MP पुलिस नहीं करती ये 5 बड़ी लापरवाहियां, तो बच सकती थी मासूमों की जान

सतना के चित्रकूट से किडनैप बच्चों की हत्या के मामले में एमपी पुलिस की नाकामी सामने आई है. अपहरणकर्ताओं ने फिरौती की रकम लेने के बाद भी दोनों मासूमों की हत्या कर दी.

News18 Madhya Pradesh
Updated: February 24, 2019, 5:30 PM IST
MP पुलिस नहीं करती ये 5 बड़ी लापरवाहियां, तो बच सकती थी मासूमों की जान
सांकेतिक तस्वीर
News18 Madhya Pradesh
Updated: February 24, 2019, 5:30 PM IST
चित्रकूट अपहरण और हत्‍याकांड में रीवा आईजी चंचल शेखर ने प्रेस नोट जारी कर सफाई दी है. आईजी ने कहा है कि लगातार प्रयास करने के बाद भी अपहरणकर्ताओं का पता नहीं चल पाया. व्यावसायिक, पारिवारिक कनेक्शन के आधार पर भी जांच की गई, लेकिन कोई कोई सुराग नहीं मिला था. फिरौती मांगने के बाद संदेहियों का स्कैच तैयार कराया गया था, फिर भी आरोपी पकड़ से दूर रहे. आईजी ने कहा कि किसी राह चलते व्यक्ति से फोन लेकर फिरौती मांगे जाने की वजह से आरोपी पकड़ में नहीं आ सके थे. गाड़ी के नंबर के आधार पर एक आरोपी रोहित द्विवेदी को पकड़ा गया था.

सतना के चित्रकूट से किडनैप बच्चों की हत्या के मामले में एमपी पुलिस की नाकामी सामने आई है. सीएम कमलनाथ ने शनिवार को ही पूरे मामले में नाराजगी जताई थी, बावजूद इसके पुलिस महकमे की रणनीति फेल रही. अपहरणकर्ताओं ने फिरौती की रकम लेने के बाद भी दोनों मासूमों की हत्या कर दी.

चित्रकूट अपहरण व हत्याकांड में एमपी पुलिस की 5 बड़ी लापरवाही-


  1. 24 घंटे से ज्यादा चित्रकूट में रहने के बावजूद पुलिस अपहरणकर्ताओं को ट्रेस नहीं कर पाई.

  2. 20 लाख रुपए की फिरौती लेने के बावजूद अपहरणकर्ता पुलिस की गिरफ्त से दूर रहे.

  3. संदेहियों से ठीक तरीके से पूछताछ नहीं करने की वजह से पुलिस को पुख्ता इनपुट नहीं मिले.

  4. Loading...

  5. शहर छोड़ कर जंगलों में सर्चिंग कर पुलिस ने समय बरबाद किया.

  6. नाकेबंदी और पेट्रोलिंग ठीक तरीके से नहीं होने की वजह से आरोपी आसानी से उत्‍तरनप्रदेश पहुंच गए.


ये भी पढ़ें- MP: सतना से अगवा जुड़वां बच्चों की मिली लाश, लोगों ने पुलिस पर किया पथराव, धारा 144 लागू

ये भी पढ़ें- जुड़वां बच्चों की हत्या का मामला : CM ने परिजनों से की बात, सख्त कार्रवाई का दिया भरोसा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए बांदा से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 24, 2019, 2:35 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...