COVID-19: भोपाल और इंदौर में 82% मरीज, प्रदेश में 429 कंटेनमेंट एरिया सील
Bhopal News in Hindi

COVID-19: भोपाल और इंदौर में 82% मरीज, प्रदेश में 429 कंटेनमेंट एरिया सील
सांकेतिक तस्वीर

MP COVID-19 Update: कोरोना का संक्रमण अब बड़े शहरों से छोटे शहरों की तरफ बढ़ रहा है. प्रदेश में कोरोना संक्रमण प्रभावित जिलों की संख्या बढ़कर 25 हो गई है.

  • Share this:
भोपाल. प्रदेश में कोरोना (Coronavirus) का संक्रमण अब बड़े शहरों से छोटे शहरों की तरफ बढ़ रहा है. प्रदेश में कोरोना संक्रमण प्रभावित जिलों की संख्या बढ़कर 25 हो गई है, लेकिन भोपाल (Bhopal) और इंदौर (Indore) का आंकड़ा सबसे ज्यादा है. प्रदेश के कुल कोरोना संक्रमित मरीजों का 82 फ़ीसदी मरीज भोपाल और इंदौर से है. प्रदेश के पश्चिमी हिस्से वाले जिलों में कुल 97 फ़ीसदी कोरोना संक्रमित मरीज हैं.

6 जिलों में एक सप्ताह से कोरोना का कोई नया केस नहीं

प्रदेश के लिए थोड़ी राहत भरी खबर यह जरूर है कि बीते 1 हफ्ते में 6 जिले में कोई नया कोरोना का पॉजिटिव केस दर्ज नहीं हुआ है. सरकार का फोकस भोपाल और इंदौर पर सबसे ज्यादा है, क्योंकि इन्हीं दो शहरों में कोरोना वायरस के सबसे ज्यादा मामले हैं. इंदौर के बाद भोपाल कोरोना संक्रमितो का हॉटस्पॉट बना है और अब सरकार इन दो शहरों पर सबसे ज्यादा फोकस कर रही है. राज्य सरकार के जारी आंकड़ों के मुताबिक प्रदेश के अस्पतालों में कोरोना संक्रमित भर्ती संख्या 1700 के करीब हैं.



राज्य में 429 कंटेनमेंट एरिया पूरी तरह से सील
राज्य सरकार ने कोरोना संक्रमण प्रभावित जिलों में 429 कंटेनमेंट एरिया घोषित किए हैं, जहां पर पूरी तरीके से इलाके को सील किया गया है और किसी भी तरीके से बाहरी लोगों की आवाजाही प्रतिबंधित की गई है. 429 कंटेनमेंट एरिया में 24 लाख की आबादी प्रभावित हो रही है.

20 लाख लोगों का हो चुका है सर्वे

राज्य सरकार का दावा है कि 20 लाख लोगों का सर्वे अब तक कराया जा चुका है और 16 हजार से ज्यादा सैंपल अलग अलग लैब में जांच के लिए भेजे गए हैं. राज्य सरकार सार्थक ऐप के जरिए सर्विलेंस का काम कर रही है और कोरोना संक्रमितों की मॉनिटरिंग की जा रही है. राज्य सरकार के मुताबिक अब तक कोरोना संक्रमित के लिए बनाए गए आइसोलेशन में से 28 फ़ीसदी का इस्तेमाल हो रहा है जबकि 17 फ़ीसदी आईसीयू का इस्तेमाल हो रहा है. सरकार की कोशिश है कि कोरोना वायरस फैलने से रोका जाए और इसको लेकर अब सैंपल कलेक्ट करने और सैंपल की जांच में तेजी लाने की कवायद की जा रही है.

प्रदेश के एडिशनल चीफ सेक्रेटरी की अपील

प्रदेश के एडिशनल चीफ सेक्रेटरी मोहम्मद सुलेमान के मुताबिक अभी इस बात की जरूरत है कि लोग कोरोना संक्रमण से बचने के लिए एक दूसरे के संपर्क में ना आएं. सोशल डिस्टेसिंग का सख्ती के साथ पालन हो और यदि किसी को कोरोना संक्रमण के लक्षण नजर आएं तो वह उसे तत्काल डॉक्टर को दिखाएं. छिपाने का काम नहीं किया जाए. इसी के जरिए कोरोनावायरस की रोकथाम मुमकिन है.

ये भी पढ़ें: इंदौर में अब तक 891 पॉजिटिव केस, MP में कोरोना मरीजों की संख्या बढ़कर 1402 हुई

BSP विधायक का दावा, शिवराज सरकार में बनेंगीं मंत्री
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज