कोरोना की चेन तोड़ने भोपाल में नया फॉर्मूला, हॉटस्पॉट जहांगीराबाद से 3000 लोगों को किया शिफ्ट
Bhopal News in Hindi

कोरोना की चेन तोड़ने भोपाल में नया फॉर्मूला, हॉटस्पॉट जहांगीराबाद से 3000 लोगों को किया शिफ्ट
स्वास्थ्य विभाग की टीम के साथ ही पुलिस के जवान तैनात किए गए हैं.

इस फॉर्मूले के तहत पॉजिटिव आने वाले मरीजों के आसपास रहने वाले घरों को खाली कर शहर के सुरक्षित स्थानों में शिफ्ट किया जा रहा है.

  • Share this:
भोपाल. मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के सबसे ज्यादा संक्रमित और हॉटस्पॉट जहांगीराबाद इलाके में शिफ्टिंग फॉर्मूला लागू कर दिया गया है. प्रशासन इस नए प्रयोग के तहत इलाके में तेजी से फैल रहे कोरोना वायरस (Coronavirus) की चेन को तोड़ने की कोशिश की जा रही है. इस फॉर्मूले के तहत बड़ी संख्या में लोगों को इस इलाके से बाहर निकालकर शहर शहर के अलग-अलग स्थानों पर शिफ्ट जा रहा है.

राजधानी भोपाल (Bhopal) का जहांगीराबाद (Jahangirabad) प्रदेश का सबसे ज्यादा संक्रमण वाला इलाका बन गया है. यहां पर लगातार मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है. यही कारण है कि अब प्रशासन ने बड़ा कदम उठाते हुए शिफ्टिंग फॉर्मूले को यहां पर लागू किया है. इस फॉर्मूले के तहत पॉजिटिव आने वाले मरीजों के आसपास रहने वाले घरों को खाली कर शहर के सुरक्षित स्थानों में शिफ्ट किया जा रहा है.

3000 लोगों को किया शिफ्ट



प्रशासन ने जहांगीराबाद इलाके में अपनी पूरी ताकत झोंक दी है. यहां पर पुलिस के अलावा राजस्व, स्वास्थ्य, नगर निगम और जिला प्रशासन की टीमें तैनात हैं. यहां पर बड़ी तेजी से सैंपल इनका काम चल रहा है. हालांकि लोगों के सहयोग नहीं करने की वजह से सैंपल लेने में स्वास्थ विभाग के अमले को काफी दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है. यही कारण है कि अब जिस घर में कोई पॉजिटिव मरीज निकलता है तो उसके आस-पास के रहने वाले और संपर्क में आने वाले ज्यादा से ज्यादा लोगों को बसों के जरिए दूसरे इलाकों में शिफ्ट किया जाता है. अभी तक 3000 से ज्यादा लोगों को शिफ्ट किया जा चुका है. प्रशासन का मानना है कि यदि लोगों को उस संक्रमित क्षेत्र से निकाल कर सुरक्षित स्थान पर रखा जाएगा तो और उनकी चेन तोड़ने में मदद मिलेगी.
बसों का किया इंतजार

जहांगीराबाद इलाके में करीब 125000 लोग रहते हैं. यहां पर तेजी से फैल रहे संक्रमण को देखते हुए प्रशासन ने अब लोगों को शिफ्ट करने के फॉर्मूले पर काम करना शुरू कर दिया है. यही कारण है कि अब इलाके में बसों को लगा दिया गया है. मरीज की रिपोर्ट पॉजिटिव आने पर तत्काल उस इलाके को चिन्हित करने के बाद प्रशासन तत्काल परिवहन विभाग की मदद से बसों के जरिए उन लोगों को आसपास के इलाकों में बने अस्थाई क्वारंटाइन सेंटर में शिफ्ट करते हैं. हेड क्वार्टर एसपी धर्मवीर यादव ने बताया कि लोगों को दूसरी जगह शिफ्ट करने के दिशा में लगातार प्रशासन काम कर रहा है. पुलिस ने इलाके में कड़ी सुरक्षा व्यवस्था लगाई है. इलाके में आने जाने पर पूरी तरीके से प्रतिबंध लगाया गया है. बैरिकेट्स लगाए गए हैं और हर बैरिकेड पर पुलिस को तैनात किया गया है. इसके अलावा स्वास्थ्य विभाग की टीम के साथ ही पुलिस के जवान तैनात रहते हैं.

ये भी पढ़ें:

COVID-19 : मध्य प्रदेश के खरीदी केंद्रों में किसानों को मोदी मंत्र के साथ ये 'गिफ्ट' देगा BJP किसान मोर्चा

कोरोना संकट के बीच भोपाल में Water Crisis, 12 फीसदी बोर सूखे, रोजाना 70 शिकायतें 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज