स्वतंत्रता दिवस: MP की जेलों में हत्या के अपराध में सजा काट रहे 244 कैदी 15 अगस्त को होंगे आजाद

सज़ा के दौरान कैदियों ने जेल में लुहारी, कारपेंट्री जैसे काम सीख लिए हैं.

आजादी (Independence day) के इस पर्व पर रिहा किए जाने वाले कैदियों का डाटा (data) शासन के पास भेजा जाता है. वहां से मंज़ूरी मिलने पर फिर इन्हें रिहा किया जाता है.

  • Share this:
भोपाल. मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) की जेलों (Jail) में हत्या जैसे जघन्य मामलों में सजा काट रहे 244 कैदी 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस (Independence day of India) के मौके पर खुली हवा में सांस लेंगे. इन कैदियों को अच्छे आचरण के कारण रिहा कर दिया जाएगा. जेल प्रशासन ने इसकी तैयारी पूरी कर ली है. जिन कैदियों को लेने परिवार आएंगे वो उनके साथ जाएंगे, जिन्हें लेने कोई नहीं आएगा उन्हें जेल प्रशासन घर तक छोड़ने का इंतज़ाम करेगा.

जेल मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने बताया कि स्वतंत्रता दिवस के मौके पर 15 अगस्त को इस बार प्रदेश की जेलों में आजीवन कारावास की सजा काट रहे 244 बंदियों को रिहा किया जाएगा. सभी मापदंडों के तहत सरकार ने इन सभी कैदी को रिहा करने का फैसला लिया है. इनमें एक महिला और 243 पुरुष कैदी शामिल हैं. भोपाल जेल अधीक्षक दिनेश नरगावे ने बताया कि हर साल अच्छे आचरण और तय मापदंडों को ध्यान में रखते हुए 15 अगस्त को कैदियों को रिहा किया जाता है. ये कैदी अब तक 14 से लेकर 20 वर्ष तक का कारावास काट चुके हैं. शासन ने शेष अवधि की सजा माफ कर दी है.

जेल में कैदियों को मिला हुनर
जेलों के अंदर बंद कैदियों को रोजगार के कई कोर्स और ट्रेनिंग दी जाती है. इससे जब कैदी बाहर जाते हैं तो वे अपने पैरों पर खड़े हो सकते हैं. रिहा होने वाले बंदियों ने जेल में रहते हुए टेलरिंग, कारपेंटरी, लोहारी, भवन-निर्माण की कारीगरी सहित कई तरह की ट्रेनिंग ली है. जेल मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने रिहा होने वाले बंदियों से अपेक्षा की है कि वे अपने परिवार एवं समाज में पुर्नस्थापित होकर समाज एवं प्रदेश के विकास में सहभागी बनेंगे.

कहां से कितने कैदी होंगे रिहा
स्वतंत्रता दिवस के मौके पर जिन कैदियों की सजा माफ की जाती है,  उनका सबसे पहले डाटा तैयार किया जाता है. इसी डाटा को शासन स्तर पर भेजा जाता है. शासन स्तर पर जब इनकी रिहाई की मंजूरी मिल जाती है तो फिर इन्हें रिहा किया जाता है. स्वतंत्रता दिवस पर केन्द्रीय जेल ग्वालियर से इस बार 40, उज्जैन से 36, सतना से 30, भोपाल से 28, इंदौर से 27, जबलपुर और सागर से 18-18, रीवा से 14, बड़वानी से 11, होशंगाबाद से 7, नरसिंहपुर से 10, खुली जेल भोपाल से 2, खुली जेल होशंगाबाद से एक, जिला जेल छतरपुर और बैतूल से एक-एक बंदी को रिहा किया जाएगा.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.