DGP को जब पता चला सरकारी अस्पतालों में ब्लड की कमी है तो...

भोपाल के सरकारी अस्पतालों में  खून उपलब्ध नहीं है
भोपाल के सरकारी अस्पतालों में खून उपलब्ध नहीं है

कोरोना (Corona) संक्रमण काल में प्रदेश के पुलिस (Police) बल ने अपनी सरकारी ज़िम्मेदारी के साथ इंसानियत का भी परिचय दिया.

  • Share this:
भोपाल.मध्य प्रदेश के डीजीपी (DGP) विवेक जौहरी को जब इस बात का पता चला कि सरकारी अस्पतालों में ब्लड की भारी कमी है तो उनके एक निर्देश पर एक एडीजी सहित 100 से ज्यादा पुलिस अधिकारियों और कर्मचारियों ने रक्तदान (Blood Donation) कर दिया. पुलिस अस्पताल में शिविर लगाया गया. इसमें पुलिस अधिकारियों और कर्मचारियों ने ब्लड डोनेट किया .यह ब्लड सरकारी अस्पतालों में जरूरतमंदों के लिए भेज दिया गया.

पुलिस महानिदेशक विवेक जौहरी और विशेष पुलिस महानिदेशक (विसबल) विजय यादव के  निर्देश पर पुलिस चिकित्‍सालय सातवीं वाहिनी में सौ से अधिक पुलिसकर्मियों ने रक्‍तदान किया. इस दौरान पुलिस जवानों ने जनसेवा के लिए प्रतिबद्धता का परिचय दिया.

डीजीपी को जब पता चला...
डीजीपी विवेक जौहरी की जानकारी में यह आया था कि सरकारी अस्पतालों में मरीज़ों के लिए खून की कमी है. यह सुनते ही उन्हें इस बात का भी अहसास था कि कोरोना काल में आम मरीज़ों के लिए ब्लड जुटाना आसान नहीं होगा. खून की कमी किसी की जिंदगी पर भारी पड़ सकती है. इसलिए उन्होंने अधीनस्थ अधिकारियों से चर्चा के बाद स्वेच्छा से से ब्लड देने वाले पुलिस अधिकारी कर्मचारियों के लिए शिविर लगवाया.



एडीजी सहित 100 से ज्यादा जवानों ने किया रक्तदान
कोरोना संक्रमण काल में प्रदेश के पुलिस बल ने अपनी सरकारी ज़िम्मेदारी के साथ इंसानियत का भी परिचय दिया. शिविर में अतिरिक्‍त पुलिस महानिदेशक (कल्‍याण) विजय कटारिया सहित सौ से अधिक पुलिस अधिकारी/कर्मचारी आए.ये कैम्प निरीक्षक रुस्‍तम सिंह और डॉक्टर अरविंद यादव ने अरेंज किया था. शिविर में पुलिस महानिरीक्षक संतोष कुमार सक्‍सेना, उप पुलिस महानिरीक्षक इरशाद वली,  दीपक वर्मा, सेनानी शशिकांत शुक्‍ला,  सुनील पाण्‍डे तथा यूसुफ कुरैशी सहित अन्‍य अधिकारी उपस्थित थे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज