नन्हें-मुन्नों ने जीती कोरोना की बड़ी जंग : पढ़िए 11 महीने, डेढ़ और 2 साल के वॉरियर्स की कहानी
Bhopal News in Hindi

नन्हें-मुन्नों ने जीती कोरोना की बड़ी जंग : पढ़िए 11 महीने, डेढ़ और 2 साल के वॉरियर्स की कहानी
11 महीने, डेढ़ और 2 साल के बच्चों ने जीती कोरोना की जंग

भोपाल (bhopal) के कोरोना सेंटर (corona centres) से मरीज़ों के ठीक होकर घर लौटने का सिलसिला जारी है. रोज दर्जनों मरीज़ अपने घर लौट रहे हैं. इनमें से कुछ मरीज़ सबका ध्यान खींच रहे हैं

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
भोपाल.राजधानी भोपाल (bhopal) में छोटे बच्चों ने कोरोना (corona) की जंग जीत कर बड़ों के सामने मिसाल पेश की है. इन नन्हे मुन्नों ने इलाज के दौरान माता पिता को जीवन जीना सिखाया. अब यह छोटे-छोटे बच्चे स्वस्थ होकर अपने घर चले गए हैं. इन बच्चों (children) ने सबको यह भी सिखाया है कि जब छोटे छोटे बच्चे इस बीमारी से ठीक हो रहे हैं तो किसी को डरने की जरूरत नहीं है. इलाज के जरिए आसानी से ठीक हो सकते हैं.

भोपाल के कोरोना सेंटर से मरीज़ों के ठीक होकर घर लौटने का सिलसिला जारी है. रोज दर्जनों मरीज़ अपने घर लौट रहे हैं. इनमें से कुछ मरीज़ सबका ध्यान खींच रहे हैं. स्वस्थ हुए मरीज़ों में 90 साल से ऊपर से लोगों से लेकर नवजात बच्चे तक शामिल हैं. कई परिवार ऐसे थे जिनके बच्चों को कोरोना नहीं था, लेकिन माता-पिता को कोरोना होने की वजह से अस्पताल में भर्ती रहना पड़ा. कई माता-पिता ऐसे थे जो खुद तो कोरोना पॉजिटिव थे उनके साथ उनके छोटे-छोटे बच्चे भी संक्रमित हो गए थे.

बेटी ने माता-पिता को डर का सामना करना सिखाया
राजधानी के हॉटस्पॉट जाटखेड़ी में रहने वाले पति-पत्नी और उनकी 11 महीने की बेटी को कोरोना हो गया था. उन्हें जब कोरोना पॉजिटिव होने की बात पता चली तो वह अपनी इस मासूम बेटी के इलाज को लेकर डर गए. उन्हें इस बात का डर सताने लगा कि 11 महीने की बच्ची का इलाज कैसे होगा. सवाल उठने लगे कि क्या बच्ची ठीक हो पाएगी. लेकिन इसी 11 महीने की बच्ची ने अपने माता-पिता को डर का सामना करना सिखाया. जैसे-जैसे अस्पताल में दिन बीतते गए, वैसे-वैसे पति- पत्नी का हौसला बढ़ता गया. बच्ची उनके पास थी. उसका इलाज भी उनके साथ ही चल रहा था.  उन्हें अपनी बेटी को देखकर हिम्मत आयी कि जब 11 महीने की बच्ची इस जंग को जीत सकती है तो कोई भी इससे लड़ सकता है.



नन्हें-मुन्नों ने नहीं किया परेशान...


अशोका गार्डन में रहने वाले एक परिवार में सभी को कोरोना हो गया था. लेकिन जैसे जैसे रिपोर्ट आती गई वैसे वैसे इलाज के बाद सभी ठीक होते गए. इनमें डेढ़ साल की बच्ची और उसकी मां भी शामिल थे. मां ने बताया कि बच्ची घर में अक्सर परेशान करती थी. लेकिन जिस दिन से अस्पताल में आए उस दिन से उसने परेशान नहीं किया.  वही हॉटस्पॉट जाट खेड़ी इलाके में रहने वाली एक अन्य ठीक हुई महिला ने बताया कि उनका 2 साल का बेटा भी घर पर सब को परेशान करता था. लेकिन अस्पताल में उसने किसी को परेशान नहीं किया. इलाज भी ठीक हुआ. इन दोनों नन्हें-मुन्नों की मां बताती हैं कि यह अनुभव अद्भुत है. क्योंकि बच्चे मस्ती ना करें तो फिर बचपन कैसा.

ये भी पढ़ें-

MP में स्कूलों में लागू होगा Odd-Even फॉर्मूला! शिक्षा विभाग का प्लान तैयार

Unlock होते ही इंदौर में पहुंची अवैध हथियारों की खेप : 35 पिस्टल-कट्टे ज़ब्त
First published: June 2, 2020, 9:11 AM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading