लाइव टीवी

भिंड लोकसभा: 35 साल बाद यहां BJP ने किसी महिला को दिया टिकट, कौन हैं संध्या राय?

News18Hindi
Updated: May 11, 2019, 1:05 PM IST
भिंड लोकसभा: 35 साल बाद यहां BJP ने किसी महिला को दिया टिकट, कौन हैं संध्या राय?
साल 1989 में बीजेपी ने भिंड में पहली जीत दर्ज की थी. बीजेपी के नरसिंह राव दीक्षित ने बीजेपी को पहली जीत दिलाई. इसके बाद क्या हुआ जानिए.

साल 1989 में बीजेपी ने भिंड में पहली जीत दर्ज की थी. बीजेपी के नरसिंह राव दीक्षित ने बीजेपी को पहली जीत दिलाई. इसके बाद क्या हुआ जानिए.

  • Share this:
मध्यप्रदेश में भिंड लोकसभा सीट पर बीजेपी का पिछले 30 साल से कब्जा है. बीजेपी ने इस सीट पर उम्मीदवार बदले तो भी जीत मिली और एक ही उम्मीदवार पर लगातार दांव खेला तो वो भी कामयाब हुआ. यहां तक कि इस सीट से कांग्रेस के हारे हुए उम्मीदवार को टिकट दिया तो वो भी बीजेपी की लहर में चुनाव जीत गया. यही वजह है कि मध्यप्रदेश में भिंड को बीजेपी का सबसे मजबूत किला माना जाता है. यहां लोकसभा चुनाव 2019 के छठे चरण में 12 मई को मतदान होगा.

भिंड लोकसभा राजनीतिक इतिहास
भिंड लोकसभा सीट से विजयराजे सिंधिया सिंधिया, उनकी बेटी वसुंधरा राजे सिंधिया भी चुनाव लड़ चुकी हैं. हालांकि विजयराजे सिंधिया ने यहां चुनाव जीता था जबकि वसुंधरा राजे सिंधिया चुनाव हार चुकी हैं.

अन्य लोकसभा क्षेत्रों के बारे में पढ़ने के लिए यहां जाएं

साल 1989 में बीजेपी ने भिंड में पहली जीत दर्ज की थी. बीजेपी के नरसिंह राव दीक्षित ने बीजेपी को पहली जीत दिलाई. इसके बाद 1991 में बीजेपी ने योगानंद सारस्वत को टिकट दिया और उन्होंने कांग्रेस के उदयन शर्मा को हराया . इसके बाद 1996 में बीजेपी ने फिर से उम्मीदवार को बदल कर रामलखन सिंह को टिकट दिया. राम लखन सिंह ने बीजेपी को लगातार 1996,1998,1999 और 2004 के लोकसभा चुनाव में जीत दिलाई. साल 2009 में भी बीजेपी का विजयी रथ जारी रहा और अशोक अर्गल ने कांग्रेस उम्मीदवार डॉ. भागीरथ प्रसाद को हराया. लेकिन भिंड की विडंबना देखिए कि साल 2014 में बीजेपी ने डॉ भागीरथ प्रसाद को टिकट दिया और वो चुनाव जीत गए.

बीजेपी उम्‍मीदवार संध्या राय जन संपर्क के दौरान एक सभा में बीच में बैठे हुई हैं.


भिंड लोकसभा में कौन हैं उम्मीदवार
Loading...

बीजेपी ने 35 साल बाद भिंड लोकसभा सीट पर महिला उम्मीदवार को उतारा है. संध्या राय को उम्मीदवार बनाने के लिए बीजेपी ने मौजूदा सांसद डॉ भागीरथ प्रसाद का टिकट काटा है. जबकि कांग्रेस ने देवाशीष जरारिया को टिकट दिया है.


भिंड लोकसभा में कौन हैं संध्या राय
संध्या राय दिमनी से पूर्व विधायक और वर्तमान में महिला आयोग की सदस्य हैं. बीजेपी ने संध्या राय के रूप में 35 साल बाद किसी महिला को उम्मीदवार बनाया है. इससे पहले 1984 में वसुंधरा राजे सिंधिया को टिकट दिया था जो कि चुनाव हार गई थीं. वसुंधरा के बाद बीजेपी ने कभी भी महिला उम्मीदवार को मौका नहीं दिया. संध्या राय को केंद्रीय मंत्री नरेंद्र तोमर के नजदीक माना जाता है.

भिंड लोकसभा में कौन हैं देवाशीष जरारिया
बीजेपी को उसी के गढ़ में घेरने के लिए कांग्रेस ने रणनीति पर जोर देते हुए कांग्रेस ने इस बार एक युवा दलित चेहरे को मैदान में उतारा है. 2 अप्रैल को भारत बंद के वक्त देवाशीष जराररिया की सक्रियता नजर आई थी. देवाशीष जरारिया ने एक साल पहले ही कांग्रेस ज्वाइन की है. इससे पहले वो बीएसपी काडर थे. कांग्रेस ने दलित वोटरों को लुभाने के लिए देवाशीष पर दांव खेला है.

कांग्रेस प्रत्याशी देवाशीष जरारिया


इसके अलावा कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, दिग्वजिय सिंह और मुख्यमंत्री कमलनाथ के साथ उनकी तस्वीरों ने भी उनकी भिंड से दावेदारी के कयासों को आधार दिया था. हालांकि पार्टी के भीतर देवाशीष जरारिया को टिकट देने से अंतर्कलह भी है लेकिन कांग्रेस तमाम अंतर्विरोधों के बावजूद देवाशीष जरारिया को ही बीजेपी को टक्कर देने के लिए मुफीद मान रही है.

भिंड लोकसभा सीट में विधानसभा की 8 सीटें हैं. इन 8 सीटों में से 5 पर कांग्रेस, 2 पर बीजेपी और 1 पर बीएसपी का कब्जा है. 2011 की जनगणना के मुताबिक भिंड की आबादी 2489759 है जिसकी 75.3 फीसदी आबादी ग्रामीण क्षेत्र और 24.7 फीसदी आबादी शहरी क्षेत्र में रहती है. भिंड में 23.1 फीसदी आबादी अनुसूचित जाति की है और .85 फीसदी आबादी अनुसूचित जनजाति की है.

यह भी पढ़ें-

देवरिया लोकसभा सीट: कलराज मिश्रा वाली सफलता दोहरा पाएंगे रमापति राम

संत कबीर नगर: त्रिकोणीय संघर्ष में बीजेपी के सामने महागठबंधन और कांग्रेस की बड़ी चुनौती

कुशीनगर लोकसभा सीट: त्रिकोणीय जंग में किसके सिर बंधेगा सेहरा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भिंड से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: May 9, 2019, 10:10 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...