यहां रोज कोरोना मरीज पर ऐसे नजर रखते हैं डॉक्टर, इस कलेक्टर के आइडिया पर नहीं होगा यकीन

मप्र के भिंड जिले में होम आइसोलेट मरीज स्वास्थ्य विभाग से खुश हैं.

मप्र के भिंड जिले में होम आइसोलेट मरीज स्वास्थ्य विभाग से खुश हैं.

Good News: मध्य प्रदेश के भिंड जिले के कलेक्टर सतीश कुमार एस. इन्होंने कोरोना मरीजों और डॉक्टरों की मीटिंग कराने का बीड़ा उठाया है. ये रोज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये मरीजों का हालचाल लेते हैं.

  • Last Updated: April 23, 2021, 9:09 AM IST
  • Share this:
भिंड. पूरे प्रदेश में मचे कोरोना के हाहाकार के बीच भिंड कलेक्टर सतीश कुमार एस. ने नई पहल की है. कोरोना पॉजिटिव मरीजों का डर निकालने के लिए उन्होंने मरीज और डॉक्टर की वर्चुअल मीटिंग करानी शुरू कर दी है. ये वर्चुअल मीटिंग उन मरीजों के साथ हो रही है, जो होम आइसोलेट हैं.

कोरोना के लगातार बढ़ते मरीज देखते हुए कलेक्टर सतीश कुमार एस. ने शिक्षा विभाग और स्वास्थ्य विभाग के डॉक्टरों का एक पैनल बनाया है. इनके माध्यम से होम आइसोलेट मरीजों के मोबाइल फोन पर एक लिंक शेयर किया जाता है. इसके जरिये होम आइसोलेट मरीज उस लिंक को क्लिक करके वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से जुड़ जाता है.

कलेक्टर खुद करते हैं मॉनिटरिंग

मरीज और डॉक्टर के बीच यह मीटिंग रोज सुबह-शाम होती है. इस दौरान मरीज के स्वास्थ्य की पूरी जानकारी ली जाती है. कलेक्टर सतीश कुमार एस. इस मीटिंग की मॉनिटरिंग भी खुद करते हैं. इधर, इस मीटिंग से होम आइसोलेट मरीज खाफी खुश हैं. उन्हें घर बैठे-बैठे ही इलाज की जानकारी मिल रही है.
हर जिले में हो ऐसी व्यवस्था – राज्य मंत्री

हाल ही में कॉन्फ्रेंसिंग के दौरान मौके पर पहुचे राज्य मंत्री व कोविड प्रभारी ओपीएस भदौरिया ने भी होम आइसोलेट मरीजों से वर्चुअल मीटिंग की. जिला प्रशासन की इस पहल पर मंत्री ने कहा कि ऐसी व्यवस्था हर जिले में होना चाहिए.

ऑक्सीजन की कमी से नहीं होगी कोरोना मरीज़ों की मौत



कोरोना संकट काल में ऑक्सीजन की कमी से निपटने के लिए ज़िला प्रशासन ने बड़ा फैसला किया है. यहां भिंड ज़िला अस्पताल में ऑक्सीजन प्लांट  लगाने का फैसला किया है. एक साथ दो प्लांट बनाए जा रहे हैं जो 21 दिन में बनाकर तैयार कर दिये जाएंगे. भिंड जिला अस्पताल में अगर सब कुछ ठीक ठाक रहा तो यहां ऑक्सीजन जनरेशन की कमी से कोरोना पीड़ितो की मौत नहीं होगी. जिला प्रशासन की मदद से अस्पताल परिसर में दो ऑक्सीजन जनरेशन प्लांट लगाए जा रहे हैं. यह प्लांट 21 दिन में बनकर तैयार हो जाएंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज