होम /न्यूज /मध्य प्रदेश /5 साल का गजेन्द्र सिंह बना पुलिस आरक्षक, वजह जान हो जाएंगी आंखें नम

5 साल का गजेन्द्र सिंह बना पुलिस आरक्षक, वजह जान हो जाएंगी आंखें नम

Katni News: 5 साल के नन्हे आरक्षक गजेन्द्र को उनकी मां की मौजूदगी में एएसपी ने ज्वाइनिंग लैचर सौंपा,

Katni News: 5 साल के नन्हे आरक्षक गजेन्द्र को उनकी मां की मौजूदगी में एएसपी ने ज्वाइनिंग लैचर सौंपा,

Katni ki Khabar. 5 साल के गजेन्द्र मरकाम को पुलिस कॉन्सटेबल बनाया गया है. उसे नियुक्ति पत्र सौंप दिया गया है. गजेन्द्र ...अधिक पढ़ें

भोपाल. ये खबर बहुत मार्मिक है. इसे पढ़कर दिलभर आएगा और आंखें नम हो जाएंगी. मध्य प्रदेश में पांच साल के एक बच्चे को पुलिस कॉन्सटेबल (Police Constable) बनाया गया है. उसे अनुकंपा नियुक्ति (Compassionate Appointment) दी गयी है. बच्चे के पिता का पांच साल पहले निधन हो गया था. उस वक्त ये बच्चा पैदा ही हुआ था. प्रदेश और संभवत: देश में ये पहला मौका है जब इतना छोटा बच्चा पुलिस में शामिल हुआ है.

ये खबर कटनी की है. यहां गजेन्द्र मरकाम को पुलिस कॉन्सटेबल बनाया गया है. उसे नियुक्ति पत्र सौंप दिया गया है. गजेन्द्र अभी सिर्फ 5 साल का है. नियुक्ति पत्र सौंपते वक्त सबकी आंखें नम हो गयीं.

पिता की ड्यूटी के दौरान मौत
मध्यप्रदेश में पहली बार कटनी में एक नन्हे सिपाही का पुलिस फ़ोर्स में दाख़िला हुआ है. महज 5 साल के गजेंद्र मरकाम की अनुकंपा नियुक्ति हुई है. वो अपने पिता श्याम सिंह मरकाम की जगह लेगा. इसकी वजह ये है कि श्याम सिंह की 2017 में दिल का दौरा पड़ने से मौत हो गई थी. वो उस वक्त नरसिंहपुर में प्रधान आरक्षक के तौर में पदस्थ थे. नियम के मुताबिक खुद शासन की तरफ़ से उनकी पत्नी सविता मरकाम को अनुकम्पा नियुक्ति दी जाती. शासन ने उन्हें आवेदन देने का मौका दिया. लेकिन सविता ने खुद नौकरी न लेते हुए अपने बेटे को नौकरी देने का प्रस्ताव दिया.

ये भी पढ़ें- अजब संजोग! शिवरात्रि से पहले 5 फीट ऊंचे पेड़ पर एक महीने से रोज दर्शन दे रहे नागराज, PHOTOS

पहले पढ़ाई करेगा, 18 साल में संभालेगा नौकरी
जब श्याम सिंह की मौत हुई थी उस वक्त गजेन्द्र पैदा ही हुआ था. श्याम की पत्नी और गजेन्द्र की मां सविता ने अपने 5 साल के बेटे को अनुकंपा नियुक्ति देने के लिए सभी जरूरी कागजात के साथ शपथ पत्र सौंपा. शासन ने प्रक्रिया पूरी की और अब जाकर काम पूरा हुआ. शासन की तरफ से एसएसपी सुनील जैन ने बच्चे को जॉइनिंग लेटर दिया. गजेन्द्र फिलहाल अपनी पढ़ाई करेगा और जब वो 18 साल का हो जाएगा तब आरक्षक का पद संभालेगा. तब तक बाल आरक्षक को आधी पगार और पत्नी को पेंशन मिलेगी.

पुलिस का बयान
एसएसपी सुनील कुमार जैन ने बताया कि बाल आरक्षक के रूप में गजेन्द्र कुमार मरकाम को अनुकंपा नियुक्ति दी गयी है. इसके पिता पुलिस विभाग में प्रधान आरक्षक थे, जो नरसिंहपुर में ड्राइवर के पद पर पदस्थ थे. ड्यूटी के दौरान उनका निधन हो गया था. नरसिंहपुर से अनुकंपा नियुक्ति के लिये ये केस आया था. बाल आरक्षक जब पढ़ाई पूरी कर लेगा तब 18 साल का होने के बाद दूसरी अहर्ताएं पूरी करने पर पुलिस विभाग के नियम के मुताबिक़ उसे पूर्ण रूप से आरक्षक की नियुक्ति दी जाएगी.

Tags: Bhopal News Updates, Madhya pradesh latest news, Madhya pradesh Police

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें