MP में प्रशासनिक फेरबदल : पुरुष नसबंदी केस में प्रज्ञा तिवारी पर गिरी गाज, 5 IPS अफसरों को मिली नयी पोस्टिंग
Bhopal News in Hindi

MP में प्रशासनिक फेरबदल : पुरुष नसबंदी केस में प्रज्ञा तिवारी पर गिरी गाज, 5 IPS अफसरों को मिली नयी पोस्टिंग
मध्य प्रदेश में प्रशासनिक फैसले - पांच IPS अफसरों को मिली नयी पोस्टिंग

परिवार नियोजन कार्यक्रम में पुरुषों की भागीदारी बढ़ाने के आदेश पर हाय-तौबा मचने के बाद मध्य प्रदेश सरकार ने इसे वापस ले लिया था. अब टार्गेट पूरा ना करने पर ना तो किसी की नौकरी जाएगी और न ही सैलरी वापस ली जाएगी.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
भोपाल.पुरुष नसबंदी (Male Sterilization) वाले केस में स्वास्थ्य विभाग ने एक और कार्रवाई की है. एनएचएम (NHM) में परिवार कल्याण शाखा की उप संचालक डा. प्रज्ञा तिवारी को भी हटा दिया गया है.उनकी जगह डा. राजीव श्रीवास्तव को नियुक्त किया गया है. इससे पहले इस मामले में मिशन संचालक छवि भारद्वाज को हटाया जा चुका है.मध्य प्रदेश में हुए अन्य प्रशासनिक फेरबदल में चार सीनियर आईपीएस अधिकारियों को नयी पोस्टिंग मिल गयी है.

मध्य प्रदेश में पुरुष नसबंदी का टारगेट पूरा ना करने पर बहुउद्देश्यीय स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं की सेवा समाप्त करने और सैलरी वापिस लेने का आदेश पिछले दिनों एनएचएम ने जारी किया था. आदेश आते ही हड़कंप मच गया था. उसके बाद स्वास्थ्य विभाग ने तत्काल कार्रवाई करते हुए ये आदेश जारी करने वाली मिशन संचालक आईएएस अफसर छवि भारद्वाज को हटा दिया था. उन्हें मंत्रालय में OSD बनाकर भेज दिया गया. अब इसी मामले में दूसरी गाज एनएचएम में परिवार कल्याण शाखा की उप संचालक डा. प्रज्ञा तिवारी पर गिरी है. उनका प्रभार छीन लिया गया है. इसके बदले अब प्रज्ञा को प्री सर्विस शिक्षा शाखा और अस्पताल प्रशासन का चार्ज दिया गया है. प्रज्ञा तिवारी अब तक शिशु स्वास्थ्य पोषण, परिवार कल्याण कार्यक्रम, और नेशनल आयरन प्लस इनिशिएटिव(निपि) में पोस्ट थी, उनका प्रभार डा. राजीव श्रीवास्तव को सौंपा गया है.

पुरुष नसबंदी पर ये था सरकार का आदेश
स्वास्थ्य विभाग ने राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण-4 (NFHS-4) की रिपोर्ट का हवाला देते हुए बताया था कि राज्य में वर्ष 2019-20 में सिर्फ 0.5 प्रतिशत पुरुषों ने ही नसबंदी करायी. ये लक्ष्य से बेहद कम है. राज्य के राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन (NHM) ने राज्य के कमिश्नर, जिला अधिकारियों और मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारियों (CHMO) के नाम से आदेश जारी किया था. इसमें कहा गया था कि ऐसे सभी पुरुष बहुउद्देश्यीय स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं (MPHW)s की लिस्ट बनाएं, जिन्होंने इस दौरान एक भी पुरुष की नसबंदी नहीं करवाई या कुछ काम ही नहीं किया. ऐसे स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं को 'शून्य कार्य आउटपुट' मानकर उन पर काम नहीं तो वेतन नहीं का नियम लागू किया जाएगा. आदेश के तहत इन MPHWs की सेवा समाप्त करने की बात थी.



सरकार ने किया था रोल बैक


परिवार नियोजन कार्यक्रम में पुरुषों की भागीदारी बढ़ाने के आदेश पर हाय-तौबा मचने के बाद मध्य प्रदेश सरकार ने इसे वापस ले लिया था. अब टार्गेट पूरा ना करने पर ना तो किसी की नौकरी जाएगी और न ही सैलरी वापस ली जाएगी. इससे पहले एनएचएम ने पुरुष बहुउद्देश्यीय स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं (MPHWs) की सूची तैयार करने का आदेश दिया था, जो साल 2019-20 में एक भी पुरुष की नसबंदी नहीं करा पाए. सरकार ने ऐसे कार्यकर्ताओं का वेतन रोकने और उन्हें जबरन रिटायरमेंट देने की चेतावनी दी थी.

IPS अफसरों की नयी पोस्टिंग
हाल ही में पुलिस विभाग में हुए फेरबदल में कई आईपीएस अफसरों का तबादला किया गया था. उनमें से ट्रांसफर हुए 5 IPS अफसरों को आज नयी पोस्टिंग मिल गयी है. पांचों अफसरों को PHQ अटैच किया गया था. अब नये आदेश में DIG अनिल माहेश्वरी को सिलेक्शन ब्रांच, DIG संजय तिवारी को काउंटर इंटेलिजेंस स्पेशल ब्रांच, DIG ML छारी को प्रशासन ब्रांच, AIG मनोज कुमार प्रबंध ब्रांच और AIG सिद्धार्थ चोधरी को प्रशासन ब्रांच में पदस्थ किया गया है.

(भोपाल से रिपोर्टर पूजा माथुर और मनोज राठौर का इनपुट)

ये भी पढ़ें-

MP: पुरुष नसबंदी का आदेश देने वाली छवि भारद्वाज पर गिरी गाज, स्वास्थ्य मंत्रालय से हटायी गयीं

कमलनाथ सरकार का यू-टर्न, पुरुष नसबंदी टार्गेट पूरा नहीं करने पर न कटेगी सैलरी, न जाएगी नौकरी
First published: February 27, 2020, 3:20 PM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading