक्ट्री मैनेजर इसे एक साजिश बता रहा है. फैक्ट्री मैनेजर का कहना है कि कंपनी में जो कास्टिक सोडा बरामद किया है, वो केवल फैक्ट्री का सामान धोने के काम में आता था. साथ ही घी का प्रोडक्ट बन रहा था, जिस पर डेट डालना शेष था उसको भी टीम ने पकड़ा है यह गलत है.

यह भी पढ़ें- तेंदूपत्ता खरीदी में 160 करोड़ के घोटाले का आरोप, वन मंत्री ने EOW को सौंपी जांच

यह भी पढ़ें- हनी ट्रैप मामले में DGP बनाम DG विवाद पर हरकत में आई कमलनाथ सरकार
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज