लाइव टीवी

मुख्यमंत्री तीर्थ दर्शन योजना के लिए आवेदन शुरू, इस बार 800 लोगों को मिलेगा यात्रा का मौका
Bhopal News in Hindi

Puja Mathur | News18 Madhya Pradesh
Updated: December 12, 2019, 4:54 PM IST
मुख्यमंत्री तीर्थ दर्शन योजना के लिए आवेदन शुरू, इस बार 800 लोगों को मिलेगा यात्रा का मौका
800 तीर्थ यात्री 27 दिसम्बर को जाएंगे अजमेर शरीफ.

मुख्यमंत्री तीर्थ दर्शन योजना (Mukhyamantri Teerth Darshan Scheme) के तहत 27 दिसम्बर को हबीबगंज स्टेशन (Habibganj Station) से करीब 800 तीर्थ यात्री अजमेर शरीफ (Ajmer Sharif) के लिए रवाना होंगे. इसमें भोपाल से 400, सीहोर से 200 और उज्जैन से 200 यात्री शामिल होंगे.

  • Share this:
भोपाल. मुख्यमंत्री तीर्थ दर्शन योजना (Mukhyamantri Teerth Darshan Scheme) के तहत 27 दिसम्बर को भोपाल के हबीबगंज स्टेशन (Habibganj Station) से लगभग 800 तीर्थ यात्री राजस्थान के अजमेर शरीफ (Ajmer Sharif) के लिए जाएंगे. इस तीर्थ यात्रा के लिए 20 दिसम्बर तक आवेदन आमंत्रित किए गये हैं. अजमेर तीर्थ यात्रा भोपाल के हबीबगंज स्टेशन से शुरू होकर सीहोर, उज्जैन होती हुई 30 दिसम्बर को अजमेर शरीफ पहुंचेगी. इसमें भोपाल से 400, सीहोर से 200 और उज्जैन से 200 यात्री शामिल होंगे. इस योजना में प्रदेश के 60 वर्ष अथवा अधिक आयु के बुजुर्ग, जो कि आयकर दाता नहीं हैं, उन्‍हें अलग-अलग तीर्थ स्थानों की यात्रा कराई जाती है.

यात्रा के दौरान मिलती है ये सुविधा
यात्रा के दौरान भोजन, नाश्ता, चाय आदि निशुल्क उपलब्ध कराया जाता है. शासन द्वारा यात्रियों के रूकने तथा तीर्थ-स्थल तक बस द्वारा लाने-ले जाने की संपूर्ण व्यवस्था भी की जाती है. 65 वर्ष से अधिक आयु के पती-पत्नी अगर साथ यात्रा कर रहे हैं, तो उन्हें एक अनुरक्षक साथ ले जाने की पात्रता है. इसी तरह 60 प्रतिशत दिव्यांग भी इस यात्रा के लिये पात्र हैं तथा उन पर आयु का बंधन लागू नहीं होगा.

तीर्थ दर्शन के पात्र व्यक्ति

>>मध्यप्रदेश का मूल निवासी हो.
>>आयकर दाता न हो.
>>60 वर्ष की आयु पूर्ण कर चुका हो.>>महिलाओं के मामले में 2 वर्ष की छूट अर्थात 58 वर्ष की आयु पूर्ण कर चुकी हो.
>>ऐसे दिव्यांग नागरिक जिनकी विकलांगता 60 प्रतिशत से अधिक हो, आयु का बंधन नहीं है.
>>यदि पति-पत्नी साथ यात्रा करना चाहते हैं तो दोनों में से किसी एक की पात्रता होने पर दूसरा साथ जा सकता है, भले ही उसकी आयु 60 वर्ष से कम हो.

एक तीर्थ स्‍थल की यात्रा का मौका
इस योजना के अंतर्गत व्यक्ति को अपने जीवन काल में किसी एक तीर्थ स्थल की एक बार यात्रा का लाभ दिए जाने का प्रावधान. तीर्थ यात्रा हेतु समूह बनाकर आवेदन किया जा सकता है. समूह का मुखिया मुख्य आवेदक होगा, लेकिन ऐसा समूह 25 व्यक्तियों से अधिक का नहीं होगा. नवीनतम प्रावधान अनुसार पूर्व में यात्रा किए पांच वर्ष की अवधि पूर्ण होने के उपरांत पुनः यात्रा के लिए पात्र होंगे, साथ ही वर्तमान के तीर्थ स्थलों के समीप के तीर्थों की यात्रा का प्रावधान किया गया है. जबकि यात्रा हेतु शारीरिक एवं मानसिक रूप से सक्षम हों और किसी संक्रामक रोग जैसे टीबी, कोंजेष्टिव, कार्डियाक, श्‍वास में अवरोध सम्बन्धी बीमारी, कोरोनरी अपर्याप्तता, कोरोनरी थ्रोम्बोसिस, मानसिक व्याधि, संक्रमण, कुष्ठ रोग आदि से ग्रसित न हों.

ऐसे करना होता है आवेदन
आवेदन निर्धारित प्रारूप में दो प्रतियों में भरनी होती हैं. आवेदन पत्र हिंदी में भरा जाना है. जबकि आवेदन के निर्धारित स्थान पर नवीनतम रंगीन पासपोर्ट साइज़ फोटो लगाना होता है. इसके अलावा निवास प्रमाण पत्र जैसे समग्र आईडी युक्त पात्रता पर्ची (राशन कार्ड), ड्राइविंग लाइसेंस, बिजली बिल, मतदाता पहचान पत्र, आधार कार्ड, अथवा निवास के सम्बन्ध में अन्य कोई विधि मान्य दस्तावेज में से कम से कम एक दस्तावेज की प्रतिलिपि देना जरूरी है. जबकि आपात स्थिति में निकट संबंधियों से संपर्क हेतु किन्ही दो व्यक्तियों के मोबाइल नंबर तथा निवास का पता देना अनिवार्य है. कम से कम एक व्यक्ति का मोबाइल नंबर आवश्यक है.

बहरहाल, तहसील/उप तहसील कार्यालय में आवेदन देने की व्यवस्था की गई है.
प्रशासनिक व्यवस्था एवं जन सुविधाओं को ध्यान में रखते हुए कलेक्टर द्वारा नियत स्थान/कार्यालय जैसे नगर पालिका, नगर निगम, जनपद पंचायत कार्यालय इत्यादि भी हो सकते हैं.

देखभाल हेतु सहायक की पात्रता
65 वर्ष से अधिक आयु के एकल तीर्थ यात्री, 65 वर्ष से अधिक आयु के पति-पत्नी एवं 60 प्रतिशत से अधिक विकलांग वाले व्यक्ति को सहायक (केयर टेकर ) ले जाने की पात्रता है. समूह/जत्था के रूप में यात्रा करने पर 3 से 5 व्यक्तियों के समूह को एक केयर टेकर की पात्रता होगी.

ये भी पढ़ें-

कमलनाथ के मंत्री आरिफ अकील का विवादित बयान, CAB को लेकर कही ये बात

जबलपुर पहुंचे सुभाष घई, कमलनाथ सरकार को दी ये सलाह

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 12, 2019, 4:50 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर