ये पुलिस थाना नहीं अन्नदाता का दर है, 60 दिन में खिला चुका है 54 हजार गरीबों को खाना
Bhopal News in Hindi

ये पुलिस थाना नहीं अन्नदाता का दर है, 60 दिन में खिला चुका है 54 हजार गरीबों को खाना
भोपाल के कमल नगर पुलिस स्टेशन में चल रहा है गरीबों के लिए किचन

कमला नगर थाना पुलिस (police) ने ये नेक काम शुरू किया तो जनता (public) उसके साथ आ गयी. इसी मदद से पुलिस की यह रसोई अभी तक चल रही है.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
भोपाल.कोरोना आपदा (corona) में एक पुलिस थाना (police thana) ऐसा भी है, जहां गरीबों और जरूरतमंदों को लगातार खाना(food)  खिलाया जा रहा है. थाने में रसोई (kitchen) खुली हुई है जो 60 दिन में 54 हजार लोगों को खाना खिला चुकी है. इस थाना परिसर में रोज सुबह शाम भोजन के लिए लंबी लाइन लगती है. पुलिस रोजाना 900 लोगों को ये पैकेट दे रही है. इसके अलावा प्रशासन की मदद से ज़रूरतमंदों को राशन और जरूरी सामान भी पहुंचाया जा रहा है.पुलिस के इस काम में इलाके की जनता भी भरपूर सहयोग कर रही है.

बात राजधानी भोपाल के कमला नगर थाने की हो रही है. लॉक डाउन के दौरान थाना परिसर में पुलिस ने रसोई खोली है. इसमें जनता के सहयोग से रोज खाना बनाया जा रहा है और ये खाना फिर गरीब और जरूरतमंद लोगों तक पहुंचाया जाता है. कमला नगर थाना अब गरीबों के लिए एक ठिकाना बन गया है. उन्हें पता है कि इस आपदा के समय में उन्हें थाने में आसानी से खाना मिल जाएगा. इलाके के गरीब और जरूरतमंद लोग सुबह और शाम के वक्त थाने में भोजन के पैकेट लेने के लिए आते हैं.

60 दिन में 54 हजार लोगों को बांटे पैकेट
कमला नगर थाने में ये रसोई 24 मार्च को खोल दी गयी थी. तब से अब तक हर रोज सुबह-शाम गरीबों को यहां खाना बांटा जा रहा है. इस थाने के कैंपस में कोई बाहरी आदमी नहीं बल्कि स्टाफ ही सुबह और शाम खाना बनता है और फिर 450-450 पैकेट बनाकर बापू नगर, राजीव नगर, मांडवा बस्ती के लोगों को बांटे जाते हैं.इस तरह पुलिस अब तक 60 दिन में 54 हजार लोगों को खाना खिला चुकी है.



पुलिस को मिला जनसहयोग


कमला नगर थाना पुलिस ने ये नेक काम शुरू किया तो जनता उसके साथ आ गयी. इसी मदद से पुलिस की यह रसोई अभी तक चल रही है. जन सहयोग से भोजन के पैकेट उपलब्ध होते हैं. इसके अलावा पुलिस अपनी रसोई के जरिए भी लोगों को खाने के पैकेट देती है. इतना ही नहीं थाने आने वाला व्यक्ति पुलिस को अपनी समस्या बताता है, तो अगले दिन या फिर तत्काल उसके घर मदद पहुंचाई जाती है. पुलिस अधिकारियों का मानना है आपदा के समय में गरीबों की मदद करना उनकी ड्यूटी का हिस्सा है.

ये भी पढ़ें-

देखें VIDEO: प्रेमी के सामने दिन दहाड़े लड़की का अपहरण! वो चिल्लाती रही लेकिन...

पटवारी साहब की शादी में झूमकर नाचा गांव, मुश्किल में आए दूल्हे के पिताजी



 
First published: May 26, 2020, 9:21 AM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading