बंद हो सकते हैं इस पत्रकारिता विश्विद्यालय के 259 स्टडी सेंटर, EOW जांच में पाए गए फर्जी

Manoj Rathore | News18 Madhya Pradesh
Updated: August 22, 2019, 12:15 PM IST
बंद हो सकते हैं इस पत्रकारिता विश्विद्यालय के 259 स्टडी सेंटर, EOW जांच में पाए गए फर्जी
इस पत्रकारिता विश्विद्यालय के 259 स्टडी सेंटरों पर लटकी तलवार

माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय में हुए घोटाले की जांच की आंच अब उन 259 स्टडी सेंटर्स (Study Centres) तक पहुंच गई, जिनका कनेक्शन बीजेपी नेताओं और उनके करीबियों से हैं. जांच (Investigation) में पाया गया है कि नियमों को ताक पर रखकर स्टडी सेंटर्स खोलने की परमीशन दी गई. अब इन सेंटरों पर बंद होने का खतरा मंडरा रहा है.

  • Share this:
मध्य प्रदेश सरकार का आर्थिक अपराध विभाग ईओडब्ल्यू (Economic offence wing) माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय (Makhanlal Chaturvedi National University of Journalism and Communication) में हुए घोटाले (Scam) की जांच कर रहा है. इस घोटाले के मुख्य आरोपी पूर्व कुलपति (Ex Vice Chancellor) बीके कुठियाला हैं. ईओडब्ल्यू (Eow) की जांच में खुलासा हुआ है कि बीजेपी (Bjp) शासन के दौरान 12 सौ से अधिक स्टडी और आईटी-कम्प्यूटर सेंटर खोले गए थे.  इसमे करोड़ों रुपयों की आर्थिक अनियमितता की बात सामने आई है. ईओडब्ल्यू के निर्देश के बाद यूनिवर्सिटी स्तर पर जांच के लिए कमेटी गठित की गई है.

स्टडी सेंटर्स का बीजेपी कनेक्शन
बीजेपी सरकार ने बीके कुठियाला को कुलपति बनाया था. कुठियाला के कार्यकाल में 1297 सेंटर खोले गए थे. इनमें 191 मीडिया सेंटर और 1106 आईटी-कम्प्यूटर सेंटर शामिल हैं. ईओडब्ल्यू की जांच में 1297 स्टडी सेंटर्स में 259 सेंटर फर्जी पाए गए हैं. साथ ही सूत्रों ने बताया है कि कई सेंटर्स का कनेक्शन बीजेपी नेताओं और उनके करीबियों से जुड़ा है. उनकी सिफारिश से नियमों और मापदंडों को ताक पर रखकर स्टडी सेंटर्स खोलने की परमीशन दी गई. फर्जी सेंटरों में न ही तय मापदंडों के तहत इन्फ्रास्ट्रक्चर है और न ही दूसरी सुविधाएं. ये सेंटर्स सिर्फ कागजों पर चल रहे हैं.

Mcu - नियमों को ताक पर रखकर स्टडी सेंटर्स खोलने की परमीशन दी गई
नियमों को ताक पर रखकर स्टडी सेंटर्स खोलने की परमीशन दी गई


कुठियाला की सहमति से मध्यप्रदेश, जम्मू-कश्मीर, नोएडा, गाजियाबाद, दिल्ली में 29 अध्ययन और करीब 181 आईटी-कम्प्यूटर सेंटर खोले गए थे. 30 जून को यूनिवर्सिटी प्रबंधन ने ग्वालियर, दतिया और अमरकंटक कैंपस को बंद कर दिया था. यहां के छात्रों को दूसरे सेंटर में शिफ्ट कर दिया गया है. अब प्रदेश और दूसरे राज्यों में संचालित हो रहे 259 सेंटर्स पर बंद होने का संकट मंडरा रहा है.

नियमों को तक पर रखकर खोले गए स्टडी सेंटर्स
ईओडब्ल्यू की जांच में चौंकाने वाले खुलासे हो रहे हैं. यूनिवर्सिटी जांच के दौरान आ रहे तथ्यों के आधार पर स्टडी सेंटर्स को बंद करने का काम कर रही है. साथ ही उन लोगों की सूची भी तैयार की जा रही है, जिन सेंटर्स का बीजेपी और उनसे जुड़े करीबियों का कनेक्शन है.
Loading...

Mcu - जांच रिपोर्ट के आधार पर होगा स्टडी सेंटरों पर फैसला
जांच रिपोर्ट के आधार पर होगा स्टडी सेंटरों पर फैसला


ईओडब्ल्यू के डीजी केएन तिवारी ने बताया कि बीजेपी नेताओं और उनसे जुड़े करीबियों के स्टडी सेंटर्स से कनेक्शन की छानबीन की जा रही है. अभी फाइनल निर्णय नहीं लिया गया है. स्टडी सेंटर्स को बिना मापदंड और नियमों के तहत परमीशन दी गई. अब इन्हें बंद करने का निर्णय यूनिवर्सिटी ग्राउंड रिपोर्ट के आधार पर ले रही है. ईओडब्ल्यू स्टडी सेंटरों से जुड़ी जांच को अपनी चार्जशीट में शामिल करेगा.

ये भी पढ़ें -
इमरान खान ने दी परमाणु युद्ध की गीदड़भभकी, बोले- भारत से बातचीत का कोई मतलब नहीं
ममता बनर्जी ने सड़क किनारे बनाई चाय, वीडियो शेयर कर लिखी ये बात...

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए गाजियाबाद से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 22, 2019, 12:00 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...