मध्य प्रदेश में बच्चों की तस्करी : हैदाराबाद स्टेशन पर मिले बालाघाट के 29 बाल मज़दूर

टीम इन बच्चों को रेस्क्यू कर ट्रेन से भोपाल लेकर आयी. बच्चों से पूछताछ कर उनके घर और परिवार के बारे में पता लगाकर अब उनके घर बालाघाट भेजा जा रहा है

Puja Mathur | News18 Madhya Pradesh
Updated: July 22, 2019, 5:25 PM IST
मध्य प्रदेश में बच्चों की तस्करी : हैदाराबाद स्टेशन पर मिले बालाघाट के 29 बाल मज़दूर
29 बाल मज़दूर मुक्त
Puja Mathur | News18 Madhya Pradesh
Updated: July 22, 2019, 5:25 PM IST
मध्य प्रदेश में बच्चों की तस्करी हो रही है. उन्हें मज़दूरी कराने के लिए तस्करी कर दूसरे प्रदेशों में ले जाया जा रहा है. ऐसे ही 29 बाल मज़दूरों को हैदराबाद पुलिस ने दलालों के हाथ से मुक्त कराया. सभी बच्चे  मध्य प्रदेश के  बालाघाट ज़िले के रहने वाले हैं. उनकी उम्र 10 से 14 साल के बीच है.

बच्चों की तस्करी
मध्य प्रदेश में मानव तस्करी का खुलासा हुआ है. गिरोह के तार चेन्नई से जुड़े थे. बालाघाट ज़िले के इन बच्चों को चेन्नई ले जाया गया था. बच्चों को बंधुआ बनाकर रखा गया था. दलालों ने वहां पहले जूस की एक फैक्ट्री में बच्चों से काम कराया. उसके बाद दो दलाल उन्हें लेकर मुंबई जा रहे थे. हैदराबाद स्टेशन पर जीआरपी की नज़र इन बच्चों पर पड़ गयी. पुलिस को देखते हुए दलाल भाग खड़े हुए.

भोपाल लाए गए बच्चे

हैदराबाद पुलिस ने भोपाल पुलिस को सूचना दी. उसके बाद जीआरपी औ महिला बाल विकास विभाग की एक टीम यहां से हैदराबाद के लिए रवाना हुई. टीम इन बच्चों को रेस्क्यू कर ट्रेन से भोपाल लेकर आयी. यहां पहुंचते ही चाइल्ड लाइन की टीम भी पहुंच गयी. बच्चों से पूछताछ कर उनके घर और परिवार के बारे में पता लगाकर अब उनके घर बालाघाट भेजा जा रहा है.

ये भी पढ़ें-मिशन चंद्रयान-2 पर रतलाम के इस परिवार की भी टिकी थीं निगाहें

मिशन चंद्रयान-2: MP का कैमोर शहर चर्चा में क्यों है?
Loading...



News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 22, 2019, 5:05 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...