सुर्खि़यां : ADG मिश्रा के पिता जिंदा हैं या मृत, देखने जाएगी हाईलेवल टीम, CM ने कहा सपने देखो

एडीजी मिश्रा के पिता कुलामणि मिश्रा के ज़िंदा या मृत होने का सच जानने के लिए पुलिस और डॉक्टरों की टीम को डीजी स्तर का अधिकारी उनके घर तक लेकर जाएगा.एडीजी मिश्रा अभी तक जांच टीम को घर के बाहर से ही बैरंग लौटा रहे थे

News18 Madhya Pradesh
Updated: March 12, 2019, 9:00 AM IST
सुर्खि़यां : ADG मिश्रा के पिता जिंदा हैं या मृत, देखने जाएगी हाईलेवल टीम, CM ने कहा सपने देखो
मुख्यमंत्री कमलनाथ (फाइल फोटो)
News18 Madhya Pradesh
Updated: March 12, 2019, 9:00 AM IST
राजधानी भोपाल के अख़बारों की आज की सुर्खियों में लोकसभा चुनाव की हलचल, नेताओं के तीखे शब्दबाण, दौरे, बैठकों की खबरें हैं.

पत्रिका ने अपनी आज की पहली ख़बर सीएम कमलनाथ को कोड करते हुए छापी है. अखबार ने सब हैडिंग दी है- लोकसभा चुनाव की घोषणा होते ही नेताओं के तीखे हुए शब्द बाण. हैडिंग दी है- प्रदेश में सरकार हमारी, सत्ता के सपने देख रही है बीजेपी-कमलनाथ. इंदौर में एक कार्यक्रम में शामिल हुए कमलनाथ ने मीडिया से कहा, बीजेपी सत्ता में आने के सपने देख रही है. किसी को सपने देखने से नहीं रोक सकते. ये सबका अधिकार है. उन्होंने कहा लोकसभा चुनाव की घोषणा होते ही केंद्र सरकार की उल्टी गिनती शुरू हो गयी है.

दैनिक भास्कर ने कांग्रेस स्क्रीनिंग कमेटी की दिल्ली में हुई बैठक की खबर दी है. अखबार लिखता है मध्य प्रदेश में लोकसभा चुनाव के लिए करीब 10 सीटों पर प्रत्याशियों के नाम पर सहमति बनती नज़र आ रही है. गुना शिवपुरी से ज्योतिरादित्य सिंधिया और रतलाम से भूरिया का नाम. छिंदवाड़ा से नकुलनाथ, राजगढ़ से दिग्विजय सिंह, ग्वालियर से प्रियदर्शिनी राजे, मंदसौर से मीनाक्षी नटराजन, धार से गजेन्द्र सिंह राजूखेड़ी, खंडवा से अरुण यादव, सतना से अजय सिंह और सागर से प्रभु सिंह के नाम तय माने जा रहे हैं. कुल 10 सीटों पर स्थिति साफ.

ये भी पढ़ें - कांग्रेस स्क्रीनिंग कमेटी में MP के कुछ प्रत्याशियों के नाम पर सहमति, घोषणा बाद में होगी

पत्रिका ने दूसरी हैडलाइन, एडीजी राजेन्द्र कुमार मिश्रा के पिता के संबंध में दी है. मध्य प्रदेश राज्य मानवाधिकार आयोग ने डीजीपी को दिए निर्देश. अब डीजी के नेतृत्व में टीम जानेगी एडीजी मिश्रा के पिता ज़िंदा हैं या मृत. एडीजी मिश्रा के पिता कुलामणि मिश्रा के ज़िंदा या मृत होने का सच जानने के लिए पुलिस और डॉक्टरों की टीम को डीजी स्तर का अधिकारी उनके घर तक लेकर जाएगा.एडीजी मिश्रा अभी तक जांच टीम को घर के बाहर से ही बैरंग लौटा रहे थे. वे नहीं चाहते थे कि उनके पिता के बारे में सच सामने आए. आयोग ने सोमवार को डीजीपी को निर्देश दिए कि वे मिश्रा से वरिष्ठ रैंक के अधिकारी के साथ जांच टीम को उनके घर भेजें.

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता, पूर्व सांसद और विधायक सुंदर लाल तिवारी के निधन की ख़बर सभी अखबारों के पहले पेज पर है. रीवा से सांसद और गुढ़ से विधायक रहे सुंदर लाल तिवारी का सोमवार को दिल का दौरा पड़ने से रीवा में निधन हो गया. उनका अंतिम संस्कार आज उनके गृहग्राम तिवनी में होगा. सुंदर लाल तिवारी 1999 में रीवा से सांसद और 2013 में गुढ़ से विधायक थे. उनके पिता स्व श्रीयुत श्रीनिवास तिवारी कांग्रेस के खाटी नेता थे और विधानसभा के अध्यक्ष भी रहे.

नई दुनिया ने दिलचस्प स्पेशल रिपोर्ट छापी है. उसने हैडिंग दी है -जिस भोपाल पर 100 साल तक था महिला नबाव का राज, वहां 62 साल में सिर्फ 2 महिला सांसद. भोपाल में लगातार 1844 से लेकर 1926 तक महिला नवाब रहीं. लेकिन राजधानी से अब तक सिर्फ 2 महिला सांसद रहीं. 1957 और 62 में कांग्रेस के टिकट पर मैमुना सुल्तान सांसद चुनी गयीं. उसके बाद 1999 में उमा भारती भाजपा के टिकट पर सांसद चुनी गयीं.

दैनिक भास्कर ने टिकट के लिए मचे भाजपा में मचे घमासान पर खबर दी है कि पूर्व सीएम बाबूलाल गौर बोले-भोपाल से मैं लड़ूंगा चुनाव, राघवजी ने बेटी ज्योति शाह के लिए टिकट की दावेदारी की. पूर्व सांसद रघुनंदन शर्मा, पूर्व विधायक आर डी प्रजापति ने चुनाव लड़ने के लिए टिकट मांगा है.
दैनिक भास्कर ने राजधानी के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल हमीदिया की खबर दी है. इस अस्पताल में एक महीने से दर्द की दवा नहीं है. 1500 से ज़्यादा मरीज परेशान हैं. हार्ट की बीमारी से जुड़ी दवाइयों का भी अस्पताल में टोटा है. अस्पताल में करीब 10 दवाइयां ऐसी हैं जो मरीज़ों को नहीं दी जा रही हैं. हर दूसरे मरीज़ को एक ना एक दवा बाहर से खरीदना पड़ रही हैं.

अखबार ने खबर छापी है कि प्रदेश की 29 लोकसभा सीटों के लिए भाजपा चुनाव चरण के हिसाब से प्रत्याशी उतारेगी. उन सीटों के प्रत्याशियों के नाम की घोषणा पहले की जाएगी, जहां पहले चुनाव होना है. जिन सीटों पर प्रत्याशियों के नाम स्पष्ट हैं उन्हें भी घोषित कर दिया जाएगा. बहुजन समाज पार्टी भी 26 सीटों पर चुनाव लड़ेगी. आठ दस दिन में प्रत्याशियों के नाम की घोषणा कर दी जाएगी. पहली सूची में एक दर्जन से ज़्यादा प्रत्याशियों के नाम होंगे.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 12, 2019, 8:59 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...