लाइव टीवी

BMHRC प्रबंधन की इस पॉलिसी को लेकर विरोध मुखर, एक साथ 13 डॉक्टरों ने दिया इस्तीफा
Bhopal News in Hindi

Pooja Mathur | News18 Madhya Pradesh
Updated: January 23, 2020, 4:20 PM IST
BMHRC प्रबंधन की इस पॉलिसी को लेकर विरोध मुखर, एक साथ  13 डॉक्टरों ने दिया इस्तीफा
प्रमोशन पॉलिसी को लेकर प्रबंधन से नाराज़ चल रहे थे डॉक्टर

प्रमोशन पॉलिसी (Promotion Policy) को लेकर अस्पताल प्रबंधन से नाराज़ चल रहे 13 डॉक्टरों ने भोपाल मेमोरियल अस्पताल से इस्तीफा दे दिया है.

  • Share this:
भोपाल. राजधानी में स्थित भोपाल मेमोरियल अस्पताल (Bhopal Memorial Hospital) में प्रबंधन (Management) से नाराज 13 डॉक्टरों ने सामूहिक इस्तीफा दे दिया है. ये डॉक्टर अस्पताल में प्रमोशन पॉलिसी समेत अपनी विभिन्न मांगों को लेकर लंबे समय से प्रबंधन से बात कर रहे थे लेकिन कोई नतीजा नहीं निकला. साथ ही प्रबंधन की ओर से अस्पताल में प्रमोशन पॉलिसी लागू ना होने से भी नाराज़ चल रहे थे, जिसके कारण 13 डॉक्टरों ने सामूहिक इस्तीफा सौंप दिया. डॉक्टरों ने अपना इस्तीफा डायरेक्टर डॉ. प्रभा देशिकन को सौंपा है.

एक महीने में मांगें नहीं मानीं तो छोड़ देंगे अस्पताल
इस्तीफा देने वाले डॉक्टर अगले एक महीने तक अपनी सेवाएं देते रहेंगे. डॉक्टरों की मानें तो अस्पताल की हालत दिनों दिन बिगड़ती जा रही है, लेकिन सरकार मामले पर कुछ भी नहीं कर रही है. इसलिए इन डॉक्टरों के पास इस्तीफा देने के अलावा कोई विकल्प नहीं बचा था. बीते एक महीने से चर्चा का दौर जारी रहा लेकिन चर्चा विफल रही. अब आने वाले एक महीने के अंदर यदि सरकार मांगों पर विचार नहीं करती तो अस्पताल को ये डॉक्टर्स अलविदा कर देंगे.

डॉक्टरों की चाह सीनियारिटी रहे बरकार

जानकारी के मुताबिक इन डॉक्टरों में लंबी सेवाओं के बावजूद जूनियर ही बने रहने का डर था. दरअसल इन दिनों अस्पताल में प्रोफेसर सहित अन्य पदों पर भर्तियां चल रही हैं. इस्तीफा देने वाले सभी एसोसिएट प्रोफेसर हैं और उनका दूसरा प्रमोशन पेंडिंग है. इन डॉक्टरों का कहना है कि प्रोफेसर के पद के लिए पहले हमारा प्रमोशन करें फिर नए प्रोफेसरों की नियुक्ति की जाए, ताकि वरिष्ठता बनी रहे.

विवाद की स्थिति
अंदर की खबर ये भी है कि सामूहिक इस्तीफे के पहले इन डॉक्टरों में इसको लेकर विवाद भी हुआ था. एसोसिएशन के अधिकारी ने मांगों के समर्थन के लिए आवाज़ उठाते हुए सभी डॉक्टरों के नाम इस्तीफे के पत्र पर लिख डाले थे. पर कुछ डॉक्टर ऐसा करने से पीछे हटना चाहते थे, जिससे डॉक्टरों के बीच आपस में विवाद हो गया. अंत में 13 डॉक्टरों ने ही इस्तीफा देने का फैसला लिया.ये भी पढ़ें -
सागर में ज़िंदा जलाए गए धनप्रसाद की मौत : बीजेपी ने सरकार को ठहराया ज़िम्मेदार
शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती को सांस लेने में तकलीफ, जबलपुर के अस्पताल में हुए भर्ती

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 23, 2020, 4:10 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर