सिमी आतंकियों के अभी भी नखरे जारी, नहीं लगवा रहे वैक्सीन, पूछो तो कहते हैं ये बात

भोपाल सेंट्रल जेल में बंद सिमी के आतंकवादियों ने कोरोना का टीका लगवाने से मना कर दिया है. उनका कहना है धर्म इसके लिए इनकार करता है. (प्रतीकात्मक फोटो)

मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में सिमी के खूंखार आतंकवादी कैद हैं. सेंट्रल जेल में बंद 23 आतंकी कोरोना टीका नहीं लगवाएंगे. उनका कहना है कि धर्म इसकी इजाजत नहीं देता. इनका सरगना टीका लगवा चुका है.

  • Share this:
भोपाल. मध्य प्रदेश की जेलों में शत प्रतिशत कोरोना वैक्सीनेशन अभियान के तहत कैदियों को टीका लगाया जा रहा है. हर जेल में शत-प्रतिशत टीकाकरण हो चुका है. लेकिन, भोपाल सेंट्रल जेल में बंद सिमी के 23 आतंकवादियों ने टीका लगवाने से साफ इनकार कर दिया. उन्होंने टीका नहीं लगवाने को लेकर धर्म का बहाना बनाया है. इस जेल में 99 प्रतिशत वैक्सीनेशन हो चुका है.

कुछ दिनों पहले जेल विभाग ने सभी कलेक्टर को निर्देश दिए थे कि उनके क्षेत्र में आने वाली जेलों में टीकाकरण की रफ्तार तेज की जाए और वहां शत-प्रतिशत टीकाकरण हो. इस निर्देश के बाद प्रदेश की अधिकांश जेलों में पूरी तरह से कैदियों को टीकाकरण हो चुका है. लेकिन, भोपाल की सेंट्रल जेल ऐसी इकलौती जेल है, जहां सिमी आतंकियों ने वैक्सीनेशन कराने से मना कर दिया है.
सिमी कैदियों ने धर्म का बनाया बहाना

भोपाल सेंट्रल जेल के अधीक्षक दिनेश नरगावे ने बताया कि जेल में 99% कैदियों का वैक्सीनेशन हो चुका है. यहां सिमी के 28 आतंकवादी भी सजा काट रहे हैं. इनमें सिमी के सरगना सफदर नागौरी, हाफिज, अहमद बेग, आमिल परवेज और अमान ने टीका लगवाया है, लेकिन बाकी 23 आतंकियों ने वैक्सीन नहीं लगवाई. धर्म की आड़ लेकर इन सिमी कैदियों ने वैक्सीनेशन नहीं कराया. बता दें, भोपाल में खुद मुस्लिम धर्मगुरुओं ने वैक्सीनेशन कराने की लोगों से अपील की है.
जेल में वैक्सीनेशन की स्थिति

जेल अधीक्षक दिनेश नरगावे ने बताया कि जेल में 3500 से अधिक विचाराधीन और सजायाफ्ता कैदी हैं. इनमें से कई पैरोल पर बाहर हैं. अप्रैल में 1278 और जून में 2219 बंदियों को वैक्सीन का पहला डोज लग चुका है. जेल में अभी तक 3400 से ज्यादा बंदियों को वैक्सीन लग चुकी है.

ब्लैक फंगस भी बढ़ रहा

मध्य प्रदेश में कोरोना संक्रमण की दर भले ही घट रही है, लेकिन ब्लैक फंगस की दर लगातार बढ़ती जा रही है. प्रदेश में पिछले 10 दिनों में ब्लैक फंगस के मरीज तेजी से बढ़े हैं. बीते 10 दिनों में ब्लैक फंगस के करीब 477 नए मरीज मिले. अब तक इस बीमारी से  87 लोगों की मौत हो चुकी है.

भोपाल में ब्लैक फंगस से मरने वाले मरीजों की संख्या ज्यादा है. प्रदेश में 31 मई से 9 जून तक 87 मौतें हुईं. इन में से 47 मरीज भोपाल के थे. इंदौर में अब तक सबसे ज्यादा 654 नए मरीज मिले हैं. गौरतलब है कि प्रदेश में ब्लैक फंगस से अब तक कुल 135 लोगों की मौत हो चुकी है. इस बीमारी ने प्रदेश में 1719 लोगों को अपनी चपेट में लिया था. इनमें से 1000 मरीजों का अभी भी इलाज चल रहा है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.